होम /न्यूज /दुनिया /न्यूयॉर्क: रिलायंस फाउंडेशन के कार्यक्रम में जुटे दिग्‍गज, कहा- भारत के विकास में सबसे अहम हैं महिलाएं

न्यूयॉर्क: रिलायंस फाउंडेशन के कार्यक्रम में जुटे दिग्‍गज, कहा- भारत के विकास में सबसे अहम हैं महिलाएं

अमेरिका ने पाकिस्तान को एफ 16 लड़ाकू विमान के बेड़े के रखरखाव के लिए 45 करोड़ डॉलर की वित्तीय सहायता को मंजूरी देने के फैसले पर उठे सवालों पर अपना बचाव किया है. File Photo

अमेरिका ने पाकिस्तान को एफ 16 लड़ाकू विमान के बेड़े के रखरखाव के लिए 45 करोड़ डॉलर की वित्तीय सहायता को मंजूरी देने के फैसले पर उठे सवालों पर अपना बचाव किया है. File Photo

रिलायंस फाउंडेशन (Reliance Foundation) ने UNGA सप्ताह के दौरान न्‍यूयॉर्क में दुनिया भर के दिग्‍गजों को आमंत्रित कर अहम ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

UNGA सप्ताह के दौरान रिलायंस फाउंडेशन ने कराई अहम चर्चा
न्‍यूयॉर्क में जुटे दुनिया भर के दिग्‍गज, महिला सशक्तिकरण पर हुई बात
भारत के विदेश मंत्री जयशंकर ने देशों की समस्‍याओं के हल पर दिया जोर

न्‍यूयॉर्क. भारत में महिलाएं, डिजिटल टेक्‍नोलॉजीज के साथ समुदायों में बदलाव ला रही हैं. ये महिलाएं, सस्‍टेनेबल डवलपमेंट गोल्‍स (SDG) की दिशा में तेजी से प्रगति लाने के तरीके बता सकती हैं. यह बात शुक्रवार को दुनिया के प्रख्यात वक्ताओं ने UNGA सप्ताह के दौरान रिलायंस फाउंडेशन (Reliance Foundation)-ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन (Observer Research Foundation) -यूएन इन इंडिया (United Nations in India) द्वारा आयोजित हाई लेवल चर्चा में कही. यह चर्चा 77वें संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) को मद्देनजर की गई थी.

इस इवेंट में एस्पिरेशन्स, एक्सेस एंड एजेंसी: वीमेन ट्रांसफॉर्मिंग लाइव्स विथ टेक्नोलॉजी नामक किताब को लॉन्‍च किया गया. इसका प्रकाशन रिलायंस फाउंडेशन और ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन द्वारा किया गया है. इसमें महिलाओं की प्रेरणादायक कहानियां हैं. ये कहानियां बताती हैं कि किस तरह से भारत के सबसे दूरस्‍थ कोनों की महिलाओं ने डिजिटल टेक्‍नोलॉजीज का इस्‍तेमाल करते हुए हकदारी, वित्तीय सेवाओं, स्वास्थ्य देखभाल, स्वच्छता और अन्‍य का लाभ लिया. अवर महासचिव संयुक्त राष्ट्र और प्रौद्योगिकी पर दूत अमनदीप सिंह गिल ने कहा कि इस प्रकाशन से पता चलता है कि ‘यह वास्तव में प्रेरणादायक है कि जब आप सही प्रक्रिया और तकनीक को एक साथ लोगों तक लाते हैं, तो जादू होता है.’ ‘महिला प्रौद्योगिकी और एसडीजी’ पर चर्चा के दौरान, संयुक्त राष्ट्र में रेसीडेंट कोर्डिनेटर भारत शोम्बी शार्प ने कहा कि महिलाएं दीर्घकालिक विकास और अल्पकालिक संकट प्रतिक्रिया दोनों में सबसे आगे हैं.

aspirations

बुक लॉन्चिंग करते हुए संयुक्त राष्ट्र अवर महासचिव अमनदीप सिंह गिल और रिलायंस फाउंडेशन की रणनीतिक पहल सलाहकार वनिता शर्मा.

ग्रामीण क्षेत्रों में नाटकीय रूप से मांग बढ़ने के साथ अगले चार वर्षों में भारत में 1 बिलियन स्मार्टफोन यूजर्स होने की उम्मीद है. आज, भारत में 54% महिलाओं के पास मोबाइल फोन है. जो बीते 4 सालों से करीब 45.9% से अधिक है. इसी तरह स्वतंत्र रूप से बैंक खातों का संचालन करने वाली महिलाओं की संख्‍या 53% से बढ़कर अभी लगभग 80% हो गई है. वहीं, 22.5% से अधिक भारतीय महिलाएं वित्तीय लेनदेन के लिए मोबाइल फोन का उपयोग करती हैं.

जिम्बाब्वे की प्रथम महिला औक्सिलिया मंगगाग्वा ने अपने समापन भाषण में इस बात पर जोर दिया कि वास्तविक परिवर्तन, महिलाओं और लड़कियों के सशक्तिकरण का एक उत्पाद है. न्यूजीलैंड की पूर्व प्रधान मंत्री और यूएनडीपी के पूर्व प्रशासक, हेलेन क्लार्क ने मानव विकास एजेंडे को अपनाने और उसका समर्थन करने के लिए भारत की सराहना की.

Helen Clark

न्यूज़ीलैंड की पूर्व प्रधान मंत्री हेलेन क्लार्क ने डिजिटल तकनीकों तक महिलाओं की पहुंच को मजबूत करने पर जोर दिया.

भारत के G20 प्रेसीडेंसी के संदर्भ में भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ‘द जी20 इंपीरेटिव-ग्रीन ग्रोथ एंड डेवलपमेंट फॉर ऑल’ पर जोर दिया कि जी20′ फोरम विकासशील देशों की चिंताओं को सुनने के लिए एक आदर्श निकाय था. भारत ने बहुत सारे देशों को आमंत्रित किया. भारत की अध्यक्षता के दौरान कई देशों को भाग लेने के लिए आमंत्रित किया ताकि दुनिया की वास्तविक समस्याओं के बारे में बात हो सके. ऐसी समस्‍याएं जिन्‍हें वह जागरूकता या मान्यता नहीं मिल रही हो, जिसके वे हकदार हैं. उन्होंने बहुपक्षवाद की आवश्यकता और इसके सुधार के महत्व पर भी जोर दिया.

Auxillia Mngagagwa

ज़िम्बाब्वे की प्रथम महिला औक्सिलिया मंगगागवा ने समापन भाषण दिया.

ब्रिटेन के विदेश राष्ट्रमंडल और विकास कार्यालय (एफसीडीओ), विकास राज्य मंत्री, विक्की फोर्ड ने कहा कि विकास के प्रयासों को जलवायु परिवर्तन को ध्यान में रखना चाहिए और अभिनव होना चाहिए. दुनिया भर में वित्त पोषण की जरूरतों को पूरा करने के लिए वित्तपोषण तंत्र को तैनात किया जाना चाहिए. उन्‍होंने भी लड़कियों को शिक्षित करने और महिलाओं को सशक्त बनाने की आवश्यकता पर बल दिया. विश्व आर्थिक मंच के अध्यक्ष बोर्गे ब्रेंडे ने कहा कि निजी क्षेत्र को G20 एजेंडे का एक महत्वपूर्ण हिस्सा होना चाहिए. वह जलवायु परिवर्तन अनुकूलन में वित्त पोषण में मदद कर सकता है. इस क्षेत्र में अधिक ध्यान देने की जरूरत है.

रिलायंस फाउंडेशन के सीईओ, जगन्नाथ कुमार ने कहा कि विकास के प्रति रिलायंस की प्रतिबद्धता ‘वी केयर’ के हमारे दर्शन में निहित है. भारत में एसडीजी हासिल करने के लिए सभी क्षेत्रों में प्लेटफॉर्म को सक्षम बनाने पर हम ध्यान केंद्रित कर रहे हैं. इसमें महिला सशक्तिकरण से लेकर हरित विकास और सभी का समान विकास पर हमारा ध्‍यान है. वहीं, ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन के अध्यक्ष समीर सरन ने कहा कि वास्तविक प्रगति तभी संभव है जब हमारे प्रयास समावेशी हों, हरे हों, समुदायों के नेतृत्व में हों, और चुस्त नीतियों और नेतृत्व द्वारा उत्प्रेरित हो.

डिस्क्लेमर: हिंदी न्यूज़18 डॉट कॉम रिलायंस इंडस्ट्रीज की कंपनी नेटवर्क18 मीडिया एंड इन्वेस्टमेंट लिमिटेड का हिस्सा है. नेटवर्क18 मीडिया एंड इन्वेस्टमेंट लिमिटेड का स्वामित्व रिलायंस इंडस्ट्रीज के पास ही है.

Tags: New York, Reliance Foundation

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें