जूलियन असांजे अपने प्रत्यर्पण के खिलाफ ब्रिटेन कोर्ट में लड़ेंगे कानूनी लड़ाई

जूलियन असांजे अपने प्रत्यर्पण के खिलाफ ब्रिटेन कोर्ट में लड़ेंगे कानूनी लड़ाई
विकीलिक्स के संस्थापक जूलियन असांजे (फाइल फोटो)

विकीलिक्स के संस्थापक जूलियन असांजे (Julian Assange) पर अमेरिकी अभियोजकों ने जासूसी और कंप्यूटर के दुरूपयोग के 18 आरोप लगाये हैं. असांजे इसके खिलाफ ब्रिटेन कोर्ट (Britain Court) में कानूनी लड़ाई लड़ेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 6, 2020, 9:15 PM IST
  • Share this:
लंदन. विकीलिक्स के संस्थापक जूलियन असांजे एक दशक के कानूनी दांव पेंच के बाद अब अपनी स्वतंत्रता के लिये ब्रिटेन (Britain) की एक अदालत में मुकदमा लड़ने वाले हैं. असांजे ने जासूसी के आरोपों को लेकर उनके प्रत्यर्पण की अमेरिकी अधिकारियों की कोशिशों को अदालत में चुनौती दी है. अमेरिकी गोपनीय सैन्य दस्तावेजों को अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करने को लेकर उन्हें अमेरिका प्रत्यर्पित कराने की कोशिश कर रहा है. असांजे (49) और अमेरिकी सरकार के वकीलों का सोमवार को लंदन की अदालत (Court) में प्रत्यर्पण सुनवाई पर आमना-सामना होना है. इस कार्यवाही में कोरोना वायरस महामारी के चलते देर हुई है.

अमेरिकी अभियोजकों ने असांजे पर जासूसी एवं कंप्यूटर के दुरूपयोग के 18 आरोप लगाये गये हैं जिसमें दोषी साबित होने पर उनहें अधिकतम 175 साल की कैद की सजा हो सकती है. उनके वकीलों ने कहा कि अभियोजन राजनीति से प्रेरित एवं शक्तियों का दुरूपयोग है जो प्रेस की स्वतंत्रता का गला घोंट देगा और पत्रकारिता को जोखिम में डाल देगा. असांजे की वकील जेनिफर रोबिंसन ने कहा कि यह मामला मुख्य रूप से मौलिक मानवाधिकारों और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के बारे में है. उन्होंने कहा, 'पत्रकार और व्हिसल ब्लोअर, जो कंपनियों या सरकारों तथा युद्ध अपराधों का भंडाफोड़ करते हैं उन्हें अभियोजन से बचाया जाना चाहिए.'

ये भी पढ़ें: चिंताजनक! WHO ने कहा- अगले साल के मध्य तक नहीं बनेगी कोरोना वैक्सीन



वहीं अमेरिकी अभियोजकों का आरोप है कि असांजे अपराधी है न कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का नायक. उन्होंने आरोप लगाया है कि असांजे ने अमेरिकी सेना की खुफिया विशेषज्ञ चेलसिया मैनिंग के साथ पेंटागन के कंप्यूटर को हैक करने की साजिश रची और इराक तथा अफगानिस्तान में युद्ध पर हजारों कूटनीतिक एवं सैन्य फाइलों को सार्वजनिक कर दिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज