अपना शहर चुनें

States

विनय रेड्डी के बारे में जानिये, जिनका लिखा भाषण अमेरिकी राष्‍ट्रपति जो बाइडन ने पढ़ा

विनय रेड्डी ने लिखा है जो बाइडन का भाषण. (Pic- File ANI)
विनय रेड्डी ने लिखा है जो बाइडन का भाषण. (Pic- File ANI)

Vinay Reddy: विनय रेड्डी अमेरिकी राष्‍ट्रपति चुनाव के दौरान जो बाइडन (Joe Biden) और कमला हैरिस (Kamala Harris) के चुनाव प्रचार के लिए भी भाषण लिख चुके हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 21, 2021, 5:46 PM IST
  • Share this:
वॉशिंगटन. जो बाइडन (Joe Biden) ने बुधवार को अमेरिका के 46वें राष्‍ट्रपति (US President) के तौर पर पद की शपथ ली. शपथ ग्रहण समारोह के तुरंत बाद उन्‍होंने देश के नाम अपना पहला संबोधन भी पढ़ा. एक ओर उनके इस भाषण पर पूरी दुनिया की नजरें टिकी थीं, तो दूसरी ओर यह भारत के लिए भी बेहद खास था. ऐसा इसलिए क्‍योंकि इसे भारतीय मूल के अमेरिकी विनय रेड्डी (Vinay Reddy) ने तैयार किया था.

चुनाव प्रचार में भी लिखा था भाषण
इससे पहले भी विनय रेड्डी अमेरिकी राष्‍ट्रपति चुनाव के दौरान जो बाइडन और कमला हैरिस के चुनाव प्रचार के लिए भाषण लिख चुके हैं. विनय रेड्डी की खास बात यह भी है कि जब बराक ओबामा (Barack Obama) के कार्यकाल में जो बाइडन उप राष्‍ट्रपति थे तब वह उनके चीफ स्पीचराइटर भी थे. वह अब राष्‍ट्रपति जो बाइडन के डायरेक्‍टर ऑफ स्‍पीचराइटिंग भी नियुक्‍त हुए हैं.


कौन हैं विनय रेड्डी


राष्ट्रपति जो बाइडन का भाषण लिखने वाले पहले भारतीय मूल के अमेरिकी विनय रेड्डी ओहायो के डायटन में पले-बढ़े हैं. उन्होंने अपनी शिक्षा ओहायो स्टेट यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ लॉ से पूरी की है. उन्होंने बैचलर्स डिग्री मियामी यूनिवर्सिटी से प्राप्त की है. रिपोर्ट्स के अनुसार, रेड्डी का परिवार तेलंगाना के हैदराबाद से 200 किमी दूर स्थित पोथिरेडिपेटा गांव से ताल्‍लुक रखता है. इससे पहले वो 2013 से 2017 तक जो बाइडन के मुख्य स्पीच राइटर भी रहे हैं. रिपोर्ट्स के अनुसार विनय रेड्डी जो बाइडन के लिए स्‍पीच तैयार करने के काम में पिछले साल से ही जुटे हुए थे.

1970 में पिता गए थे अमेरिका
विनय रेड्डी के पिता का नाम नारायण रेड्डी है. उन्‍होंने शुरुआती शिक्षा पोथिरेडिपेटा गांव में ही ग्रहण की. इसके बाद हैदराबाद से एमबीबीएस की पढ़ाई की. बाद में 1970 में वह अमेरिका चले गए थे. विनय रेड्डी अमेरिका में ही जन्‍मे हैं. लेकिन उनके परिवार में भारतीय परंपरा को भी दूर नहीं किया गया. गांव से हमेशा सबका नाता जुड़ा रहा. गांव में परिवार की अब भी तीन एकड़ भूमि और एक घर है. नारायण रेड्डी और उनकी पत्‍नी विजया रेड्डी अब भी गांव आते जाते हैं. वह आखिरी बार फरवरी 2020 में आए थे.

पुरानी है परंपरा
खास बात है कि अमेरिका में राष्ट्रपति के भाषण की परंपरा जॉर्ज वॉशिंगटन के समय से चली आ रही है. वॉशिंगटन 30 अप्रैल 1789 को अमेरिका के पहले राष्ट्रपति बने थे. अपने पहले भाषण में उन्होंने नई और मुक्त सरकार के बारे में बात की थी. वहीं, अपने दूसरे कार्यकाल में उन्होंने 135 शब्दों की इतिहास की सबसे छोटी स्पीच दी थी. जबकि, 1841 में विलियम हैनरी हैरिसन ने 8455 शब्दों वाली सबसे लंबी स्पीच दी थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज