1 साल के मासूम को इंस्ट्रक्टर ने फेंक दिया स्विमिंग पूल के अंदर, फिर जानिए क्या हुआ आगे...

स्विमिंग इंस्ट्रक्टर ने एक साल के मासूम बच्ची को पूल में फेंक दिया, ताकि वह खुद को पानी से बचाने का तरीका सीख सके. (Photo- सोशल मीडिया)
स्विमिंग इंस्ट्रक्टर ने एक साल के मासूम बच्ची को पूल में फेंक दिया, ताकि वह खुद को पानी से बचाने का तरीका सीख सके. (Photo- सोशल मीडिया)

स्विमिंग इंस्ट्रक्टर (Swimming Instructor) शैनन (Shannon) ने एक साल के मासूम बच्ची (Toddler) को स्विमिंग पूल (Swimming Pool) में फेंक दिया, ताकि वह खुद को पानी से बचाने का तरीका (Swimming survival lessons) सीख सके. पूल (Pool) में गिरने के साथ ही बच्ची रोने लगी और अपने चेहरे को पानी से ऊपर कर लिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 19, 2020, 4:29 PM IST
  • Share this:
तैराकी सीखाने के नाम पर स्विमिंग इंस्ट्रक्टर (Swimming Instructor) द्वारा 1 साल की मासूम (Toddler) को पूल में फेंकने का एक वीडियो वायरल (Viral Video) हो रहा है. इस वीडियो को टिकटॉक (TikTok) पर अमेरिका (USA) की रहने वाली एक स्विमिंग कोच शैनन (Shannon) ने अपलोड किया है, जिसमें दिखाया गया है कि कैसे वह मासूम बच्ची पूल में गिरने के बाद रोने लगी और सांस लेने के लिए अपना चेहरा पानी से ऊपर कर ली. स्विमिंग सीखाने वाली इस महिला ने बच्ची के कपड़े और शूज भी नहीं उतारे थे.

आपको पढ़कर डर लग रहा होगा और सोच रहे होंगे कि आखिर बच्ची का क्या हुआ? तो आपको बता दें कि बच्ची बिल्कुल सुरक्षित है. दरअसल, इंस्ट्रक्टर (Instructor) ने बच्ची को तैराकी सीखाने के लिए इस तरह के ट्रिक्स को आजमाया. अमेरिका में इस तरह स्विमिंग कराना सामान्य बात है. इसके जरिए बच्चों को डूबने से बचाने का तरीका सीखाया जाता है, जिसे सर्वाइवल स्विमिंग स्किल (Survival Swimming Skill) कहा जाता है.

पानी में गिरने पर बच्ची ने यूं लेने लगी सांस



स्विमिंग इंस्ट्रक्टर शैनन ने बच्ची को जैसे ही पूल में गिराया, उसका चेहरा पहले पानी के अंदर चला गया. वह बच्ची डरकर रोने लगी. इस दौरान उसने पानी से बचने के लिए हाथ पैर चलाए और सांस लेने के लिए अपने मुंह को ऊपर कर दिया. इतना ही नहीं, वह मासूम अपने हाथों को चलाते हुए किनारे की ओर बढ़ने लगी. घड़ी देखकर तकरीबन 30 सेकंड बाद शैनन ने बच्ची को गोद में उठा लिया.
अपने टिकटॉक वीडियो में शैनन ने लिखा है कि Crying=Breathing, यानी बच्ची जितना रोएगी, उसी तरह सांस भी लेगी. हम चाहते हैं कि हमारे बच्चे पानी में डूबने से डरने की जगह खुद को बचाना सीखें. उन्होंने कहा कि सोचिए क्या हो अगर 1 साल का बच्चा पूरे कपड़ों, जूते और डायपर पहने पानी में गिर जाए और आपने उसे पानी से बचने के उपाय भी नहीं सीखाए हों? इसलिए ऐसे टेक्निक को सीखाना जरूरी है. हालांकि, इस वीडियो को देखना आसान नहीं है, क्योंकि बच्ची डरकर काफी रो रही है.

पैरेंट्स भी होते हैं मौजूद
अमेरिका में ज्यादातर पैरेंट्स चाहते हैं कि उनके बच्चे पानी से डरें नहीं, बल्कि आसानी से तैरना सीखें. इसलिए वो इस तरह के तैराकी के टेक्निक को सही मानते हैं. तैराकी के इस तकनीक को 'घूमकर सांस लेना' कहा जाता है, जिसे सीखने में महीनों लग जाते हैं. इस दौरान बच्चे अपना सिर ऊपर नहीं उठा पाते, ऐसे में खुद को बचाने के लिए चेहरे को पानी से ऊपर कर लेते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज