लाइव टीवी

ईरान से निपटने के लिए सऊदी अरब में अतिरिक्‍त सेना की तैनाती करेगा अमेरिका

News18Hindi
Updated: October 12, 2019, 10:39 AM IST
ईरान से निपटने के लिए सऊदी अरब में अतिरिक्‍त सेना की तैनाती करेगा अमेरिका
अमेरिका विदेश मंत्री माइक पॉम्पियों ने ट्वीट कर दी जानकारी.

अमेरिकी (United states) विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो (Mike pompeo) ने इस संबंध में ट्वीट किया है. उन्‍होंने ईरान (Iran) को एक जिम्मेदार देश की तरह बर्ताव करने की सलाह दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 12, 2019, 10:39 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. अमेरिका (United states) ने ईरान (Iran) से निपटने के लिए शुक्रवार को बड़ा ऐलान किया है. अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो (Mike Pompeo) ने घोषणा की है कि अमेरिका सऊदी अरब (Saudi Arabia) में अतिरिक्‍त सेना भेजेगा. इसके साथ ही अतिरिक्‍त सैन्‍य उपकरण भी वहां भेजे जाएंगे. पॉम्पियो का कहना है कि ऐसा अमेरिकी रक्षात्‍मक क्षमताओं को बढ़ाने और ईरान की ओर से किए जाने वाले हमले को कम करने के मकसद से किया जा रहा है.

 



अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने इस संबंध में ट्वीट किया है. उन्‍होंने ईरान को एक सामान्‍य देश की तरह बर्ताव करने की चेतावनी दी है. पॉम्पियो ने कहा है कि ईरानी शासन को मौलिक आधार पर अपना बर्ताव बदलना चाहिए और एक सामान्‍य देश की तरह पेश आना चाहिए. अगर ईरान ऐसा नहीं करता है तो वो अपनी अर्थव्‍यवस्‍था को खत्‍म होता देखेगा.
Loading...

 



ऑयल रिफाइनरी पर हुआ था ड्रोन अटैक
बता दें कि 14 सितंबर को सऊदी अरब की सरकारी तेल कंपनी अरामको की 2 तेल रिफाइनरी पर ड्रोन के जरिये हमले किए गए थे. अमेरिका ने इसके लिए ईरान को जिम्मेदार ठहराया था. हालांकि इसकी जिम्‍मेदारी यमन के हाउती लड़ाकों ने ली थी.

इस पर माइक पॉम्पियो ने ट्वीट कर कहा था, 'सऊदी अरब पर लगभग 100 हमलों के लिए तेहरान जिम्मेदार है, जबकि ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी और विदेश मंत्री जवाद जरीफ कूटनीति में शामिल होने का दिखावा करते हैं. तनाव घटाने की सभी मांगों के बीच, ईरान ने अब दुनिया की ऊर्जा आपूर्ति पर एक अप्रत्याशित हमला किया है. इन हमलों में यमन का हाथ होने के कोई सबूत नहीं हैं.'

सैन्‍य साजोसामान भेजन की घोषणा
कुछ हफ्ते पहले अमेरिका ने कहा था कि वह सऊदी अरब में चार राडार सिस्टम, पैट्रियट मिसाइल की एक बैटरी और करीब 200 सहायक कर्मचारियों को भेजेगा. इस महीने की शुरुआत में सऊदी के तेल संयंत्रों पर हमला हुआ था. इसी कारण सऊदी की रक्षा प्रणाली को मजबूत करने के लिए अमेरिका ने यह कदम उठाया है.

यह भी पढ़ें: सऊदी के तेल ठिकानों पर हमले से अमेरिका-ईरान में युद्ध के हालात, मिसाइलें की तैनात 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अमेरिका से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 12, 2019, 10:19 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...