• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • अमेरिका: हाथ में रॉकेट लॉन्चर और तालिबानी गेटअप, कुछ ऐसे अवतार में दिखे जो बाइडेन, जानें क्यों...

अमेरिका: हाथ में रॉकेट लॉन्चर और तालिबानी गेटअप, कुछ ऐसे अवतार में दिखे जो बाइडेन, जानें क्यों...

फोटो सौ. (सोशल मीडिया)

फोटो सौ. (सोशल मीडिया)

पेंसिल्वेनिया के पूर्व सीनेटर स्कॉट वैगनर ने राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) के खिलाफ एक कैंपेन शुरू किया है. उनका कहना है कि बाइडेन के एक फैसले की वजह से पूरी दुनिया के सामने अमेरिका (America) को शर्मिंदगी उठानी पड़ी, उसका मजाक उड़ा.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    वॉशिंगटन. तालिबान ने जब से अफगानिस्तान (Afghanistan) पर कब्जा किया है, तभी से देश के इस हाल के लिए दुनिया के कई देशों के साथ-साथ खुद अमेरिकी भी अपने राष्ट्रपति को कुसूरवार मानते हैं. जो बाइडेन (Joe Biden) के सेना वापसी के फैसले के बाद तालिबान ने अफगानिस्तान पर कब्जा किया और आम जनता को उसका खामियाजा भुगतना पड़ा. इस फैसले के लिए बाइडेन को निशाना बनाने का एक अभियान अमेरिका में शुरू हुआ है. इस अभियान के तहत राष्ट्रपति को तालिबानी आतंकी के तौर पर दिखाने वाले बिलबोर्ड लगाए गए हैं. जिस पर लिखा है, ‘मेकिंग द तालिबान ग्रेट अगेन’.

    ‘द सन’ की रिपोर्ट के अनुसार, पेंसिल्वेनिया के पूर्व सीनेटर स्कॉट वैगनर ने राष्ट्रपति जो बाइडेन के खिलाफ ये कैंपेन शुरू किया है. उनका कहना है कि बाइडेन के एक फैसले की वजह से पूरी दुनिया के सामने अमेरिका को शर्मिंदगी उठानी पड़ी, उसका मजाक उड़ा. दो महीने तक चलने वाले इस अभियान के तहत जगह-जगह बाइडेन को तालिबानी आतंकी दर्शाने वाले बिलबोर्ड लगाए गए हैं.

    तालिबानी गेटअप में बाइडेन
    बिलबोर्ड पर लगी तस्वीर में बाइडेन तालिबानी गेटअप में हैं और उनके हाथ में रॉकेट लॉन्चर है. स्कॉट वैगनर ने यह दर्शाने का प्रयास किया है कि अफगानिस्तान से सेना वापस बुलाकर राष्ट्रपति ने तालिबान की मदद की है. बिलबोर्ड पर ‘मेकिंग द तालिबान ग्रेट अगेन’, यानी तालिबान को फिर से महान बनाना भी लिखा हुआ है.

    ये भी पढ़ें: तालिबानी कब्जे के बाद अफगानिस्तान में गहराया बच्चों की सुरक्षा का मुद्दा, संयुक्त राष्ट्र ने जताई चिंता

    अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना की वापसी
    उल्लेखनीय है कि, अमेरिकी राष्ट्रपति ने अचानक ही अफगानिस्तान से अपनी सेना की वापसी का ऐलान कर दिया था. जो बाइडेन ने कहा था कि अफगान की सेना तालिबान का सामना करने में सक्षम है. हालांकि, चंद दिनों में ही तालिबान ने पूरी अफगानिस्तान पर कब्जा करके बाइडेन की बात को झूठा साबित कर दिया. इस फैसले को लेकर बाइडेन की जमकर आलोचना हुई. पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी अफगानिस्तान के हाल के लिए उन्हें दोषी माना. इसके बाद काबुल एयरपोर्ट पर हुए धमाके में अमेरिकी सैनिकों की मौत को लेकर भी बाइडेन लोगों के निशाने पर आए. एक्सपर्ट्स मानते हैं कि इससे बतौर राष्ट्रपति बाइडेन की छवि खराब हुई है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज