ऑस्ट्रेलिया: 10 वर्ष के बच्चे को होती है जेल, 12 साल का लड़का विरोध कर चर्चा में आया

ऑस्ट्रेलिया: 10 वर्ष के बच्चे को होती है जेल, 12 साल का लड़का विरोध कर चर्चा में आया
आॅस्ट्रेलिया में 10 साल के बच्चे को जेल की सजा देने का विरोध (सांकेतिक तस्वीर)

ऑस्ट्रेलिया में वकीलों, डॉक्टरों और आदिवासी अधिकार कार्यकर्ताओं के गठबंधन के नेतृत्व में एक आंदोलन ऑस्ट्रेलिया में आपराधिक जिम्मेदारी (Criminal Responsibility) की उम्र 10 से बढ़ाकर कम से कम 14 तक (Fourteen Years) करने के लिए जोर दे रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 22, 2020, 12:35 PM IST
  • Share this:
मेलबर्न. ऑस्ट्रेलिया (Australia) में 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चे को गिरफ्तार (Less than Ten years child can be Arrested) किया जा सकता है. इस उम्र के बच्चे को आरोपित किया जा सकता है, अदालत में पेश किया जा सकता है और जेल में डाला जा सकता है. ऑस्ट्रेलिया में वकीलों, डॉक्टरों और आदिवासी अधिकार कार्यकर्ताओं के गठबंधन के नेतृत्व में एक आंदोलन ऑस्ट्रेलिया में आपराधिक जिम्मेदारी (Criminal Responsibility) की उम्र 10 से बढ़ाकर कम से कम 14 तक (Fourteen Years) करने के लिए जोर दे रहा है.

12 साल का बच्चा दुजुआन हूजन कौन है

दुजुआन हूजन नाम के एक 12 साल के ऑस्ट्रेलियाई लड़के ने पिछले साल दुनिया का ध्यान इस तरफ दिलाया था. उसने कहा था कि 'मैं चाहता हूं कि वयस्क लोग 10 साल के बच्चों को जेल में डालना बंद कर दें'. इस आदिवासी लड़के ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद को संबोधित करते हुए ऑस्ट्रेलियाई स्कूल सिस्टम को अपनाने में अपने संघर्षों का बयान किया और यह भी बताया कि किस तरह आदवासियों और मूल निवासियों से जुड़ी शिक्षा बच्चों को जेल से बाहर रखने में मदद कर सकती है.



संसद ने सजा की उम्र बढ़ाने का प्रस्ताव 2021 तक टाला
पिछले महीने देश की संसद ने उम्र बढ़ाने से जुड़े एक प्रस्ताव को 2021 तक यह कहते हुए टाल दिया कि अभी इसे समझने और निपटने के लिए और समय चाहिए लेकिन गुरूवार को ऑस्ट्रेलियन कैपिटल टेरिटरी (एसीटी) ने उम्र बढ़ाने के लिए मतदान किया. यह इस विचार को क़ानूनी जामा पहनाने के दिशा में पहला कदम था जिससे इसके समर्थकों में एक नै आशा बंधी है.

इन देशों में इतनी है न्यूनतम आपराधिक उम्र

दुनिया भर में न्यूनतम आपराधिक आयु (minimum criminal age) अलग अलग है. अधिकतर यूरोपीय देशों में यह आयु अधिक है जैसे जर्मनी में 14 साल की उम्र में आपराधिक जिम्मेदारी तय की जाती है जबकि यही उम्र पुर्तगाल में 16 और लक्समबर्ग में 18 है जबकि इंग्लैंड और वेल्स में भी न्यूनतम आपराधिक उम्र 10 है. वर्ष 2019 में बाल अधिकारों पर संयुक्त राष्ट्र की समिति ने सभी देशों को आपराधिक जिम्मेदारी की न्यूनतम आयु को कम से कम 14 वर्ष तक बढ़ाने की सिफारिश की.

आदिवासियों के बच्चे इस कानून से सबसे ज्यादा प्रभावित

ऑस्ट्रेलियाई मूल निवासियों के बच्चे इस नियम से सबसे ज्यादा प्रभावित होते हैं. ऑस्ट्रेलियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ हेल्थ एंड वेलफेयर के आंकड़ों के अनुसार 2018-19 में ऑस्ट्रेलिया में हिरासत में 10 से 13 वर्ष की आयु के लगभग 600 बच्चे थे और उनमें से 65% से अधिक आदिवासी या टोरेस स्ट्रेट आइलैंडर बच्चे थे. हैरानी की बात यह है कि ऑस्ट्रेलियाई मूल निवासी ऑस्ट्रेलिया की कुल आबादी का सिर्फ 3% हैं. सेंटेंसिंग एडवाइजरी काउंसिल ऑफ़ विक्टोरिया के इस साल प्रकाशित एक अन्य विश्लेषण से यह पता चला है कि आदिवासी और टोरेस स्ट्रेट आइलैंडर बच्चों को गैर-मूलनिवासी बच्चों की तुलना में 17 गुना ज्यादा जेल में बंद किया जाता है. उत्तरी क्षेत्र में यह दर 43 गुना अधिक है.

पूरी दुनिया में मिला ब्लैक लाइव्स मैटर आंदोलन को समर्थन

पूरी दुनिया में ब्लैक लाइव्स मैटर आंदोलन को समर्थन मिला. ऑस्ट्रेलिया में भी हिरासत में काले लोगों की मौत को खत्म करने के लिए और नस्लीय असमानता को दूर करने के लिए नए सिरे से संघर्ष शुरू हुए हैं. ऑस्ट्रेलिया इंस्टीट्यूट नाम के ऑस्ट्रेलिया के एक थिंक-टैंक और चेंज द रिकॉर्ड नाम के एक आदिवासी-नेतृत्व वाले न्याय गठबंधन ने जुलाई के शोध में यह सुझाव दिया कि अधिकांश ऑस्ट्रेलियाई लोगों ने आपराधिक जिम्मेदारी की उम्र बढ़ाकर 14 साल या उससे अधिक करने का समर्थन किया है.

बच्चों को जेल में बंद करने से अपराध कम नहीं होते

कानून से जुड़े समूह लंबे समय से कह रहे हैं कि बच्चों को जेल में बंद करने से अपराध कम नहीं होते और कम उम्र के बच्चों को आपराधिक न्याय प्रणाली में खींचने से इस बात की संभावना ज्यादा बन जाती है कि उनका भविष्य भी सलाखों के पीछे ही गुजरने वाला है.

ये भी पढ़ें: इजराइल के वैज्ञानिकों ने ढूंढी बेस्ट टेस्टिंग मेथड, एक बार में 48 से ज्यादा होगा परीक्षण  

डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने कहा- हम एकजुट रहे तो दो साल में खत्म हो जाएगा कोरोनावायरस

न्यू साउथ वेल्स के अटॉर्नी-जनरल मार्क स्पीकमैन ने पिछले महीने सिडनी में पत्रकारों से कहा कि क्रिमिनल रिस्पांसिबिलिटी की उम्र जरूर बधाई जानी चाहिए लेकिन वैकल्पिक व्यवस्था के बारे में भी सोचा जाना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि क्रिमिनल जस्टिस सिस्टम के बाहर अपराध करने वाले बच्चों को मैनेज करने के तरीके का पता लगाने के लिए इस विषय पर अधिक काम करने की जरूरत है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading