लाइव टीवी

सऊदी के तेल ठिकानों पर हमले से अमेरिका-ईरान में युद्ध के हालात, मिसाइलें की तैनात

News18Hindi
Updated: September 16, 2019, 1:03 PM IST
सऊदी के तेल ठिकानों पर हमले से अमेरिका-ईरान में युद्ध के हालात, मिसाइलें की तैनात
सऊदी के अरामको में हमले से अमेरिका-ईरान में युद्ध के हालात, मिसाइलें की तैनात

सऊदी अरब (Saudi Arabia) में अरामको (Aramco) के तेल (oil) सप्लाई के दो बड़े संयंत्रों अब्कैक और खुरैस पर हूती विद्रोहियों के ड्रोन अटैक (drone attack) से लगी आग के बाद तेल उत्पादन में हर दिन 50 लाख बैरल की कमी आई है. ये सऊदी अरब के कुल तेल उत्पादन का आधा हिस्सा है. ऐसे में अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल की कीमतों में भारी इजाफे की आशंका जताई जा रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 16, 2019, 1:03 PM IST
  • Share this:
सऊदी अरब (Saudi Arabia) में अरामको (Aramco) के तेल (oil) सप्लाई के दो बड़े संयंत्रों अब्कैक और खुरैस पर हूती विद्रोहियों के ड्रोन अटैक (drone attack) से लगी आग के बाद से ईरान (Iran) और अमेरिका (America)के बीच तनाव युद्ध (war) के करीब पहुंच गया है. ईरान ने अमेरिका के सभी आरोपों को खारिज करते हुए इन हमलों में हाथ होने से इंकार किया है. ईरान ने अमेरिका को चेतावनी देते हुए कहा है कि खाड़ी क्षेत्र में अमेरिकी सैन्य अड्डे (US military base) और विमानवाहक पोत उसकी मिसाइलों (missile) के दायरे में हैं. ईरान ने अमेरिका को धमकी देते हुए कहा है कि वह युद्ध के लिए हर वक्त तैयार है. गौरतलब है कि यमन के ईरान समर्थित हूती समूह ने शनिवार को अरामको पर हमले की जिम्मेदारी ली थी.

ईरान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अब्बास मौसावी ने मीडिया से बात करते हुए अमेरिका के सभी आरोपी को आधारहीन करार दिया है. ईरान ने दावा किया है कि उसकी सेना किसी भी समय अमेरिका से युद्ध के लिए पूरी तरह से तैयार है. ईरान ने एक न्यूज एजेंसी से बात करते हुए कमांडर अमिराली हाजीज़ेद्दाह ने कहा हर किसी को ये अच्छी तरह से जान लेना चाहिए कि 2000 किलोमीटर के दायरे में मौजूद अमेरिकी सैन्य अड्डे और विमानवाहक पोत हमारी मिसाइलों की जद में हैं. गौरतलब है कि अमेरिका और ईरान के बीच उस समय तनाव बढ़ गया था जब अमेरिका ने ईरान से तेल सप्लाई पर लगे प्रतिबंध को बढ़ा दिया था.

Saudi Arabia, Aramco, oil, drone attack, Iran, America, war, US military base, missile
ईरान ने अमेरिका को चेतावनी देते हुए कहा है अमेरिकी सैन्य अड्डे उसकी मिसाइल की जद में हैं.


सऊदी अरब में अरामको के दो बड़े तेल संयंत्रों में उस समय हमला हुआ है जब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी के साथ मुलाकात की संभावना जताई थी. हालांकि ईरान ने इस मुलाकात से तब तक इनकार किया है जब तक अमेरिका ईरान के ऊपर लगाए गए सभी प्रतिबंध हटा नहीं देता. अमेरिका के सुरक्षा सलाहकार माइक पॉम्पिओ ने शनिवार को ट्वीट करके कहा था कि ईरान ने तनाव दूर करने की संभावनाओं के बीच दुनिया की ऊर्जा सप्लाई के केंद्र अरामको पर हमला किया है.


Loading...



हमले के लिए 10 ड्रोन सऊदी भेजे गए थे
यमन में मौजूद ईरान समर्थित हूती विद्रोही संगठन के एक वरिष्ठ सदस्य याह्या सारए ने बताया कि इस हमले को अंजाम देने के लिए 10 ड्रोन सऊदी भेजे गए थे. याह्या ने अल-मसिरह टीवी को बताया कि आने वाले वक्त में ऐसे हमलों को अंजाम दिया जा सकता है. सऊदी अरब के अधिकारियों की तरफ से अब तक याह्या के दावों का कोई जवाब नहीं आया है.



इसे भी पढ़ें :- अरामको पर ड्रोन हमले से आधा हुआ सऊदी का तेल उत्पादन, ईरान के साथ चरम पर तनाव

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 16, 2019, 5:56 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...