लाइव टीवी

विश्व एड्स दिवस 2018: जब भारतीय यौनकर्मी की बात सुनकर रो पड़े थे बिल गेट्स

भाषा
Updated: November 30, 2018, 11:54 PM IST
विश्व एड्स दिवस 2018: जब भारतीय यौनकर्मी की बात सुनकर रो पड़े थे बिल गेट्स
बिल गेट्स (फाइल फोटो)

लेखक ने भारत के यौनकर्मियों की जिंदगी की सच्ची कहानियां लिखी हैं जो टूटकर बिखर जाने की स्थिति और निराशा से उबरने और उम्मीद की किरणें ढूंढने के बारे में हैं.

  • भाषा
  • Last Updated: November 30, 2018, 11:54 PM IST
  • Share this:
गेट्स फाउंडेशन के एड्स रोकथाम कार्यक्रम के तहत भारत की एक यात्रा के दौरान बिल गेट्स ने जब एक यौनकर्मी की यह कहानी सुनी कि सहपाठियों के हाथों परेशान होने और ताने सुनने के बाद उसकी बेटी ने खुदकुशी कर ली. तब उनकी आंखों से आंसू टपक आए.

गेट्स फाउंडेशन के एचआईवी/एड्स रोकथाम कार्यक्रम आह्वान की दस साल तक अगुवाई कर चुके अशोक एलेक्जेंडर ने अपनी पुस्तक ‘ए स्ट्रेंजर ट्रूथ: लेसंश इन लव, लीडरशिप एंड करेज फ्रोम इंडियाज सेक्स वर्कर्स’ में यह बात कही है. एलेक्जेंडर ने इस पुस्तक में देश की यौनकर्मियों, उनकी जिंदगी, इस महामारी के सदंर्भ में भारत कैसे सफल रहा, उसकी गाथा, उसका नेतृत्व कौशल एवं जीवन का सबक सीखा जा सकता है, आदि पर चर्चा की है.

लेखक ने भारत के यौनकर्मियों की जिंदगी की सच्ची कहानियां लिखी हैं जो टूटकर बिखर जाने की स्थिति और निराशा से उबरने और उम्मीद की किरणें ढूंढने के बारे में हैं. अपनी यात्राओं के दौरान बिल और उनकी पत्नी मेलिंदा यौन कर्मियों पर पूरा ध्यान देती थीं.

उन्होंने लिखा है, 'वे फर्श पर पलथी मारकर बैठ जाते थे और सामने छोटे समूह में होती थीं इस समुदाय की सदस्य. मेलिंदा ने उनमें से कुछ से पूछा कि क्या आप अपनी कहानी बता सकती हैं? सारी कहानियां समाज में ठुकराए जाने, भयंकर गरीबी की होती थीं और कुछ फिर उम्मीद की किरणें. वे बिल्कुल सच्ची होती थीं.'



ये भी पढ़ें: Exclusive: आधार कार्ड से प्राइवेसी को खतरा नहीं- बिल गेट्स

एक ऐसी ही कहानी गेट्स की 2000 के प्रारंभिक दिनों की यात्रा के दौरान उन्हें सुनाई गई कहानी थी. एक महिला ने बताया कि स्कूल जा रही अपनी बेटी से उसने यह बात छिपायी कि वह यौनकर्मी है. स्कूल में जब उसके सहपाठियों को सच्चाई का पता चला तो वे उसे परेशान करने लगे. ताने मारने लगे और उन्होंने उसका बहिष्कार तक कर दिया. लड़की अवसादग्रस्त हो गई.

ये भी पढ़ें: बिल गेट्स ने हाथ में उठाया मानव मल, हैरान रह गए लोग, जानें क्या है पूरा मामला?

पुस्तक में कहा गया है, 'एक दिन उसकी मां ने घर आने पर देखा कि वह फांसी की फंदे से लटकी थी. वहां एक नोट पड़ा था जिसपर लिखा था कि मैं अब और बर्दाश्त नहीं कर सकती. मैंने देखा कि मेरे ही बगल में बैठे बिल गेट्स का सिर झुक गया और उनकी आंखों से आंसू टपकने लगे. यह पुस्तक जगरनट ने प्रकाशित की है.'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अमेरिका से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 30, 2018, 11:54 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर