भारत में फाइजर वैक्सीन को जल्द मिलेगी मंजूरी, CEO ने कहा-डील फाइनल स्टेज में

90% कारगर वैक्सीन फाइजर ने जर्मनी की फर्म बायोएनटेक के साथ को-पार्टनरशिप में डेवलप की गई है.

90% कारगर वैक्सीन फाइजर (Pfizer covid-19 Vaccine) ने जर्मनी की फर्म बायोएनटेक के साथ को-पार्टनरशिप में डेवलप की गई है. कंपनी चाहती है कि भारत में वैक्सीन के साइड इफेक्ट्स होने पर उसकी जवाबदेही न रहे.

  • Share this:
    वॉशिंगटन. भारत में अमेरिकी कंपनी फाइजर (Pfizer covid-19 Vaccine) की वैक्सीन जल्द आ सकती है. फाइजर कंपनी के चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर (CEO) अल्बर्ट बौर्ला का कहना है कि वैक्सीन को भारत में मंजूरी मिलने की प्रक्रिया फाइनल स्टेज में है. उन्होंने कहा, 'मुझे उम्मीद है कि हम भारत सरकार के साथ जल्द ही समझौते को अंतिम रूप देंगे. इससे पहले खबरें आई थीं कि भारत को फाइजर की वैक्सीन के लिए अगस्त तक इंतजार करना पड़ सकता है.

    अल्बर्ट बौर्ला ने मंगलवार को बायोफार्मा एंड हेल्थकेयर समिट में ये बातें कही. फाइजर के अमेरिकी सूत्रों ने बताया था कि भारत सरकार और कंपनी के बीच जवाबदेही वाली शर्त पर सहमति नहीं बन पा रही है. कंपनी चाहती है कि वैक्सीन के साइड इफेक्ट्स होने पर उसकी जवाबदेही न रहे. 90% कारगर वैक्सीन फाइजर ने जर्मनी की फर्म बायोएनटेक के साथ को-पार्टनरशिप में डेवलप की गई है.

    कोरोना के नए वेरिएंट के खिलाफ बूस्टर शॉट की जरूरत बताना जल्दबाजी होगी: WHO की शीर्ष वैज्ञानिक

    रिपोर्ट्स के मुताबिक भारत सरकार फाइजर की वैक्सीन के लिए एक महीने पहले राजी हो गई थी. भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने इसे लेकर अमेरिका में फाइजर के कुछ अफसरों से मुलाकात भी की थी, लेकिन फिर इसमें देरी होने लगी. मई में फाइजर के अधिकारियों ने बताया था कि कंपनी जुलाई से अक्टूबर के बीच 5-7 करोड़ वैक्सीन डोज भारत को देगी. इसके अलावा अमेरिका के साथ मॉर्डना वैक्सीन को लेकर भी बातचीत चल रही है.

    वैक्सीनेशन में आगे निकला चीन, अब तक 1 अरब लोगों को टीका लगाने का दावा
    अभी देश में कौन-कौन सी वैक्सीन है?
    फिलहाल देश में तीन कोरोना वैक्सीन के आपात इस्तेमाल को मंजूरी दी गई है. ये वैक्सीन हैं- कोविशील्ड, कोवैक्सीन, और स्पूतनिक-V. इधर, केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को स्पष्ट किया कि भारत में जिन दो वैक्सीन- कोविशील्ड और कोवैक्सीन का वैक्सीनेशन कार्यक्रम में इस्तेमाल किया जा रहा है, वे दोनों ही डेल्टा वेरिएंट में प्रभावी हैं.

    हालांकि, स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि लेकिन वे किस हद तक और किस अनुपात में एंटीबॉडी टाइटर्स का उत्पादन करते हैं, इसे हम जल्द ही आपके साथ साझा करेंगे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.