नेपाल में फंसे विदेशी नागरिकों को राहत, स्पेशल फ्लाइट्स चलाने की मिली मंजूरी

इन विदेशी नागरिकों में करीब 2000 भारतीय भी शामिल हैं, जो नेपाल की जरिए विदेश में जा रहे थे.

इन विदेशी नागरिकों में करीब 2000 भारतीय भी शामिल हैं, जो नेपाल की जरिए विदेश में जा रहे थे.

Nepal Special flights: विदेशी दूतावासों ने फंसे ट्रैकर्स और पर्वतारोहियों को निकालने के लिए प्रयास तेज कर दिए हैं. ‘काठमांडू पोस्ट’ के अनुसार लगभग 2,000 भारतीयों सहित 7,000 से अधिक विदेशियों के नेपाल में फंसे होने का अनुमान है.

  • Share this:

काठमांडू. नेपाल ने भारतीयों सहित देश में फंसे सात हजार से अधिक विदेशी नागरिकों को उनके देशों द्वारा निकाले जाने के लिए विशेष उड़ानों को इजाजत दे दी है. ये विदेशी नागरिक नेपाल में चिकित्सकीय सुविधाओं की कमी के बीच कोविड-19 मामलों (Covid-19 Cases) में बढ़ोतरी को रोकने के लिए नेपाल सरकार द्वारा सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें निलंबित किये जाने के चलते यहां फंस गए हैं.

नेपाल की सरकार द्वारा लॉकडाउन दो सप्ताह के लिए बढ़ाए जाने और भारत के लिए दो साप्ताहिक बबल सेवाओं को छोड़कर सभी उड़ानें रद्द किये जाने के बाद विदेशी पर्यटक देश में कोरोना वायरस संक्रमण में वृद्धि के बाद काठमांडू से बाहर निकलने का बेचैनी से इंतजार कर रहे हैं.

7000 से ज्यादा विदेशियों के नेपाल में फंसे होना का अनुमान

विदेशी दूतावासों ने फंसे ट्रैकर्स और पर्वतारोहियों को निकालने के लिए प्रयास तेज कर दिए हैं. ‘काठमांडू पोस्ट’ के अनुसार लगभग 2,000 भारतीयों सहित 7,000 से अधिक विदेशियों के नेपाल में फंसे होने का अनुमान है. समाचारपत्र ने नेपाल के नागरिक उड्डयन प्राधिकरण के महानिदेशक राजन पोखरेल के हवाले से कहा, ‘‘हमने नेपाल में विदेशी दूतावासों के अनुरोध के आधार पर कुछ निकासी उड़ानों को अनुमति दी है.’’


2000 भारतीय नागरिक भी नेपाल में फंसे

निकासी उड़ानें शुक्रवार को शुरू हुईं और नेपाल की निजी उड़ान कंपनी श्री एयरलाइंस ने थाईलैंड के नागरिकों और नेपाली छात्रों को लेकर बैंकॉक के लिए उड़ान भरी. सरकार ने भारतीय दूतावास को अपने फंसे हुए उन नागरिकों को निकालने की अनुमति दे दी है जो रोजगार के लिए सऊदी अरब जाने के लिए काठमांडू का उपयोग पारगमन बिंदु के रूप में कर रहे थे. पोखरेल के अनुसार, नेपाल में करीब 2,000 भारतीय नागरिक फंसे हुए हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज