अमेरिकी वैज्ञानिकों ने ढूंढ निकाला इंसानों की उम्र बढ़ाने का रास्ता!

अमेरिकी वैज्ञानिकों ने ढूंढ निकाला इंसानों की उम्र बढ़ाने का रास्ता!
कैलिफोर्निया में मनुष्य के जीवन काल को बढ़ाने का रास्ता ढूंढ निकाला गया है. ( प्रतीकात्मक तस्वीर)

अमेरिका में दक्षिणी कैलिफोर्निया के एक विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने मनुष्य के जीवनकाल (Life Expectency Of Human) को बढ़ाने के रास्ते की शुरुआत को समझने का प्रयास किया है.

  • Share this:
कैलिफोर्निया. अमेरिका में दक्षिणी कैलिफोर्निया स्थित एक विश्वविद्यालय (Scientist Of California) के वैज्ञानिकों ने मनुष्य के जीवनकाल (Life oF Human Being) को बढ़ाने के रास्ते की शुरुआत को समझने का प्रयास किया है. यह शोध जर्नल ऑफ जेरोन्टोलॉजी: बायोलॉजिकल साइंसेज में 10 जुलाई को प्रकाशित यूएससी डॉर्नसाइफ कॉलेज ऑफ लेटर्स,आर्ट्स एंड साइंसेज (USC Dornsife College of Letters, Arts and Sciences) की एक टीम द्वारा किया गया है.

मिफेप्रिस्टोन दो अलग प्रजातियों के जीवन का विस्तार कर सकती है

इस शोध में यह दिखाया गया है कि दवा मिफेप्रिस्टोन प्रयोगशाला अध्ययनों में इस्तेमाल की जाने वाली दो बहुत अलग प्रजातियों के जीवन का विस्तार कर सकती है. चिकित्सक मिफेप्रिस्टोन जिसे आरयू-486 भी कहा जाता है, का इस्तेमाल आरम्भिक गर्भावस्था को समाप्त करने के साथ-साथ कैंसर और कुशिंग रोग का इलाज करने के लिए करते हैं. मादा के ड्रोसोफिला में सम्भोग, सेक्स पेप्टाइड और मिफेप्रिस्टोन/आरयू 486 द्वारा विनियमित जीवन के मेटाबोलिक सिग्नेचर से यह संकेत मिलते हैं कि सुझाव है कि इन शोधों से प्राप्त फाइंडिंग मनुष्यों सहित अन्य प्रजातियों पर भी लागू हो सकती हैं.



मादा फल को मक्खियों के संभोग से प्राप्त होती है पेप्टाइड
यूएससी डॉर्नसेफ कॉलेज ऑफ लेटर्स, आर्ट्स एंड साइंसेज में जैविक विज्ञान के प्रोफेसर जॉन टॉवर और उनकी टीम ने पाया कि माईफप्रिस्टोन (mifepristone) संभोग की हुई मादा फ्रूट फ्लाई (ड्रोसोफिला) के जीवनकाल को बढ़ा देती है. मादा फल को मक्खियों के संभोग के दौरान पुरुषों से सेक्स पेप्टाइड की प्राप्ति होती है. पिछले शोध से यह पता चला है कि अणु सूजन का कारण बनता है और मादा मक्खियों के स्वास्थ्य और जीवनकाल को कम कर देता है.

माईफप्रिस्टोन देने से पेप्टाइड के प्रभाव रुक गए

टॉवर और उनकी टीम जिसमें गैरी लैंडिस नाम के वरिष्ठ शोध सहयोगी और अध्ययन के प्रमुख शोधकर्ता सहित भी शामिल हैं, ने पाया कि जिन मादा मक्खियों ने संभोग किया है, उन्हें माईफप्रिस्टोन देने से सेक्स पेप्टाइड के प्रभाव रुक गए हैं और सूजन कम हुई है. इस दवा के प्रभाव से वे मादा मक्खियां उन दूसरी मक्खियों की तुलना में ज्यादा जीती हैं, जिन्हें यह दवा नहीं दी गई थी. टावर की टीम ने कहा कि मुख्य बात यह है कि माईफप्रिस्टोन दोनों प्रजातियों में जीवनकाल बढ़ा सकता है और यह भी यह संकेत देता है कि यह तंत्र कई प्रजातियों के लिए महत्वपूर्ण है.

ये भी पढ़ें: इस शहर को आर्थिक मंदी से बचाने के लिए छापे जा रहे हैं कोविड डॉलर

अफगानिस्तान में कोरोना का कहर, 70 फीसदी सांसद हुए मरीज

हमारे आंकड़ों से पता चलता है कि ड्रोसोफिला में माईफप्रिस्टोन या तो सीधे या अप्रत्यक्ष रूप से किशोर हार्मोन संकेत पर प्रतिक्रिया करता है लेकिन न्यूज मेडिकल के अनुसार टावर ने कहा कि माईफप्रिस्टोन का सटीक लक्ष्य अभी भी अस्पष्ट बना हुआ है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading