जैकब ब्लैक मामला: राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप कल जाएंगे केनोशा, बढ़ सकता है और तनाव

जैकब ब्लैक मामला: राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप कल जाएंगे केनोशा, बढ़ सकता है और तनाव
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (फाइल फोटो)

अश्वेत जैकब ब्लैक (Jacob Blake) मामले में भड़की हिंसा के बाद अब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) मंगलवार को केनोशा जाएंगे. वहां जाकर हालात का जायजा लेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 30, 2020, 8:04 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. पुलिस गोलीबारी में अश्वेत जैकब ब्लैक (Jacob Blake) के जख्मी होने के बाद भड़की हिंसा के बीच अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) मंगलवार को विस्कॉन्सिन के केनोशा जाएंगे. व्हाइट हाउस के प्रवक्ता जुड डीरी ने शनिवार को एयरफोर्स वन में संवाददाताओं को बताया कि ट्रंप कानून प्रवर्तन अधिकारियों से मिलेंगे और हाल के हिंसक प्रदर्शन से हुए नुकसान का सर्वेक्षण करेंगे. टेक्सास में शनिवार को एक कार्यक्रम के दौरान ट्रंप से केनोशा की यात्रा के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा इसके जल्द होने के आसार हैं. उन्होंने टेक्सास में एक सम्मेलन में कहा कि हो सकता है. हमने स्थिति काबू पाने करने में सफलता पाई. हम स्थानीय अधिकारियों से बातचीत करके नेशनल गार्ड को भेजने में सक्षम रहे. गार्ड के वहां पहुंचने के कुछ ही मिनटों के भीतर हर चीज सामान्य और सुरक्षित हो गई.

इस यात्रा से शहर में निश्चित ही तनाव बढ़ने की आशंका है जहां शनिवार को राजनीतिक हिंसा की आलोचना के लिए एक अदालत परिसर के बाहर 1000 प्रदर्शनकारियों की भीड़ जुटी थी. पुनर्निर्वाचन के प्रयास में जुटे ट्रंप कानून व्यव्यस्था को लेकर अपना अभियान चला रहे हैं और पुलिस के प्रति समर्थन व्यक्त करते हुए प्रदर्शनकारियों को 'ठग बता रहे हैं. गौरतलब है कि अमेरिका के विस्कॉन्सिन में 23 अगस्त को दो पुलिसकर्मियों ने 29 वर्षीय अश्वेत व्यक्ति जैकब ब्लेक को गोली मार दी थी. इस घटना के विरोध में जगह-जगह विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं. जहां केनोशा में उन प्रदर्शनों में दो लोगों की मौत हो गई वहीं 17 वर्षीय केली रिट्टेनहाउस को गिरफ्तार कर लिया गया. स्थिति पर नियंत्रण पाने के लिए लगभग 1000 से अधिक राष्ट्रीय सुरक्षा गार्डों को तैनात किया गया है.

फेसबुक ने मानी गलती
वहीं, इस मामले पर फेसबुक का भी बयान सामने आया है. दरअसल, पिछले हफ्ते फेसबुक (Facebook) ने अपने प्लेटफार्म से एक भड़काऊ पोस्ट को नहीं हटाया था. इसे लेकर अब सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने यह बात तो मान ली कि फेसबुक ने हिंसा की वकालत करने वाले इस पोस्ट को न हटाकर गलती की है, लेकिन उन्होंने इसके लिए माफी नहीं मांगी. दरअसल, जैकब ब्लैक के जख्मी होने वाली इस घटना के बाद केनोशा में प्रदर्शन शुरू हो गए. इसी दौरान 'केनोशा गार्ड' नाम के एक फेसबुक पेज पर लोगों से हथियारों के साथ केनोशा में घुसने की अपील की गई थी. जुकरबर्ग ने एक वीडियो पोस्ट में कहा कि यह सामग्री फेसबुक की नीतियों के खिलाफ थी.
ये भी पढ़ें: जैकब ब्लैक मामला: मार्क जुकरबर्ग बोले- भड़काऊ पोस्ट ना हटाकर फेसबुक ने गलती की



कब हटाया पोस्ट
उन्‍होंने कहा कि कई लोगों ने इस पोस्ट के खिलाफ ध्यान खींचा था लेकिन तब इसे हटाया नहीं जा सका. यह एक गलती थी. आखिरकार, बुधवार को यह पोस्ट तब हटाया गया, जब एक हथियारबंद शख्स ने कथित रूप से दो लोगों की जान ले ली और तीसरे को घायल कर दिया. हाल के दिनों में फेसबुक ने जनसुरक्षा को खतरा पहुंचाने वाले समूहों के पोस्ट हटाने या प्रतिबंधित करने के लिए नए दिशा-निर्देश लागू किए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज