Home /News /world /

अमेरिका में भारतीय बिजनेसमैन सुबह हुआ अगवा, दोपहर को कार में मिली लाश

अमेरिका में भारतीय बिजनेसमैन सुबह हुआ अगवा, दोपहर को कार में मिली लाश

तुषार अत्रे एक आईटी कंपनी भी चलाते थे. जिसका काम सिलिकॉन वैली में फैला हुआ था.

तुषार अत्रे एक आईटी कंपनी भी चलाते थे. जिसका काम सिलिकॉन वैली में फैला हुआ था.

कैलिफोर्निया (California) के सेंटा क्रूज के रहने वाले 50 वर्षीय तुषार अत्रे सिलिकॉन वैली में कॉरपोरेट बिजनेस संभालने वाली अत्रेनेट (AtreNet) के मालिक थे. पिछले मंगलवार को तड़के सुबह 3 बजे उनके घर से उनका अपहरण हो गया. उन्हें आखिरी बार सफेद बीएमडब्ल्यू में देखा गया.

अधिक पढ़ें ...
  • IANS
  • Last Updated :
    वॉशिंगटन: अमेरिका (America) में एक भारतीय मूल के करोड़पति की रहस्यमयी मौत ने सबको हैरान कर दिया है. पिछले मंगलवार को कैलिफोर्निया  के सांता क्रूज में उनके घर से उनका अपहरण कर लिया गया था. कुछ घंंटोंं बाद उनकी लाश एक बीएमडब्ल्यू कार (BMW car) से मिली है. कैलिफोर्निया (California) के सेंटा क्रूज के रहने वाले 50 वर्षीय तुषार अत्रे सिलिकॉन वैली में कॉरपोरेट बिजनेस संभालने वाली अत्रेनेट (AtreNet) के मालिक थे. पिछले मंगलवार को तड़के सुबह 3 बजे उनके घर से उनका अपहरण हो गया. उन्हें आखिरी बार सफेद बीएमडब्ल्यू में देखा गया.

    सेंटा क्रूज काउंटी शेरिफ के अनुसार, अत्रे के घर से किसी के फोन करने पर उन्हें घटना की जानकारी मिली. उसी ने उनके अगवा होने की सूचना दी. इसके बाद मंगलवार दोपहर को तुषार की बॉडी बीएमडब्ल्यू में पाई गई.

    पुलिस को संंदिग्धों की तलाश 
    फेसबुक पर पुलिस ने बयान जारी करते हुए कहा, ''हमारे पास एक दुर्भाग्यपूर्ण खबर है. हमें कार में एक बॉडी मिली है.'' बाद में इसकी पहचान तुषार अत्रे के रूप में हुई. पुलिस के अनुसार ये मामला डकैती से जुड़ा हुआ लगता है. पुलिस ने कहा,  हमारे सामने सभी विकल्प खुले हुए हैं. हम सभी पहलुओं पर गौर कर रहे हैं. इस केस में हमें दो संदिग्ध लोगों की तलाश है.

    पुलिस को मिली जानकारी के अनुसार, जब कई संदिग्ध लोग उनके घर में घुसे तब तुषार अत्रे अपने घर में कई लोगों के साथ थे. इसके बाद वह लोग उन्हें पकड़कर उनकी गर्लफ्रेंड की बीएमडब्ल्यू में कहीं ले गए. ये जानकारी उनके घर में मौजूद लोगों ने दी.

    चरस और गांजे के कारोबार से जुड़ना महंगा पड़ा
    KION TV के मुताबिक अत्रे मार्केटिंग कंपनी के अलावा भांग का कारोबार भी करते थे. एक साल पहले ही उन्होंने गांजा और भांग का कारोबार शुरू किया था. इसकी बाकायदा उन्होंने मैन्युफैक्चरिंग कंपनी बनाई थी.

    इस इंडस्ट्री से जुड़े लोगों के अनुसार, तुषार अत्रे इस कारोबार में नए थे. उन्हें इसके नियम कायदे अच्छे से पता नहीं थे. उन्हें पता नहीं था कि इसमें लोगों को कैसे हैंडल किया जाता है. चरस और गांजे से जुड़े लोगों को अगर आपने सही समय पर पैसा नहीं दिया तो इसके बुरे परिणाम थोड़े दिनों बाद ही सामने आने लगते हैं.

    यह भी पढ़ें...
    पाकिस्तान को झटका: फ्रांस की संसद में PoK के राष्ट्रपति के कार्यक्रम पर भारत ने लगवाई रोक

    कश्मीर मुद्दे पर भारत को मिली बड़ी जीत, सऊदी अरब ने दिया अपना समर्थन

    Tags: America, Indian origin

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर