Home /News /world /

salman rushdie attacker hadi matar sympathy of iran revolutionary guards rsr

दावा: सलमान रुश्दी पर हमले के आरोपी का ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्ड के लिए था झुकाव

हदी मतार की नागरिकता और उसकी आपराधिक पृष्टभूमि की अभी जांच की जा रही है.

हदी मतार की नागरिकता और उसकी आपराधिक पृष्टभूमि की अभी जांच की जा रही है.

Hadi Matar News: कानून प्रवर्तन एजेंसी के अधिकारियों को ईरान के मारे गए कमांडर कासिम सुलेमानी और ईरानी शासन के प्रति सहानुभूति रखने वाले एक इराकी चरमपंथियों की तस्वीर हदी मतार के सेल फोन के मैसेजिंग ऐप से मिली है.

हाइलाइट्स

पश्चिमी न्यूयॉर्क के एक कार्यक्रम के दौरान सलमान रुश्दी पर चाकू से हमला हुआ.
रुश्दी की गर्दन पर चोट आई है. उत्तर पश्चिमी पेन्सिल्वेनिया के एक अस्पताल में उनकी सर्जरी हुई.
सलमान रुश्दी की पुस्तक 'मिडनाइट्स चिल्ड्रन' के लिए उन्हें बुकर पुरस्कार से नवाज़ा गया था.

न्यूयॉर्क. प्रख्यात लेखक सलमान रुश्दी पर चाकू से हमला करने के आरोप में हिरासत में लिए गए 24 वर्षीय संदिग्ध की सहानुभूति ‘शिया चरमपंथियों’ और ईरान के इस्लामिक रिवोल्यूशरी गार्ड कोर के उद्देश्यों के प्रति थी. मीडिया में आई खबरों में यह दावा किया गया है. न्यूयॉर्क स्टेट पुलिस ने संदिग्ध की पहचान फेयरव्यू, न्यूजर्सी के हदी मतार के तौर पर की है, लेकिन अबतक हमले के उद्देश्य का पता नहीं चला है. पश्चिमी न्यूयॉर्क में चौटाउक्वा इंस्टीट्यूशन में भाषण देने के दौरान हमलावर ने मंच पर चढ़कर रुश्दी पर हमला कर दिया था.

पुलिस ने बताया कि मतार की नागरिकता और उसकी आपराधिक पृष्टभूमि की अभी जांच की जा रही है. ‘एनबीसी न्यूज’ ने मामले की जांच की जानकारी रखने वाले कानून प्रवर्तन से जुड़े एक व्यक्ति के हवाले से बताया कि मतार के सोशल मीडिया अकाउंट की प्राथमिक जांच से पता चला है कि वह शिया चरमपंथ और इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड के उद्देश्यों के प्रति सहानुभूति रखता था.

‘एनबीसी न्यूज’ ने बताया कि हालांकि, अबतक मतार और इस्लामिक रिवोल्यूशनरी से सीधे संबंध की जानकारी नहीं मिली है, लेकिन कानून प्रवर्तन एजेंसी के अधिकारियों को ईरान के मारे गए कमांडर कासिम सुलेमानी और ईरानी शासन के प्रति सहानुभूति रखने वाले एक इराकी चरमपंथियों की तस्वीर मतार के सेल फोन के मैसेजिंग ऐप से मिली है. सुलेमानी एक वरिष्ठ ईरानी सैन्य अधिकारी थे जिनकी वर्ष 2020 में हत्या कर दी गई थी.

अस्पताल में हुई सलमान रुश्दी की सर्जरी
दूसरी ओर, मुंबई में जन्मे और बुकर पुरस्कार से सम्मानित रुश्दी (75) पश्चिमी न्यूयॉर्क के चौटाउक्वा संस्थान में शुक्रवार को एक कार्यक्रम के दौरान अपना व्याख्यान शुरू करने वाले ही थे कि तभी आरोपी मंच पर चढ़ा और रुश्दी को घूंसे मारे और चाकू से हमला कर दिया. रुश्दी की गर्दन पर चोट आई है. उस समय कार्यक्रम में उनका परिचय दिया जा रहा था. खून से लथपथ रुश्दी को उत्तर पश्चिमी पेन्सिल्वेनिया के एक अस्पताल ले जाया गया जहां उनकी सर्जरी हुई. रुश्दी अभी कुछ कहने की स्थिति में नहीं हैं.

‘मिडनाइट्स चिल्ड्रन’ के लिए रुश्दी को मिला था बुकर पुरस्कार
रुश्दी की विवादित पुस्तक ‘द सैटेनिक वर्सेज’ ईरान में 1988 से प्रतिबंधित है. इसे लेकर ईरान के तत्कालीन सर्वोच्च धार्मिक नेता अयातुल्ला रूहोल्लाह खमनेई ने रुश्दी को मौत की सजा दिए जाने का फतवा जारी किया था. ईरान ने रुश्दी की हत्या करने वाले को 30 लाख डॉलर से अधिक का इनाम देने की भी पेशकश की थी. रुश्दी ने ब्रिटेन में 10 साल पुलिस सुरक्षा में गुजारे. वह 2000 से अमेरिका में रह रहे हैं. सलमान रुश्दी की पुस्तक ‘मिडनाइट्स चिल्ड्रन’ के लिए उन्हें प्रतिष्ठित बुकर पुरस्कार से सम्मानित किया गया था.

Tags: Iran, Salman Rushdie

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर