अपना शहर चुनें

States

Coronavirus: फाइजर की वैक्सीन को WHO ने इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दी

फाइजर के टीकों को -70 डिग्री तापमान के आसपास रखा जाना जरूरी है. (सांकेतिक तस्वीर)
फाइजर के टीकों को -70 डिग्री तापमान के आसपास रखा जाना जरूरी है. (सांकेतिक तस्वीर)

Pfizer-BioNTech: अमेरिका में अब तक करीब दो लाख से ज्यादा लोगों को फाइजर कंपनी की वैक्सीन के टीके लगाए जा चुके हैं. टीकाकरण कार्यक्रम दिसंबर के दूसरे हफ्ते में शुरू हुआ था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 1, 2021, 9:42 AM IST
  • Share this:
न्यूयॉर्क. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने फाइज़र-बायोटेक (Pfizer-BioNTech) वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए मंज़ूरी दे दी है. WHO की हरी झंडी के बाद अब दुनिया के कई देशों में इस वैक्सीन के आयात और डिस्ट्रीब्यूशन को अनुमति मिल जाएगी. बता दें कि पिछले महीने ही इस वैक्सीन के इस्तेमाल को अमेरिका ने मंजूरी थी थी. अमेरिका के अलावा मध्य-पूर्व और यूरोप के देशों में भी फाइजर के टीके लगाए जा रहे हैं.

डब्ल्यूएचओ के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा कि ये कोविड -19 टीकों के लिए वैश्विक पहुंच सुनिश्चित करने की दिशा में एक बहुत ही सकारात्मक कदम है. साथ ही उन्होंने कहा कि ये जरूरी है कि दुनिया के सारे लोगों को ये वैक्सीन जल्द से जल्द मिले. बता दें कि WHO ने खुद अपनी एक्सपर्ट टीम से डेटा मिलने के बाद फाइजर के इस वैक्सीन को मंजूरी दी है. एक्सपर्ट ने बताया है कि ये वैक्सीन सुरक्षा के सारे पैमानों पर सही साबित हुआ है.

अमरिका में लग रहे हैं टीके
अमेरिका में अब तक करीब दो लाख से ज्यादा लोगों को फाइजर कंपनी की वैक्सीन के टीके लगाए जा चुके हैं. टीकाकरण कार्यक्रम दिसंबर के दूसरे हफ्ते में शुरू हुआ. हालांकि अमेरिका में एफडीए उन 5 मामलों की जांच में जुटा है, जिनमें लोगों ने वैक्सीन के टीके लेने के बाद एलर्जी की शिकायत की है. इसके चलते अमेरिकी सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन सेंटर ने चेतावनी जारी की है कि जिन लोगों में कोरोना वायरस वैक्सीन के चलते गंभीर एलर्जी के लक्षण देखने को मिले हैं, उन्हें वैक्सीन का दूसरा टीका नहीं लगाया जाना चाहिए.
ये भी पढ़ें:- सिंघु बॉर्डर पर खुला किसान मॉल, मुफ्त मिलता है जरूरत का हर सामान



अब तक 8 देशों में मंजूरी
फाइजर की वैक्सीन को 8 देशों ने आपातकालीन इस्तेमाल के लिए मंजूरी दी है. ब्रिटेन के अलावा कनाडा, बहरीन, अमेरिका, मेक्सिको, मलेशिया और स्विटरलैंड के साथ इजरायल ने भी हाल ही में मंजूरी दी है. इजरायल की कोशिश हर दिन 60 हजार लोगों को वैक्सीन का टीका लगाने की है.

फाइजर वैक्सीन की चुनौती
कोरोना वायरस संक्रमण से अमेरिका पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा प्रभावित है. फाइजर की वैक्सीन के साथ समस्या ये है कि उसे -70 डिग्री सेल्सियस पर स्टोर किया जाना अनिवार्य है, जबकि मॉडर्ना की वैक्सीन के लिए -20 डिग्री सेल्सियस तापमान चाहिए होता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज