जो बाइडन का आदेश- Corona संकट से जूझ रहे भारत को दी जाए सभी सहायता

भारतीय पीएम नरेंद्र मोदी के साथ जो बाइडन (फाइल फोटो)

भारतीय पीएम नरेंद्र मोदी के साथ जो बाइडन (फाइल फोटो)

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन (Joe Biden) ने अपने प्रशासन को कोरोना संकट से जूझ रहे भारत (India) को सभी सहायता प्रदान करने का आदेश दिया है.

  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन (Joe Biden) ने अपने प्रशासन को कोरोना संकट से जूझ रहे भारत (India) को सभी सहायता प्रदान करने का आदेश दिया है. साथ ही यह भी आश्वासन दिया है कि अमेरिका भारत के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा रहेगा. दोनों देशों के शीर्ष अधिकारियों ने न्यूज एजेंसी पीटीआई को यह जानकारी दी है. बाइडन ने अपने दो शीर्ष अधिकारियों को शुक्रवार शाम यहां डलेस हवाईअड्डे पर भेजा, जहां से ऑक्सीजन सिलेंडर, एन 95 मास्क और फिल्टर सहित टीके के उत्पादन में उपयोग करने के लिए जरूरी सामान के साथ एक अन्य उड़ान भारत भेजा गया है. आपको बता दें कि बीते दो दिनों में अमेरिकी वायुसेना की दो विमान भारत पहुंची है.

व्हाइट हाउस में बाइडन एशिया पॉलिसी का नेतृत्व करने वाले दिग्गज राजनयिक कर्ट कैम्पबेल ने शुक्रवार शाम हवाईअड्डे पर संवाददाताओं से कहा, "बाइडन ने हमें भारत के साथ खड़ा रहने के लिए कहा है." कैम्पबेल ने जॉर्जिया की अपनी यात्रा के दौरान बाइडन के साथ एयर फोर्स वन की यात्रा की. वापस आने के बाद कैंपबेल ने भारत के लिए COVID-19 राहत प्रयासों के अध्यक्ष को भी यह जानकारी दी. अमेरिका में भारत के राजदूत तरनजीत सिंह संधू ने डलेस एयरपोर्ट पर संवाददाताओं से कहा, "अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन सहित पूरा प्रशासन भारत के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े होने की बात कही है. हम इसकी बहुत सराहना करते हैं.” संधू ने उस द्विदलीय समर्थन की भी सराहना की जो भारत को अमेरिकी कांग्रेसियों और सीनेटरों से मिला है. आपको बता दें कि भारत की मदद के लिए अमेरिकी कारोबारी भी अभूतपूर्व तरीके से आगे आए हैं.

संधू ने कहा, "संयुक्त राज्य अमेरिका के लोगों की भारत के लोगों के साथ एकजुटता को बहुत मान्यता प्राप्त है और इसकी सराहना की जाती है. भारतीय अमेरिकी समुदाय भी इसके लिए जाने जाते हैं. मुझे यकीन है कि संयुक्त राज्य अमेरिका जैसे दोस्तों और भागीदारों के समर्थन के साथ हम इस चुनौती का सामना करेंगे. भगवान की कृपा से हम इससे बाहर निकल आएंगे.” कैंपबेल ने कहा कि वह और उनकी राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की सहकर्मी सुमोना गुहा, जो वहां दक्षिण एशिया के वरिष्ठ निदेशक हैं, को राष्ट्रपति द्वारा हवाई अड्डे से COVID-19 राहत सामग्री भारत रवाना होने से पहले भेजा गा था. कैंपबेल ने कहा, "राष्ट्रपति ने आज हमें भारत के लिए राहत सामग्री भेजने के लिए शुभकामना दी." उन्होंने भारत के राजदूत संधू के अथक प्रयासों की भी सराहना की.

ये भी पढ़ें: डॉक्टर फाउची ने दी भारत में लॉकडाउन की सलाह, कोविड रोकथाम के लिए बताया 3 स्टेप फॉर्मूला
कैंपबेल ने कहा कि पिछले हफ्ते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अपने कॉल के दौरान, बिडेन ने स्पष्ट किया कि भारत पिछले साल मई में अमेरिका के बचाव में आने वाले पहले देशों में से एक था जब अमेरिकी महामारी से पीड़ित थे. उन्होंने कहा, "भारत ने हमारे लिए कदम बढ़ाया. इस बार, संयुक्त राज्य अमेरिका की सरकार, यहां के निजी क्षेत्र को लोग ने भी समर्थन में कोई कमी नहीं दिखाई है." उन्होंने कहा, "हम जो समन्वय कर रहे हैं, वह उन लोगों के लिए समर्थन का सबसे महत्वपूर्ण परिणाम है जो मैंने कॉर्पोरेट समुदाय से कभी नहीं देखा है. हम भारत को पहले की स्थिति में लाने की कोशिश कर रहे हैं. हम जानते हैं कि यह एक लंबी दौड़ होगी.''
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज