अपना शहर चुनें

States

पाकिस्तान: हिंदू मंदिर पर हमले का मामला, 14 लोग हिरासत में लिए गए; दबिश जारी

घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. (तस्वीर-ANI)
घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. (तस्वीर-ANI)

Pakistan: मौलानाओं की समिति की सिफारिश के बाद एक हफ्ते पहले सरकार ने हिंदू नागरिकों को इस्लामाबाद (Islamabad) में नए मंदिर निर्माण की अनुमति दी थी. पाकिस्तान में हिंदू धार्मिक स्थलों पर बीते कुछ समय में हमले बढ़े हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 31, 2020, 2:02 PM IST
  • Share this:
इस्लामाबाद. पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वाह (Khyber Pakhtunkhwa) के कारक जिले में हुए मंदिर पर हमले (Attack on Hindu Temple) में पाकिस्तान पुलिस ने कार्रवाई की है. पुलिस ने रातों-रात दबिश देकर मामले से जुड़े 14 लोगों को गिरफ्तार किया है. गौरतलब है कि पाकिस्तान में अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय के मंदिर पर हुए हमले की मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने निंदा की थी. यह जानकारी पाकिस्तान के अंग्रेजी अखबार द डॉन से मिली है.

अंग्रेजी अखबार 'डॉन' के अनुसार, स्थानीय पुलिस का कहना है कि उन्होंने 14 लोगों को हिरासत में लिया है. पुलिस ने इन लोगों को भीड़ में शामिल होने और उकसाने के आरोप में गिरफ्तार किया है. पुलिस ने जानकारी दी कि अभी और भी तलाशियां की जा रही हैं. गौरतलब है कि मौलानाओं की अगुवाई में प्रांत में भीड़ ने मंदिर में आग लगा दी थी. चश्मदीद बताते हैं कि इस भीड़ का नेतृत्व एक स्थानीय मौलाना और धार्मिक राजनीतिक पार्टी के समर्थक कर रहे थे.

गौरतलब है कि हिंदू मंदिर पर हमला तब हुआ जब समुदाय के कुछ लोगों ने स्थानीय अधिकारियों से मंदिर को रेनोवेट कराने की अनुमति मिली थी. अखबार के अनुसार, मौलानाओं की समिति की सिफारिश के बाद एक हफ्ते पहले सरकार ने हिंदू नागरिकों को इस्लामाबाद में नए मंदिर निर्माण की अनुमति दी थी. पाकिस्तान में हिंदू धार्मिक स्थलों पर बीते कुछ समय में हमले बढ़े हैं.

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है वीडियो


इस वीडियों में उन्मादी भीड़ मंदिर की छत और दीवारें ढहाती दिखाई दे रही है. देश की अल्पसंख्यक हिंदू आबादी के खिलाफ इस घटना पर कई मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने तीखी प्रतिक्रिया दी है. एक पाकिस्तानी पत्रकार मुबाशिर जैदी ने लिखा है-ब्रेकिंग...स्थानीय मौलानाओं की अगुवाई वाली भीड़ ने खैबर पख्तुनख्वाह के करक जिले में मंदिर को नष्ट कर दिया है. हिंदुओं ने इस मंदिर के लिए स्थानीय प्रशासन से इजाजत ली थी लेकिन स्थानीय धर्मगुरुओं ने इसके खिलाफ भीड़ इकट्ठा कर मंदिर को ढहा दिया. पुलिस प्रशासन सिर्फ मूक-दर्शक की भूमिका में बना रहा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज