लाइव टीवी
Elec-widget

आर्मी चीफ जनरल बाजवा की वर्दी उतरी तो पाकिस्तान में लग सकती है इमरजेंसी: रिपोर्ट

News18Hindi
Updated: November 28, 2019, 8:20 AM IST
आर्मी चीफ जनरल बाजवा की वर्दी उतरी तो पाकिस्तान में लग सकती है इमरजेंसी: रिपोर्ट
जनरल कमर जावेद बाजवा के साथ पीएम इमरान खान

पाकिस्तान (Pakistan) के आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा (Qamar Javed Bajwa) के सेवा विस्तार पर अभी तक कोई फैसला नहीं लिया गया है. अगर उनके सेवा विस्तार पर रोक लग जाती है, तो इससे हालात और बिगड़ेंगे. फिर देश की सेना बगावत कर सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 28, 2019, 8:20 AM IST
  • Share this:
इस्लामाबाद. आर्थिक और राजनीतिक संकट से घिरे पाकिस्तान (Pakistan) में इस बात की चर्चा जोरों पर है कि देश में इमरान खान सरकार (Imran Khan Government) इमरजेंसी लगा सकती है. पाकिस्तानी मीडिया की रिपोर्ट है कि सत्ता के शीर्ष पर मौजूद लोग इस बात पर विचार कर रहे हैं कि जनरल कमर जावेद बाजवा (Qamar Javed Bajwa) के सेवा विस्तार को लेकर अगर किसी तरह का विपरीत फैसला आता है, तो इससे पैदा होने वाली किसी भी स्थिति से निपटने के लिए देश में इमरजेंसी लगाई जा सकती है. प्रधानमंत्री इमरान खान ने मौजूदा हालात पर चर्चा करने के लिए बुधवार रात को कैबिनेट की बैठक भी बुलाई. सरकार को डर है कि अगर सेना प्रमुख जनरल बाजवा की वर्दी उतरी, तो देश में माहौल बिगड़ सकता है.

'द न्यूज' और 'जंग' ने अपनी रिपोर्ट में शीर्षस्थ सूत्रों के हवाले से कहा है कि पाकिस्तान (Pakistan) के आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा (Qamar Javed Bajwa) के सेवा विस्तार पर अभी तक कोई फैसला नहीं लिया गया है. अगर उनके सेवा विस्तार पर रोक लग जाती है, तो इससे हालात और बिगड़ेंगे. फिर देश की सेना बगावत कर सकती है.

दरअसल, पाकिस्तान के प्रधान न्यायाधीश (CJP) आसिफ सईद खोसा ने सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा को एक 'शटलकॉक' के रूप में तब्दील कर देने को लेकर अटॉर्नी जनरल को फटकार लगाई है. उन्होंने पीएम इमरान खान से कहा कि वह कमर जावेद बाजवा के सेवा विस्तार पर दोबारा विचार करें. बाजवा का कार्यकाल 28 नवंबर 2019 को खत्म हो रहा है, लेकिन इमरान सरकार ने 19 अगस्त को उनका कार्यकाल 3 साल के लिए बढ़ा दिया था. इसपर राष्ट्रपति डॉ. आरिफ अल्वी ने भी हस्ताक्षर कर दिए थे, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने फिलहाल बाजवा के सेवा विस्तार पर रोक लगा दी है.

bajwa
जनरल कमर जावेद बाजवा को भारत के साथ लगी नियंत्रण रेखा का भी अच्छा खासा अनुभव है.


कोर्ट ने सवाल उठाया कि कार्यकाल के किसी भी विस्तार पर कोई भी अधिसूचना COAS (Chief of the Army Staff) के वर्तमान कार्यकाल के पूरा होने के बाद ही जारी की जा सकती है, जो 28 नवंबर 2019 को समाप्त हो रहा है.पाकिस्तान की सर्वोच्च अदालत इस मामले पर आज सुनवाई करेगा.


बता दें कि जनरल कमर जावेद बाजवा को 29 नवंबर 2016 को पाकिस्तानी सेना के 16वें सेनाध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया था. उन्होंने जनरल राहिल शरीफ की जगह ली थी. कमर जावेद बाजवा को कश्मीर मुद्दों का जानकार माना जाता है. उनके पास भारत के साथ लगी नियंत्रण रेखा का भी अच्छा खासा अनुभव है.

बाजवा ने कश्मीर और उत्तरी इलाकों में लंबे समय तक बतौर सेनाधिकारी सेवा दी है. वह गिलगित-बाल्टिस्तान में फोर्स कमांडर की पोस्ट पर भी रह चुके हैं. कांगो में शांति मिशन के दौरान भी ब्रिगेडियर रहते हुए बाजवा ने अपनी सेवाएं दी थीं. (एजेंसी इनपुट के साथ)
Loading...

ये भी पढ़ें:-

क्या मुस्लिम नहीं हैं आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा? पाकिस्तान में छिड़ी बहस

पाकिस्तान के आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा को झटका! सुप्रीम कोर्ट ने निलंबित किया सेवा विस्तार
पाकिस्तान में आने वाला है बहुत बड़ा सियासी भूचाल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 28, 2019, 8:02 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...