अपना शहर चुनें

States

COVID-19 vaccine: फाइजर की वैक्सीन से कई लोगों को हो रही है एलर्जी, डॉक्टरों ने जताई चिंता

COVID-19 vaccine: न्यूयॉर्क शहर में अब तक 30 हज़ार लोगों को वैक्सीन की डोज़ दी जा चुकी है. राहत की बात ये है कि कुछ ही लोगों ने अब तक एलर्जी की शिकायत की है.
COVID-19 vaccine: न्यूयॉर्क शहर में अब तक 30 हज़ार लोगों को वैक्सीन की डोज़ दी जा चुकी है. राहत की बात ये है कि कुछ ही लोगों ने अब तक एलर्जी की शिकायत की है.

COVID-19 vaccine: न्यूयॉर्क शहर में अब तक 30 हज़ार लोगों को वैक्सीन की डोज़ दी जा चुकी है. राहत की बात ये है कि कुछ ही लोगों ने अब तक एलर्जी की शिकायत की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 25, 2020, 11:39 AM IST
  • Share this:
न्यूयॉर्क. दुनिया के कुछ देशों में कोरोना की वैक्सीन (COVID-19 vaccine) लगाने का काम शुरू हो गया है. लेकिन वैक्सीन की शुरुआती रिपोर्ट ने डॉक्टरों और वैज्ञानिकों की चिंता थोड़ी बढ़ा दी है. दरअसल अमेरिका और ब्रिटेन से ऐसी खबरें आ रही हैं कि फाइजर की वैक्सीन (Pfizer COVID-19 vaccine) से कई लोगों ने ज्यादा एलर्जी होने की शिकायत की है. बता दें कि इस वक्त अमेरिका में इमरजेंसी एप्रूवल के तहत फाइज़र और मॉडर्ना की वैक्सीन की डोज लोगों को दी जा रही है. जबकि ब्रिटेन में फाइजर और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी-एस्ट्राजेनेका (AstraZeneca) की वैक्सीन लोगों को लगाई जा रही है.

सीएनन के मुताबिक अमेरिका के चीफ साइंटिस्ट एडवाइज़र डॉक्टर मॉनसेफ स्लैवोई ने कहा है कि दूसरी वैक्सीन के मुकाबले फाइजर की वैक्सीन से लोगों को ज्यादा एलर्जी हो रही है. ज्यादा एलर्जी होने की बात ऐसे लोग कर रहे हैं जो इपीपेन दवाई का इस्तेमाल करते हैं. बता दें कि ये दवाई ऐसे लोगों को दी जाती है जो ज्यादा एलर्जी से परेशान होते हैं. इससे पहले ब्रिटेन में भी दो लोगों ने फाइजर वैक्सीन की डोज लेने के बाद ज्यादा एलर्जी की शिकायत की थी.

ये भी पढ़ें:-तुर्की में 99 टन सोना की खोज, कई देशों की जीडीपी से भी ज्यादा ही इसकी कीमत



फाइज़र की चुनौती
बता दें कि न्यूयॉर्क शहर में अब तक 30 हज़ार लोगों को वैक्सीन की डोज़ दी जा चुकी है. राहत की बात ये है कि कुछ ही लोगों ने अब तक एलर्जी की शिकायत की है. कोरोना वायरस संक्रमण से अमेरिका पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा प्रभावित है. फाइजर की वैक्सीन के साथ समस्या ये है कि उसे -70 डिग्री सेल्सियस पर स्टोर किया जाना अनिवार्य है, जबकि मॉडर्ना की वैक्सीन के लिए -20 डिग्री सेल्सियस तापमान चाहिए होता है.

क्या कहा कंपनी ने?
पिछले हफ्ते फाइजर ने इस मामले में सफाई दी थी. कंपनी की तरफ से कहा गया था कि वैक्सीन के ट्रायल के दौरान किसी भी ऐसे व्यक्ति को शामिल नहीं किया था, जिसे दवाई से एलर्जी हो. एक्सपर्ट का कहना है कि वैक्सीन से हर किसी को एलर्जी हो ये जरूरी नहीं है. साथ ही कंपनी ने ये भी कहा कि वो बड़े स्तर पर वैक्सीन लगाने का काम कर रहे हैं ऐसे में इस तरह के और भी मामले सामने आ सकते हैं. इसे अप्रत्याशित नहीं माना जा सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज