लाइव टीवी

कोरोना वायरस: UN की अपील के बावजूद दुश्मनों पर हमला बोल रहे ट्रंप

News18Hindi
Updated: March 28, 2020, 5:16 PM IST
कोरोना वायरस: UN की अपील के बावजूद दुश्मनों पर हमला बोल रहे ट्रंप
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की फाइल फोटो (फाइल फोटो, AP)

विश्व जब कोरोना वायरस (COVID-19) को फैलने से रोकने के मोर्चे पर जुटा है, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (President Donald Trump) अपने विरोधियों ईरान (Iran) और वेनेजुएला (Venezuela) पर लगातार दबाव और प्रतिबंध लगाने में लगे हुए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 28, 2020, 5:16 PM IST
  • Share this:
वॉशिंगटन. वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (Global Pandemic Corona Virus) ने दुनिया को हिला रखा है लेकिन इसका असर अमेरिकी की विदेश नीति (US foreign policy) पर नहीं पड़ा है.

जब करोड़ों लोग कोरोना वायरस (COVID-19) को फैलने से रोकने के मोर्चे पर जुटे हुए हैं, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (President Donald Trump) इस दौरान अपने विरोधियों ईरान (Iran) और वेनेजुएला (Venezuela) पर लगातार दबाव और प्रतिबंध लगाने में जुटे हुए हैं.

इराक में दखल बढ़ाने के चलते और ज्यादा ईरानियों को किया प्रतिबंधित
संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनिये गुटारेस (UN Secretary General Antonio Guterres) ने पहले ही पूरी दुनिया से 'त्वरित वैश्विक युद्धबंदी' की गुजारिश की हुई है ताकि सभी COVID-19 के खतरे पर ध्यान दे सकें और शुक्रवार को उन्होंने 'ऐसे प्रतिबंधों को हटाने की मांग भी कि जो कि देशों की इस वैश्विक महामारी से लड़ने की क्षमता को सीमित करते हैं.'



लेकिन वॉशिंगटन (Washington) ने इस अपील को एक कान से सुनकर दूसरे से निकाल दिया. ट्रंप प्रशासन ने इस वैश्विक महामारी से सबसे बुरी तरह से प्रभावित देशों में से एक ईरान पर अब भी न सिर्फ अपने प्रतिबंध जारी रखे हैं बल्कि हाल के कुछ हफ्तों में पड़ोस के ईराक में ईरान के धार्मिक शासन के बढ़ते दखल के चलते और ज्यादा ईरानियों को ब्लैकलिस्ट किया है.



वेनेजुएला के राष्ट्रपति पर लगाईं आपराधिक धाराएं, सिर पर रखा 1 अरब से ज्यादा का ईनाम
वहीं वेनेजुएला में, जिसने ईरान की तरह ही स्वास्थ्य समस्या से निपटने के लिए IMF से मदद की मांग की थी, के राष्ट्रपति निकोलस मादुरो (President Nicolas Maduro) पर अमेरिका के न्यायिक विभाग ने गुरुवार को न सिर्फ ड्रग ट्रैफिकिंग के आरोप में आपराधिक धाराएं लगाई हैं बल्कि उनकी गिरफ्तारी पर डेढ़ करोड़ डॉलर यानी करीब एक अरब से ज्यादा रुपये का ईनाम भी घोषित किया है.

यह एक ढ़ह चुकी अर्थव्यवस्था (Economy) की डोर संभाले मादुरो सो सत्ता से निकालने के लिए करीब एक साल से ज्यादा से चलाए जा रहे वॉशिंगटन के अभियान की अगली कड़ी है. जिसमें वेनेजुएला के राष्ट्रपति के साथ एक साधारण अपराधी की तरह व्यवहार का निर्णय लिया गया है.

कोरोना वायरस को लेकर चीन के साथ चला वाक-युद्ध
ट्रंप प्रशासन (Trump Administration), जिसकी अपने देश में इस वैश्विक महामारी से बुरी तरह से निपटने के लिए आलोचना हो रही है. फिर भी उसने इस वैश्विक महामारी से लड़ाई के दौरान अपने दुश्मनों के प्रति एक शब्द युद्ध छेड़ रखा है.

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो (Secretary of State Mike Pompeo) ने हाल में ही कोरोना वायरस के प्रसार के लिए चीन को दोषी ठहराया था. इस दौरान उन्होंने कोरोना वायरस को वुहान वायरस के नाम से भी पुकारा था. और कहा था कि पिछले साल के आखिरी में इसके प्रसार के दौरान चीन ने इसे जल्दी रोकने के कदम नहीं उठाए.

यह भी पढ़ें: कोरोना से अमेरिका की हालत चिंताजनक लेकिन सच्चाई स्वीकार नहीं कर रहे ट्रंप

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 28, 2020, 4:17 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading