US एयरक्राफ्ट कैरियर के शॉक से कांपा समंदर, विस्फोट से आया 3.9 तीव्रता का भूकंप

अमेरिकी नौसेना के एयरक्राफ्ट का दूसरा इन वॉटर शॉक ट्रायल (in-water shock trail) पूरा हो चुका है.

USS Gerald R Ford का पहला शॉक ट्रायल पिछले महीने 18 जून को किया गया था. उस समय भी फ्लोरिडा के तट पर समुद्र में सुनामी जैसा माहौल बन गया था. दूसरे ट्रायल के कुछ वीडियो बुधवार को शेयर किए गए हैं.

  • Share this:
    वॉशिंगटन. अमेरिकी नौसेना (US Navy) ने अपने अत्याधुनिक एयरक्राफ्ट कैरियर USS Gerald R Ford के ट्रायल के दौरान एक बार फिर से समुद्र में भूकंप ला दिया. अमेरिकी नौसेना के एयरक्राफ्ट का दूसरा इन वॉटर शॉक ट्रायल (in-water shock trail) पूरा हो चुका है. हालांकि पहले तकनीकी कमियों के चलते इसे रोकना पड़ा था. USS Gerald R Ford से कुछ सौ मीटर की दूरी पर हजारों किलोग्राम के बम का विस्फोट किया गया. यह धमाका इतना तेज था कि भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए.
    एयरक्राफ्ट कैरियर पर मौजूद लोगों के लिए अपने पैरों पर खड़े होना मुश्किल हो गया. यहां तक कि USS Gerald R Ford पर 3.9 तीव्रता का भूकंप महसूस किया गया. इसका पहला शॉक ट्रायल पिछले महीने 18 जून को किया गया था. उस समय भी फ्लोरिडा के तट पर समुद्र में सुनामी जैसा माहौल बन गया था. दूसरे ट्रायल के कुछ वीडियो बुधवार को शेयर किए गए हैं.

    भारत को US नेवी से मिलेंगे 2 सीहॉक हेलीकॉप्टर, और पुख्ता होगी समुद्री सुरक्षा



    कुल तीन ट्रायल होने हैं
    USS Gerald R Ford के कुल तीन शॉक ट्रायल होने हैं. ट्रायल्स के दौरान अमेरिकी नौसेना इस एयरक्राफ्ट कैरियर की युद्ध क्षमता की जांच करना चाहती है. तीनों ही ब्लास्ट पानी के भीतर होने हैं. वो भी जहाज के पास. हर ब्लास्ट के बाद क्रू सदस्य फोर्ड के सभी बड़े शिप सिस्टम की जांच करेंगे. जांच के दौरान वे यह सुनिश्चित करेंगे कि ब्लास्ट से जहाज को किसी तरह का कोई नुकसान तो नहीं हुआ.

    वर्ल्ड हेरिटेज कमेटी ने लिवरपूल मैरीटाइम मर्केंटाइल सिटी को UNESCO की विश्व विरासत सूची से हटाया

    एक जुलाई को होना था दूसरा ट्रायल
    नौसेना समुद्री सिस्टम कमांड की प्रवक्ता कैथरीन बिनफेंग ने डिफेंस न्यूज से कहा, ‘फोर्ड को दूसरा शॉक शॉट एक जुलाई को होना था. मगर तकनीकी कारणों के चलते यह संभव नहीं हो पाया. एक जुलाई को अमेरिकी नौसेना के दो इंजीनियरों ने दो बार विस्फोट करने की कोशिश की, लेकिन एयरक्राफ्ट कैरियर के सहायक पोत पर तैनात एक जरूरी उपकरण फेल हो गया. इसके बाद 16 जुलाई को यह ट्रायल हुआ.’ उन्होंने बताया कि शॉक ट्रायल के दौरान कैरियर तय समय के भीतर पूरी तरह से ट्रैक पर रहा. (एजेंसी इनपुट के साथ)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.