अपना शहर चुनें

States

US Election 2020: ट्रंप बोले- कोरोना के कारण चुनाव नतीजों में होगी देरी, देश में फैल सकती है अव्यवस्था

अमेरिकी चुनाव के नतीजों में देरी से ट्रंप को आशंका (फोटो साभार-AP)
अमेरिकी चुनाव के नतीजों में देरी से ट्रंप को आशंका (फोटो साभार-AP)

US Election 2020: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने आशंका जाहिर की है कि अगर चुनाव के नतीजों में देरी होती है तो ये जनता के मन में शक पैदा करेगी और इससे देश में अव्यवस्था का माहौल पैदा हो सकता है. हालांकि उन्होंने नतीजे आने से पहले ही खुद को विजयी घोषित करने के उनके कथित प्लान से जुड़ी अफवाहों को सिरे से खारिज कर दिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 2, 2020, 10:39 AM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिका के राष्ट्रपति पद के चुनाव (US Election 2020) के लिए अब एक दिन का वक़्त बचा है. उधर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने आशंका जताई है कि इस बार चुनाव के नतीजों के आने में देरी हो सकती है, जिससे देश में अव्यवस्था का माहौल पैदा हो सकता है. इससे पहले फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने भी ऐसी आशंका जाहिर की थी. दरअसल जानकारों ने आशंका जाहिर की है कि अगर नतीजे ट्रंप के पक्ष में नहीं रहे तो उनके समर्थक कई इलाकों में परेशानी का सबब बन सकते हैं. ट्रंप ने खुद भी एक डिबेट के दौरान कहा है कि वे नतीजों के आने के बाद तय करेंगे कि चुनाव ईमानदारी से हुए हैं या नहीं.

अमेरिका में चुनाव प्रचार के अंतिम दौर में दोनों उम्मीदवारों ने एक-दूसरे के गढ़ में पूरी ताकत झोंक दी है. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने पेनसिल्वानिया में कहा कि मतदान के बाद कई हफ्तों तक परिणाम स्पष्ट नहीं होगा. देश में अराजकता और अव्यवस्था का माहौल रहेगा. दूसरी ओर डेमोक्रेटिक प्रत्याशी जोसेफ बाइडन ने पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा के साथ मिशिगन में प्रचार किया. वायरस महामारी पर दोनों प्रत्याशियों के बुनियादी रुख में एक बार फिर अंतर सामने आया है. बाइडन महामारी को गंभीरता से लेने की बात कर रहे हैं. वहीं ट्रंप ने वायरस पर फोकस करने के लिए अपने प्रतिद्वंद्वी की खिल्ली उड़ाई है.

3 नवंबर को मतदान लेकिन रिजल्ट का इंतजार लंबा
पेनसिल्वानिया के न्यूटाउन और रीडिंग में ट्रंप ने कहा कि 3 नवंबर को मतदान के बाद भी चुनाव का फैसला नहीं हो पाएगा. मतपत्रों की गिनती नहीं हो सकेगी. न्यूटाउन में उन्होंने कहा, लोगों को कई सप्ताह तक परिणाम का इंतजार करना पड़ेगा. समय पर नतीजा नहीं आएगा, क्योंकि पेनसिल्वानिया बहुत बड़ा राज्य है. 3 नवंबर चला जाएगा और हमें जानकारी नहीं मिलेगी. हम अपने देश में अव्यवस्था फैलते हुए देखेंगे. राष्ट्रपति ने रीडिंग में सुप्रीम कोर्ट के एक फैसले का जिक्र किया. उन्होंने बताया, कोर्ट ने पेनसिल्वानिया के रिपब्लिकन नेताओं द्वारा 3 नवंबर के तीन दिन बाद तक डाक मतपत्र गिनती में शामिल करने के आग्रह को नामंजूर कर दिया. राष्ट्रपति ने फैसले को निराशाजनक बताया.
ट्रंप ने अश्वेत बहुल शहर फिलाडेल्फिया में सुरक्षित और निष्पक्ष मतदान पर संदेह जताया. उन्होंने कहा,क्या वोटिंग खत्म होने के बाद रहस्यमय तरीके से कुछ और मतपत्र मिलने वाले हैं. फिलाडेल्फिया में विचित्र घटनाएं होती रहती हैं. ट्रंप ने 2016 में भी यह रणनीति अपनाई थी. देश में लंबे समय से इस सवाल पर चर्चा हो रही है कि महत्वपूर्ण राज्यों में कितने लंबे समय तक मतपत्रों का इंतजार किया जाए. उधर फ्लिंट, मिशिगन में ओबामा ने बाइडेन के साथ ड्राइव इन रैली में हिस्सा लिया. पिछले दो सप्ताह से ओबामा अकेले प्रचार कर रहे थे. शनिवार को पहली बार चुनाव में ओबामा और बाइडेन एक साथ नजर आए. ओबामा ने भीड़ भरी रैलियां करने के लिए ट्रंप का मजाक उड़ाया. उन्होंने कहा, क्या फॉक्स न्यूज ट्रंप का ध्यान नहीं रख रहा है. पेनसिल्वानिया और मिशिगन को तथाकथित ब्लू वॉल (डेमोक्रेटिक समर्थक) का हिस्सा कहा जाता है. इसमें एक अन्य राज्य विस्कांसिन शामिल है.



चार निर्णायक राज्यों में बाइडेन ही आगे
अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में एरिजोना, फ्लोरिडा, पेन्सिलवेनिया और विस्कोन्सिन निर्णायक भूमिका में रहते हैं. इस बार इन चारों राज्यों में डेमोक्रेटिक कैंडिडेट जो बाइडेन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प पर भारी पड़ते दिख रहे हैं. अभी तक के सभी सर्वे बता रहे हैं कि बाइडेन इन राज्यों में क्रमश 6,3,6 और 12 अंकों की लीड ले चुके हैं. हालांकि, पिछले महीने वे इन राज्यों में थोड़े कमजोर दिख रहे थे. फ्लोरिडा में बेशक बाइडेन की लीड सिर्फ 3 अंकों की है लेकिन, चुनावी विशेषज्ञ इसे बेहद अहम बता रहे हैं. क्योंकि, फ्लोरिडा में ट्रम्प लगातार संघर्ष कर रहे हैं. सर्वे में यह भी सामने आया है कि कोरोना के बढ़ते मामलों की वजह से ट्रंप की स्थिति खराब हुई है.

बाइडेन का पलड़ा भारी
राष्‍ट्रपति चुनाव के सर्वे में डेमोक्रेटिक उम्‍मीदवार जो बिडेन अपने प्रतिद्वंद्वी डोनाल्‍ड ट्रंप से बढ़त बनाए हुए हैं. फॉक्स न्यूज द्वारा किए गए सर्वे में 52 फीसद मतदाताओं ने डेमोक्रेटिक पार्टी के प्रत्‍याशी बिडेन को वोट देने की बात कही है, जबकि 44 फसद लोग राष्ट्रपति ट्रंप का समर्थन करते दिख रहे हैं. इस तरह बिडेन अपने प्रतिद्वंद्वी से 8 फीसद की बढ़त बनाए हुए हैं. दो फीसद लोगों ने तीसरे प्रत्याशी को वोट देने और दो फीसद अन्य लोगों ने अभी तक यह फैसला नहीं लिया है कि वह किसे वोट देंगे. सर्वे में बिडेन ना केवल राष्ट्रीय स्तर पर आगे चल रहे हैं, बल्कि कांटे के मुकाबले वाले प्रांतों में पूर्व उपराष्ट्रपति ट्रंप पर बढ़त बनाए हुए हैं. बुधवार को सीएनएन द्वारा किए गए सर्वे में भी 54 फीसद लोगों ने बिडेन को वोट देने की बात कही थी.



हालांकि, कई राज्‍यों में दोनों प्रत्‍याशियों के बीच कांटे का मुकाबला है. खासकर मिशिगन, उत्‍तर कैरोलिना, विस्कॉन्सिन, फ्लोरिडा और पेंसिलवेनिया में दोनों उम्‍मीदवारों के बीच कांटे की टक्‍कर है. हालांकि, इसमें से कई राज्‍यों में जो बिडेन बढ़त बनाए हुए हैं, लेकिन बढ़त का मार्जिन काफी कम है. दोनों उम्‍मीदवार की नजरें इन राज्‍यों पर टिकी हैं. शनिवार को राष्ट्रपति ट्रंप ने अकेले चार रैलियां कांटे के मुकाबले वाले प्रांत पेंसिलवेनिया में किया. अमेरिकी राष्‍ट्रपति चुनाव में डेमोक्रेटिक उम्‍मीदवार जो बिडेन ने मिशिगन प्रांत में रिपब्लिकन प्रत्‍याशी डोनाल्‍ड ट्रंप से में अपनी बढ़त बनाए रखी है. रायटर/ इप्सोस पोल सर्वे के मुताबिक राष्‍ट्रपति चुनाव में छह अमेरिकी राज्‍यों की अहम भूमिका होगी. राष्‍ट्रपति चुनाव में पांच राज्‍यों के नागरिक ही तय करेंगे कि अमेरिका का अगला राष्‍ट्रपति कौन होगा. राष्‍ट्रपति ट्रंप को दूसरे कार्यकाल के लिए इन छह राज्‍यों की प्रमुख भूमिका रहेगी. दोनों उम्‍मीदवारों की निगाहें इन राज्‍यों पर टिकी हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज