लाइव टीवी

बगदादी का पता बताने वाले मुखबिर की खुल सकती है किस्मत, मिलेगा 1.77 अरब रुपए का इनाम

News18Hindi
Updated: October 30, 2019, 10:45 PM IST
बगदादी का पता बताने वाले मुखबिर की खुल सकती है किस्मत, मिलेगा 1.77 अरब रुपए का इनाम
सीरिया के इदलिब प्रांत में बगदादी के ठिकाने पर हमले के दौरान मुखबिर मौजूद था और उसे दो दिन बाद उसके परिवार के साथ क्षेत्र से बाहर निकाल लिया गया था. फोटो.एपी

स्लामिक स्टेट सरगना अबू बकर अल-बगदादी (abu bakr al baghdadi) पर यह इनाम राशि रखी गई थी. वाशिंगटन पोस्ट (Washington Post) ने बुधवार को यह खबर दी. विशेष बलों ने सेना के श्वान दस्ते के साथ उत्तर पश्चिम सीरिया (West Syria) में बगदादी के सुरक्षित ठिकाने पर हमला किया और जब दुनिया के सबसे वांछित आतंकवादी ने भागने की कोशिश की तो उसका पीछा किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 30, 2019, 10:45 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. बेहद खुफिया तरीके से दुनिया के सबसे खूंखार आतंकवादी का पता बताने वाले मुखबिर को अमेरिका की ओर से 2.5 करोड़ डॉलर (करीब 1.77 अरब रुपए) की भारी भरकम इनाम राशि मिलने की संभावना है. इस्लामिक स्टेट सरगना अबू बकर अल-बगदादी (abu bakr al baghdadi) पर यह इनाम राशि रखी गई थी. वाशिंगटन पोस्ट (Washington Post) ने बुधवार को यह खबर दी. विशेष बलों ने सेना के श्वान दस्ते के साथ उत्तर पश्चिम सीरिया (West Syria) में बगदादी के सुरक्षित ठिकाने पर हमला किया और जब दुनिया के सबसे वांछित आतंकवादी ने भागने की कोशिश की तो उसका पीछा किया. उसे इमारत के नीचे बनी एक सुरंग में घेर लिया गया था.

अखबार ने 26 अक्टूबर को हुए हमले की जानकारी रखने वाले अमेरिकी और पश्चिम एशिया स्थित अधिकारियों के हवाले से कहा कि अमेरिकी कमांडो ने मुखबिर की सटीक जानकारी के आधार पर बगदादी के ठिकाने को ढेर कर दिया. इस्लामिक स्टेट के अंदर के ही इस मुखबिर ने सीरिया के आसपास बगदादी की गतिविधियों की जानकारी मुहैया कराई. खबर में कहा गया है कि व्यक्ति की राष्ट्रीयता का खुलासा नहीं किया गया है और उसे अमेरिका से 2.5 करोड़ डॉलर का इनाम मिलने की संभावना है जो बगदादी का पता बताने पर रखा गया था. बगदादी को 26 अक्टूबर को मार दिया गया. उसकी घोषणा रविवार 27 अक्टूबर को गई.

अपने रिश्तेदार के मारे जाने के कारण था खफा
अधिकारियों ने बताया कि मुखबिर ने बगदादी के ठिकानों के बारे में विस्तृत जानकारी दी, जिसमें उसकी पनाहगाह के एक-एक कमरे की व्यापक जानकारी हमले में काफी अहम साबित हुई. 48 वर्षीय आतंकवादी के मारे जाने के साथ ही यह हमला खत्म हुआ. सीरिया के इदलिब प्रांत में बगदादी के ठिकाने पर हमले के दौरान मुखबिर मौजूद था और उसे दो दिन बाद उसके परिवार के साथ क्षेत्र से बाहर निकाल लिया गया था. एक अधिकारी ने बताया कि वह सुन्नी अरब है जो इस्लामिक स्टेट द्वारा अपने एक रिश्तेदार के मारे जाने के बाद उसके खिलाफ हो गया था.

दो हफ्ते तक इस मुखबिर से की गई बात
सीरियन डेमोक्रेटिक फोर्सेज (एसडीएफ) ने इस्लामिक स्टेट के इस बागी को अपने पाले में किया और उसके बाद उसे अमेरिकी खुफिया अधिकारियों के हाथों में सौंप दिया, जिन्होंने दो हफ्ते तक तब तक उससे बात की जब तक वे आश्वस्त नहीं हो गए कि वह इस काम के लिए सही शख्स है. अधिकारियों ने बताया कि न तो पेंटागन और न ही व्हाइट हाउस ने बगदादी को मारने या पकड़ने के मिशन में उच्च स्तरीय मुखबिर होने पर आधिकारिक टिप्पणी की.

आत्मघाती बेल्ट बांधकर रहता था बगदादी
Loading...

मुखबिर ने यह भी जानकारी दी थी कि बगदादी हमेशा एक आत्मघाती बेल्ट के साथ यात्रा करता है ताकि उसे घेरे जाने पर वह अपने आप को खत्म कर सके. एक अधिकारी ने बताया कि विस्फोट के बाद बगदादी का सिर शरीर से जुड़ा हुआ था और अमेरिकी सैनिक पुष्टि के लिए किए गए डीएनए टेस्ट से पहले भी उसकी पहचान को लेकर आश्वस्त थे. हमले के समय की एक कमांडो की आडियो रिकार्डिंग में एक अधिकारी को कहते सुना गया , ‘उसकी तरफ देखा. वह बगदादी है. जैकपॉट.’

यह भी पढ़ें....
करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन के लिए इमरान खान ने अब सिद्धू को भेजा न्योता

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अमेरिका से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 30, 2019, 10:43 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...