डायरी से खुलासा, नस्लवादी थे मशहूर वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन

चीन के लोगों के बारे में उन्होंने लिखा कि चीनी लोग मेहनती होते हैं लेकिन वो गंदे रहते हैं और थोड़े मंदबुद्धि होते हैं


Updated: June 14, 2018, 6:27 PM IST
डायरी से खुलासा, नस्लवादी थे मशहूर वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन
दुनिया के मशहूर यहूदी भौतिक विज्ञानी अल्बर्ट आइंस्टीन (File photo)

Updated: June 14, 2018, 6:27 PM IST
दुनिया के मशहूर यहूदी भौतिक विज्ञानी अल्बर्ट आइंस्टीन के बारे में एक बड़ा खुलासा हुआ है. प्रिंसटन यूनिवर्सिटी प्रेस की ओर से जारी आइंस्टीन की ट्रैवल डायरी से पता चला है कि वे दुनिया में मानवाधिकारों की भले बात करते रहे लेकिन वे खुद भी नस्लवादी प्रवृत्ति के शिकार थे.

गार्जियन के मुताबिक, नाजियों के उत्पात के बीच आइंस्टीन जर्मनी छोड़कर अमेरिका आ गए थे जहां उन्होंने न्यू जर्सी को अपना घर बना लिया था. वहां जब एडोल्फ हिटलर और नाजी पार्टी का उदय हुआ तो जर्मनी में पैदा हुए अल्बर्ट आइंस्टीन साल 1933 में देश छोड़कर अमरीका चले गए थे. उनकी डायरी ने कई पहलुओं पर विस्तार से प्रकाश डाला है.

उनकी ट्रैवल डायरी में बताया गया है कि यात्रा के दौरान अल्बर्ट आइंस्टीन ने सिंगापुर, चीन, जापान, श्रीलंका, फलस्तीन और कुछ हफ्ते स्पेन में गुजारे. डायरी के मुताबिक आइंस्टीन ने इन देशों के लोगों पर कई नस्लवादी टिप्पणियां कीं. चीन के लोगों के बारे में उन्होंने लिखा कि चीनी लोग मेहनती होते हैं लेकिन वो गंदे रहते हैं और थोड़े मंदबुद्धि होते हैं.

अपनी डायरी में उन्होंने लिखा, चीनी बच्चे कुंद और निष्प्राण होते हैं. यही वजह है कि दूसरी नस्ल के लोगों को देखने के बाद, इन चीनी लोगों को देखकर मुझे दया आती है. अपनी डायरी में आइंस्टीन ने चीन के बारे में एक अन्य लेख में लिखा कि चीन ‘एक असाधारण झुंड जैसा देश’ है. और यहां के लोग ‘मशीनी मानव’ की तरह ज्यादा लगते हैं.

इसके बाद उन्होंने श्रीलंका के कोलंबो शहर के बारे में लिखा कि वहां के लोग कितनी गंदगी में रहते हैं. इनका जीवन कितना निम्न स्तर का है. कम में गुजारा करते हैं और उसी में खुश भी हैं.

बता दें कि आइंस्टीन को नस्लवाद का विरोधी माना जाता है. अमरीका में रहते हुए आइंस्टीन ने नागरिक अधिकारों की हमेशा वकालत की और साल 1946 में उन्होंने नस्लवाद को ‘सफेद लोगों की एक बीमारी’ तक कहा. आइंस्टीन के बारे में अक्सर यही धारणा रही है कि वे शांत स्वभाव वाले, दुनिया से कटे हुए वैज्ञानिक थे जो सार्वजनिक तौर पर कम ही बोलते थे.

 
News18 Hindi पर Jharkhand Board Result और Rajasthan Board Result की ताज़ा खबरे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें .
IBN Khabar, IBN7 और ETV News अब है News18 Hindi. सबसे सटीक और सबसे तेज़ Hindi News अपडेट्स. World News in Hindi यहां देखें.

और भी देखें

Updated: June 18, 2018 11:20 AM ISTSerial Killer: काम था दवाएं देना लेकिन वो देता रहा मौत
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर