लाइव टीवी

ट्रंप प्रशासन को उम्मीद, अब अमेरिका के राजनयिकों पर प्रतिबंधों में ढील देगा चीन

News18Hindi
Updated: October 21, 2019, 3:55 PM IST
ट्रंप प्रशासन को उम्मीद, अब अमेरिका के राजनयिकों पर प्रतिबंधों में ढील देगा चीन
चीन के अमेरिकी राजनयिकों पर प्रतिबंधों के जवाब में ट्रंप प्रशासन ने भी चीनी राजनयिकों पर प्रतिबंध लगा दिए हैं.

चीन (China) की ओर से अमेरिकी राजनयिकों (US Diplomats) पर प्रतिबंध (Restrictions) लगाए जाने के बाद वॉशिंगटन (Wshington) ने भी पिछले सप्ताह घोषणा कर दी थी कि चीनी राजनयिकों (Chinese Diplomats) को अमेरिकी अधिकारियों के साथ बैठक से पहले उनके विदेश विभाग को सूचित करना होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 21, 2019, 3:55 PM IST
  • Share this:
बीजिंग. चीन (China) के साथ लंबे समय से चली आ रही तनातनी के बीच अब अमेरिका (US) को दोनों देशों के संबंधों में सुधार की उम्‍मीद जगी है. चीन में अमेरिकी राजदूत के मुताबिक, राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप प्रशासन (Donald trump Administration) को उम्मीद है कि चीन उनके राजनयिकों के स्थानीय अधिकारियों से मिलने पर लगाए गए प्रतिबंधों (Restrictions) में ढील देगा. बता दें कि चीन के अमेरिकी राजनयिकों (US Diplomats) पर लगाए गए प्रतिबंधों के जवाब में ट्रंप प्रशासन ने भी चीनी राजनयिकों (Chinese Diplomats) पर ऐसे ही प्रतिबंध लगा दिए हैं.

ब्रैंसटैड ने कहा, रद्द कर दी जाती है अधिकारियों से मिलने की अनुमति
वॉशिंगटन (Washington) ने पिछले सप्ताह घोषणा की थी कि चीनी राजनयिकों को अब अमेरिकी अधिकारियों के साथ बैठक से पहले विदेश विभाग को सूचित करना होगा. चीन में अमेरिकी राजनयिकों को स्थानीय अधिकारियों या शिक्षाविदों से मिलने के लिए राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग (President Xi Jinping) की सरकार से कई स्तर पर अनुमति लेनी पड़ती है. अकसर इस तरह के अनुरोधों को सरकार की ओर से नकार दिया जाता है. चीन में अमेरिकी राजदूत टेरी ब्रैंसटैड ने विदेशी पत्रकारों के साथ एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा, 'यहां तक कि अगर हमें चीन की सरकार की ओर से कभी अनुमति मिल भी जाती है, तो इसे अंतिम समय में रद्द कर दिया जाता है.'

राजनयिक तनाव के तौर पर देखी जा रही है अमेरिका की जवाबी कार्रवाई

अमेरिकी राजदूत टेरी ब्रैंसटैड (Terry Branstad) ने कहा, 'राजनयिकों के लिए लंबे समय तक ऐसी स्थिति बने रहना निराशाजनक है. हमें उम्मीद है कि ट्रंप प्रशासन की ओर से उठाए गए जवाबी कदम के कारण अमेरिकी राजनयिकों को चीन में बेहतर पहुंच मिल सकेगी.' अमेरिका की जवाबी कार्रवाई को दोनों देशों के बीच राजनयिक तनाव के रूप में देखा जा रहा है. बता दें कि दोनों देश पहले ही आपस में ट्रेड वॉर (Trade War) में शामिल हैं.

ये भी पढ़ें:

OPINION: कश्‍मीर पर नाकामी के बाद आतंकवाद का सहारा ले रहा पाकिस्‍तान
Loading...

ब्रिटिश शाही घराने में दरार! प्रिंस हैरी ने माना विलियम से अलग हो चुकी है राह

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 21, 2019, 3:55 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...