लाइव टीवी

ब्रेक्जिट पर ऐतिहासिक मतदान के लिए तैयार सांसद

News18Hindi
Updated: October 19, 2019, 11:48 AM IST
ब्रेक्जिट पर ऐतिहासिक मतदान के लिए तैयार सांसद
हाउस ऑफ कॉमन्स 1982 के बाद पहली बार शनिवारीय बैठक करने जा रहा है

हाउस ऑफ कॉमन्स (House of Commons) 1982 के बाद पहली बार शनिवारीय बैठक करने जा रहा है जहां जॉनसन द्वारा गुरूवार को यूरोपीय संघ (European Union) के नेताओं के साथ ब्रेक्जिट के संबंध में हुए समझौते की शर्तों पर चर्चा होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 19, 2019, 11:48 AM IST
  • Share this:
लंदन. ब्रिटेन के सांसद, प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन (Boris Johnson) के ब्रेक्जिट सौदे (Brexit deal) पर ऐतिहासिक मतदान करने के लिए शनिवार को एकत्र हुए. इस फैसले के तहत ब्रिटेन इस महीने यूरोपीय संघ से बाहर हो जाएगा या देश एक बार फिर नयी अनिश्चितता में घिर जाएगा.

हाउस ऑफ कॉमन्स (House of Commons) 1982 के बाद पहली बार शनिवारीय बैठक करने जा रहा है जहां जॉनसन द्वारा गुरूवार को यूरोपीय संघ के नेताओं के साथ ब्रेक्जिट के संबंध में हुए समझौते की शर्तों पर चर्चा होगी. विपक्षी दलों और उत्तरी आयरलैंड के जॉनसन के अपने सहयोगियों ने इस सौदे को खारिज किया है लेकिन प्रधानमंत्री और उनकी टीम ने सांसदों का समर्थन हासिल करने के लिए पिछले 48 घंटों में अथक प्रयास किए हैं.

मतदान में किस पक्ष में मत डाले जाएंगे यह बिलकुल भी साफ नहीं है लेकिन जॉनसन ने आगाह किया है कि उनका सौदा इस जटिल ब्रेक्जिट प्रक्रिया से बाहर निकलने का सबसे बेहतरीन तरीका है. इस पेचीदा प्रक्रिया के चलते ब्रिटेन 2016 से राजनीतिक संकट में घिरा हुआ है. उन्होंने शुक्रवार शाम बीबीसी से कहा कि मैं जिसकी वकालत कर रहा हूं, उससे बेहतर कोई परिणाम नहीं हो सकता. जॉनसन ने इसे पूरे ब्रिटेन के लिए बेहतरीन सौदा बताया है.

बता दें कि यूरोपीय संघ के नेताओं ने कड़ी मशक्कत के बाद हुए ब्रेक्जिट समझौते को अपना समर्थन दिया है, लेकिन ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के सामने इसे ब्रिटिश संसद से पारित कराने की कड़ी चुनौती है. यूरोपीय संघ परिषद के अध्यक्ष डोनाल्ड टस्क ने 27 अन्य नेताओं द्वारा सौदे को स्वीकृत किए जाने के बाद संवाददाताओं से कहा कि ऐसा प्रतीत होता है मानो हम अंतिम चरण के काफी करीब हैं.

लेकिन जॉनसन के आशान्वित होने के बावजूद ब्रितानी विपक्षी पार्टियों और हाउस ऑफ कॉमन्स में प्रधानमंत्री के अपने भी कुछ सहयोगियों ने तुरंत चेताया कि वे शनिवार को विशेष बैठक के दौरान इस पर होने वाले मतदान में इसके पक्ष में वोट नहीं डालेंगे. अगर यह सौदा खारिज हो जाता है तो प्रधानमंत्री का कानूनी कर्तव्य होगा कि वो उन्हें ईयू नेताओं से ब्रेक्जिट को तीसरी बार स्थगित करने के लिए कहें. इसी के साथ 31 अक्टूबर तक ब्रिटेन को यूरोपीय संघ से बाहर निकालने की उनकी प्रतिबद्धता भी टूट जाएगी. (भाषा इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें : तुलसी गबार्ड ने हिलेरी क्लिटंन को कहा 'युद्ध भड़काने वाली रानी'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 19, 2019, 11:48 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...