लाइव टीवी

अमेरिका की पाकिस्तान को चेतावनी, कहा-मीडिया को स्वतंत्र तरीके से करने दें काम

News18Hindi
Updated: October 22, 2019, 10:58 PM IST
अमेरिका की पाकिस्तान को चेतावनी, कहा-मीडिया को स्वतंत्र तरीके से करने दें काम
अमेरिका की पाकिस्तान को चेतावनी, कहा-मीडिया को स्वतंत्र तरीके से करने दें काम

अमेरिका (America) ने कहा है कि वह पाकिस्तान (Pakistan) में मानवाधिकार उल्लंघनों (Human rights violations) और लोगों के साथ धर्म के आधार पर हो रहे भेदभाव को लेकर काफी चिंतित है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 22, 2019, 10:58 PM IST
  • Share this:
वॉशिंगटन. अमेरिका (America) ने एक बार फिर पाकिस्तान (Pakistan) को चेतावनी देते हुए कहा है कि वह अपने मुल्क में नागरिक समाज (civil society) और मीडिया (Media) को स्वतंत्रत तरीके से काम करने दे. अमेरिका ने कहा है कि वह पाकिस्तान में मानवाधिकार उल्लंघनों (Human rights violations) और लोगों के साथ धर्म के आधार पर हो रहे भेदभाव को लेकर काफी चिंतित है. अमेरिका ने पाकिस्तान सरकार से विधि का शासन और देश के संविधान में निहित स्वतंत्रता को बरकरार रखने की अपील की है.

दक्षिण एवं मध्य एशिया के लिए कार्यवाहक सहायक विदेश मंत्री एलिस जे वेल्स ने एशिया, प्रशांत और परमाणु अप्रसार पर सदन की विदेश मामलों की समिति की उपसमिति के लिए तैयार किए गए एक बयान में उम्मीद जताई कि मौजूदा आईएमएफ योजना के तहत पाकिस्तान जो सुधार कर रहा है उससे पाकिस्तान बेहतर आर्थिक प्रबंधन एवं विकास की नींव रखेगा. उन्होंने कहा कि इससे पाकिस्तान की लोकतांत्रिक व्यवस्था एवं मानवाधिकार स्थिति में सुधार होगा.



इसे भी पढ़ें :- पाकिस्तान 9 नवंबर को खोलेगा करतारपुर गलियारा : इमरान खान
Loading...

उन्होंने कहा, हाल के कुछ वर्षों में हमने पाकिस्तान में कुछ चिंताजनक चलन देखे हैं, जिनमें नागरिक समाज और मीडिया स्वतंत्रता को सीमित करने की कोशिश की जा रही है. मीडिया और नागरिक समाज पर उत्पीड़न, धमकियां और वित्तीय एवं नियामक कार्रवाई करने जैसे दबाव पिछले कुछ सालों में बढ़े हैं. वेल्स ने कहा कि अमेरिका पाकिस्तान सरकार से विधि का शासन बरकरार रखने की अपील करता है. उन्होंने क‍हा कि इसमें उन समूहों के शांतिपूर्ण तरीके से एकत्रित होने का अधिकार भी शामिल है, जो नेतृत्व एवं सुरक्षा प्रतिष्ठान की आलोचना करते हैं जैसे पश्तून तहाफुज आंदोलन.

इसे भी पढ़ें :-

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 22, 2019, 11:11 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...