पेंटागन रिपोर्ट ने लश्कर को अफगानिस्तान में अमेरिका के लिए ख़तरा बताया

पेंटागन की रिपोर्ट 'लीड इंस्पेक्टर जनरल फॉर ऑपरेशन फ्रीडम्स सेंटिनेल' के मुताबिक अफगानिस्तान में 20 सबसे बड़े आतंकवादी संगठनों में लश्कर पांचवें नंबर पर है.

पीटीआई
Updated: May 24, 2019, 4:13 PM IST
पेंटागन रिपोर्ट ने लश्कर को अफगानिस्तान में अमेरिका के लिए ख़तरा बताया
पेंटागन रिपोर्ट ने लश्कर को अफगानिस्तान में अमेरिका के लिए ख़तरा बताया (image credit: News18/Reuters/File)
पीटीआई
Updated: May 24, 2019, 4:13 PM IST
पाकिस्तान के आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा को अफगानिस्तान में अमेरिका अपने और सहयोगी बलों के लिए सबसे बड़े खतरों में से एक मानता है. पेंटागन की रिपोर्ट 'लीड इंस्पेक्टर जनरल फॉर ऑपरेशन फ्रीडम्स सेंटिनेल' के मुताबिक अफगानिस्तान में 20 सबसे बड़े आतंकवादी संगठनों में लश्कर पांचवें नंबर पर है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि हक्कानी नेटवर्क, ईस्टर्न तुर्किस्तान इस्लामिक मूवमेंट और लश्कर-ए-तैयबा को अमेरिकी रक्षा मंत्रालय अफगानिस्तान में अमेरिका और सहयोगी बलों के लिए सबसे बड़े खतरों के रूप में देखता है. रिपोर्ट में ज़िक्र किया गया है कि लश्कर के 300 और इस्लामिक अमीरात हाई कौंसिल के 1,000 आतंकवादी अफगानिस्तान में सक्रिय हैं.



लश्कर-ए-तैयबा का गठन 1980 के दशक में हुआ था. मौजूदा समय में पाकिस्तानी धरती से चल रहे सबसे बड़े आतंकी संगठनों में से एक LeT है. दिसंबर 2001 में अमेरिका ने लश्कर-ए-तैयबा को विदेशी आतंकवादी संगठन के तौर पर नामित किया था.

पाकिस्तान ने 2002 में लश्कर पर प्रतिबंध लगा दिया था. लेकिन इसके बावजूद भी संगठन जमात उद दावा और फलाह ए इंसानियत फाउंडेशन के ज़रिए अपने कामों को अंजाम देता रहा. इसी साल पुलवामा हमले के बाद बढ़ते अंतरराष्ट्रीय दबाव के चलते पाकिस्तान को इन संगठनों पर प्रतिबंध लगाने के लिए बाध्य होना पड़ा था.

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप लगातार पाकिस्तान पर आतंकवादियों को पनाह देने का आरोप लगाते रहे हैं. ईरान और अफगानिस्तान भी पाकिस्तान पर आरोप लगाते हैं कि वो पड़ोसी देशों पर हमले करने के लिए आतंकवादी संगठनों को समर्थन देता है.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...