लाइव टीवी

अमेरिका ने बनाई ऐसी लेजर गन, जो बिना शोर किए दुश्मन को कर देगी खामोश!

News18India
Updated: December 31, 2015, 7:58 AM IST
अमेरिका ने बनाई ऐसी लेजर गन, जो बिना शोर किए दुश्मन को कर देगी खामोश!
अमेरिकी नौसेना ने एक ऐसी लेजर गन विकसित कर ली है जो दुश्मनों के छक्के छुड़ा देगा। ये हथियार है 30 किलोवॉट वाली लेजर गन।

अमेरिकी नौसेना ने एक ऐसी लेजर गन विकसित कर ली है जो दुश्मनों के छक्के छुड़ा देगा। ये हथियार है 30 किलोवॉट वाली लेजर गन।

  • News18India
  • Last Updated: December 31, 2015, 7:58 AM IST
  • Share this:
न्यूयॉर्क। अमेरिकी नौसेना ने एक ऐसी लेजर गन विकसित कर ली है जो दुश्मनों के छक्के छुड़ा देगा। ये हथियार है 30 किलोवॉट वाली लेजर गन। ये भविष्य के उस हथियार की कल्पना है, जिनके आने के बाद गोली-बारूद का जमाना हमेशा के लिए खत्म हो जाएगा। भविष्य के हथियारों से जुड़े ऐसे ज्यादातर प्रयोग अमेरिका में किए गए हैं-लेकिन जर्मनी, चीन, रूस और भारत भी अपनी-अपनी लेजर गन विकसित करने की कोशिश में जुटे हैं। हालांकि अमेरिका अब अगले महीने उस पहली लेजर गन का परीक्षण करने जा रहा है, जिसे विमान पर लगाकर आक्रमण और रक्षा दोनों की क्षमता हासिल की जा सकेगी।

ऐसा भी नहीं है कि लेजर गन वाले हथियार सिर्फ भविष्य की कल्पना हैं। अमेरिकी नौसेना के पास ऐसी लेजर गन है जो दुश्मनों के छक्के छुड़ाने के लिए काफी है। ऐसी लेजर गन के जरिए लेजर बीम के वार से अमेरिकी नौसेना छोटे ड्रोन को गिरा चुकी है। यही नहीं, दुश्मन के जंगी जहाज को ये लेजर गन किस तरह से डुबो सकती है-ये क्षमता भी अमेरिकी नौसेना परख चुकी है। अमेरिकी नौसेना का ये हथियार बिना आवाज किए दुश्मन को नेस्तनाबूद कर सकता है।

दरअसल 30 किलोवॉट का लेजर वेपन सिस्टम एक फाइबर लेजर गन है। नौसेना ने इस लेजर गन को USS Ponce पर लगाया है। 2014 से लेजर गन से लैस USS Ponce मध्य एशिया में तैनात है। अक्टूबर 2015 में अमेरिकी नौसेना ने इससे भी ज्यादा ताकतवर लेजर हथियार के विकास के लिए नार्थोप ग्रूम्मन कंपनी को 3.4 अरब रुपए का ठेका दिया है। अमेरिका अब वायुसेना के लिए भी लेजर गन का परीक्षण करने जा रहा है। माना जा रहा है कि वायुसेना के लिए तैयार की गई लेजर गन यूएसएस पोंस पर तैनात लेजर गन से करीब पांच गुना ज्यादा ताकवतर है।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 31, 2015, 7:58 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर