आर्मेनिया और अजरबैजान के बीच विवादित क्षेत्र को लेकर लड़ाई दूसरे दिन भी जारी

आर्मेनिया और अजरबैजान के बीच युद्ध जारी.
आर्मेनिया और अजरबैजान के बीच युद्ध जारी.

अजरबैजान (Azerbaijan) के रक्षा मंत्रालय ने इंटरफैक्स समाचार एजेंसी (Interfax News Agency) को सोमवार को बताया कि, लड़ाई में आर्मेनिया (Armenia) के 550 से अधिक सैनिक हताहत हुए हैं. वहीं, आर्मेनिया के अधिकारियों ने इस दावे को खारिज किया है.

  • भाषा
  • Last Updated: September 29, 2020, 1:23 PM IST
  • Share this:
येरेवान. आर्मेनिया और अजरबैजान के बीच विवादित क्षेत्र नागोरनो-काराबाख को लेकर शुरू हुई लड़ाई दूसरे दिन सोमवार को भी जारी है. दोनों पक्षों ने एक-दूसरे पर घातक हमले करने का आरोप लगाया है. अजरबैजान के रक्षा मंत्रालय ने दावा किया कि आर्मेनियाई बलों ने सोमवार सुबह टारटार शहर पर गोलाबारी शुरू कर दी. वहीं, आर्मीनिया के अधिकारियों ने कहा कि लड़ाई रातभर जारी रही और अजरबैजान ने सुबह के समय घातक हमले शुरू कर दिए.

अजरबैजान के रक्षा मंत्रालय ने इंटरफैक्स समाचार एजेंसी को सोमवार को बताया कि, लड़ाई में आर्मेनिया के 550 से अधिक सैनिक हताहत हुए हैं. वहीं, आर्मेनिया  के अधिकारियों ने इस दावे को खारिज किया है. आर्मेनिया ने यह दावा भी किया कि अजरबैजान के चार हेलिकॉप्टरों को मार गिराया गया. जिस इलाके में सोमवार सुबह लड़ाई शुरू हुई, वह अजरबैजान के तहत आता है. लेकिन यहां पर 1994 से ही आर्मेनिया द्वारा समर्थित बलों का कब्जा है. अजरबैजान के कुछ क्षेत्रों में मार्शल लॉ लगाया गया है तथा कुछ प्रमुख शहरों में कर्फ्यू के आदेश भी दिए गए हैं.

यह भी पढ़ें: ऑस्ट्रेलियाई रक्षा मंत्री बोलीं- चीन को सबक सिखाने के लिए भारत का सहयोग करेगा ऑस्ट्रेलिया



वहीं रविवार को तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब इरदुगान ने अजरबैजान का समर्थन करने की घोषणा की. दूसरी ओर रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने अजरबैजान से तत्काल संघर्ष विराम करने और दोनों पक्षों से संयम बरतने और बात-चीत से मसले को हल करने के लिए कहा है. वहीं अमेरिका और फ्रांस ने दोनों देशों से लड़ाई बंद करने, विवादित बयानों और कार्रवाईयों से बचने का आग्रह किया है.
यह भी पढ़ें: UNHRC में भारत बोला- ब्लैकलिस्ट ना हो, इसलिए पाकिस्तान ने हटाए 4000 आतंकियों के नाम

आपको बता दें फ्रांस में बड़ी संख्या में आर्मेनिया समुदाय के लोग रहते हैं. वहीं इरान जिसकी सीमा आर्मीनिया और अजरबैजान दोनों देश से लगती है से विवाद खत्म करने के लिए मध्यस्था की भूमिका अदा करने के लिए कहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज