अमेरिका में सबसे बड़े साइबर हमले के बाद लगी इमरजेंसी, ईंधन पाइपलाइन कंपनी को बनाया निशाना

दावा किया जा रहा है कि रैन्समवेयर हमला डार्कसाइड नाम के एक साइबर-अपराधी गिरोह ने किया . (सांकेतिक तस्वीर)

दावा किया जा रहा है कि रैन्समवेयर हमला डार्कसाइड नाम के एक साइबर-अपराधी गिरोह ने किया . (सांकेतिक तस्वीर)

Ransomware Cyber-attack: कहा जा रहा है कि हैकर्स ने इस पाइप लाइन की साइबर सिक्योरिटी पर शुक्रवार को हमला किया था. इस साइबर हमले के बाद 18 राज्यों की सेवाएं प्रभावित हुई हैं.

  • Share this:

न्यूयॉर्क. अमेरिका में सबसे बड़े साइबर हमले के बाद इमरजेंसी का ऐलान कर दिया गया है. रविवार को ये हमले देश की सबसे बड़ी ईंधन पाइपलाइन (Ransomware Cyber-attack) की कंपनी कोलोनियल पर किए गए. अमेरिका के पूर्वी तट के राज्यों में डीज़ल, गैस और जेट ईंधन की 45% सप्लाई इसी पाइपलाइन से होती है. फिलहाल यहां कामकाज बंद हो गया है. सेवा को फिर से शुरू करने के लिए युद्धस्तर पर काम चल रहा है. साइबर अटैक के बाद बाइडेन प्रशासन ने आपातकाल की घोषणा कर दी है.

कहा जा रहा है कि हैकर्स ने इस पाइप लाइन की साइबर सिक्योरिटी पर शुक्रवार को हमला किया था. इस साइबर हमले के बाद 18 राज्यों की सेवाएं प्रभावित हुई हैं. एक्सपर्ट का कहना है कि इस हमले के बाद ईंधन की कीमतों में सोमवार को 2-3 फीसदी का इज़ाफा हो सकता है. साथ ही ये भी कहा गया है कि अगर इस समस्या का समाधान नहीं किया गया तो आने वाले दिनों में कीमतें और भी बढ़ सकती हैं.

कब्जे मे लिया डेटा!

दावा किया जा रहा है कि रैन्समवेयर हमला डार्कसाइड नाम के एक साइबर-अपराधी गिरोह ने किया है. कहा जा रहा है कि कोलोनियल नेटवर्क में सेंध लगाई और लगभग 100GB डेटा को अपने कब्ज़े में ले लिया. इसके बाद हैकरों ने कुछ कंप्यूटरों और सर्वरों पर डेटा को लॉक कर दिया और शुक्रवार को फिरौती की मांग की.
ये भी पढ़ें:- असम में आखिर सोनोवाल की जगह बीजेपी ने हिमंत को क्यों दिया सीएम पद?

क्या है रैनसमवेयर हमला?

रैनसमवेयर हमला ऐसा मालवेयर (दुर्भावना से बनाया गया सॉफ्टवेयर) होता है जो किसी कंप्यूटर सिस्टम को ब्लॉक कर देता है और उसका डेटा वापस करने या कंप्यूटर को फिर से खोल सकने के लिए फिरौती की मांग करता है. आपराधिक हैकर ऐसे साइबर हमलों को अंजाम देते हैं. कोलोनियल पाइपलाइन कंपनी ने यह नहीं बताया कि किस चीज की मांग की गई और किसने मांग की है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज