अपना शहर चुनें

States

सिर से पांव तक कर्ज में डूबे पाकिस्तान को मिली राहत, ADB देगा 10 बिलियन डॉलर का लोन

पाकिस्तान के पीएम इमरान खान (Reuters)
पाकिस्तान के पीएम इमरान खान (Reuters)

कंगाली की दहलीज पर खड़े पाकिस्तान (Pakistan) को एशियाई विकास बैंक (ADB) अगले पांच साल में 73 हजार करोड़ रुपये (10 बिलियन डॉलर) का कर्ज देगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 28, 2021, 6:30 PM IST
  • Share this:
इस्लामाबाद. आर्थिक संकट का सामना कर रहे पाकिस्तान (Pakistan) कर्जे में लगातार डूबता जा रहा है. लेकिन कोरोना (Corona) की वजह से देश की स्थिति बद से बदतर होती जा रही. ऐसे में अब पाकिस्तान को थोड़ी राहत एशियाई विकास बैंक (ADB) ने दी है. दरअसल, ADB बैंक इमरान सरकार को अगले पांच साल में 73 हजार करोड़ रुपये (10 बिलियन डॉलर) का कर्ज देगा. एडीबी ने अपने बयान में कहा है कि यह कर्ज पाकिस्तान में आर्थिक स्थिरता को बहाल करने में मदद करेगा. बता दें, एशियाई विकास बैंक का मुख्यालय फिलिपींस की राजधानी मनीला में स्थित है. यह बैंक अपने महाद्वीप के देशों को कर्ज मुहैया कराता है.

जानकारी के मुताबिक, पाकिस्तान को लोन की यह राशि साल 2021 से 2025 के बीच दी जाएगी. इसमें से 6.3 बिलियन डॉलर की राशि को अगले तीन साल में पाकिस्तान को देने की योजना है. इस राशि से पाकिस्तान में रोजगार और आर्थिक विकास के नए अवसर पैदा करने के अलावा लोगों की भलाई के लिए ऋण योजनाओं को चलाया जाएगा. बता दें, हाल ही में पाकिस्तान ने अपनी अर्थव्यवस्था को चलाने के लिए 1.2 बिलियन डॉलर (87,56,58,00,000 रुपये) का नया कर्ज लिया था.

पाकिस्तान के आर्थिक मामलों के मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा कि वित्त वर्ष 2020-21 के जुलाई-दिसंबर के दौरान इमरान खान सरकार को कई वित्तपोषण स्रोतों से बाहरी कर्जों के रूप में 5.7 बिलियन डॉलर की राशि मिली है. दिसंबर में पाकिस्तान सरकार ने विदेशों से 1.2 बिलियन डॉलर प्राप्त किए, जिसमें वाणिज्यिक बैंकों से महंगे ब्याज पर ली गई 434 मिलियन डॉलर की राशि भी शामिल है.



ये भी पढ़ें: पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने पत्रकार डेनियल पर्ल के हत्यारे उमर सईद शेख को रिहा करने का दिया आदेश
अरब देश ने मांगा कर्ज वापस, चीन भी फेर रहा मुंह
इमरान खान सरकार की लचर आर्थिक सुधारों के चलते साल 2020 के अंत तक पाकिस्तान का कुल कर्ज 11.5 फीसदी सालाना की दर से बढ़कर 35.8 ट्रिलियन रुपये तक पहुंच गया है. जिसके बाद खुद की गलतियों के पिछली सरकारों पर डालते हुए पाकिस्तानी वित्त मंत्रालय ने कहा कि पिछली सरकार की गलत आर्थिक नीतियों के कारण देश को अत्याधिक विनिमय दर और अत्यधिक उधारी का सामना करना पड़ रहा है. पाकिस्तान में हालात यहां तक पहुंच गए हैं कि सरकारी कर्मचारियों को तनख्वाह देने के लिए भी इमरान खान सरकार को जोड़ तोड़ करना पड़ रहा है. पाकिस्तान का सबसे बड़ा दाता सऊदी अरब और यूएई अपने कई बिलियन डॉलर के कर्ज को वापस मांग रहे हैं. वहीं, पाकिस्तान का सदाबहार दोस्त चीन भी अब पाकिस्तान को कर्ज देने में आनाकानी कर रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज