Home /News /world /

australia deputy pm richard marles big statement said china is the biggest security concern for india australia

ऑस्ट्रेलिया के डिप्टी पीएम का बड़ा बयान, बोले- भारत-ऑस्ट्रेलिया के लिए चीन सबसे बड़ी सुरक्षा चिंता

मार्लेस चार दिवसीय यात्रा पर भारत में हैं.(फाइल फोटो)

मार्लेस चार दिवसीय यात्रा पर भारत में हैं.(फाइल फोटो)

China biggest security anxiety Said Australia Deputy PM richard marles: ऑस्ट्रेलिया के उप-प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘चीन सिर्फ ऑस्ट्रेलिया ही नहीं, बल्कि भारत के लिए भी उसका सबसे बड़ा कारोबारी सहयोगी है... वह सिर्फ हमारे लिए ही नहीं, बल्कि भारत के लिए भी सबसे बड़ी सुरक्षा चिंता है.’’ उन्होंने कहा कि इन दोनों चीजों का समाधान कैसे निकाला जाए, यह स्पष्ट नहीं है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली: ऑस्ट्रेलिया के उप-प्रधानमंत्री रिचर्ड मार्लेस (Richard Marles) ने बृहस्पतिवार को कहा कि ऑस्ट्रेलिया एवं भारत के लिए चीन ‘सबसे बड़ी सुरक्षा चिंता’ (China Biggest Security Anxiety) है तथा वास्तविक नियंत्रण रेखा और दक्षिण चीन सागर (South China Sea) में बीजिंग के कदमों से उसकी बढ़ती आक्रामकता प्रदर्शित होती है.

उन्होंने कहा कि समान विचारों वाले देशों को इन चुनौतियों का मुकाबला करने के लिये मिलकर काम करना चाहिए . मार्लेस चार दिवसीय यात्रा पर भारत में हैं. पिछले महीने प्रधानमंत्री एंथली अल्बनीज की लेबर पार्टी के सत्ता में आने के बाद यह आस्ट्रेलिया के किसी वरिष्ठ नेता की पहली भारत यात्रा है.

उन्होंने कहा कि चीन दुनिया को ऐसा आकार देने की कोशिश कर रहा है, जैसा कि पहले कभी नहीं देखा गया हो तथा हिन्द प्रशांत क्षेत्र समेत नियम आधारित वैश्विक व्यवस्था की सुरक्षा के लिये भारत और आस्ट्रेलिया के बीच रक्षा सहयोग को गहरा बनाना काफी महत्वपूर्ण है.

ऑस्ट्रेलिया नई दिल्ली के साथ एकजुटता से खड़ा है
मार्लेस ने यह भी कहा कि भारत की भी समान सुरक्षा चिंताएं हैं और पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ जारी सीमा विवाद को लेकर ऑस्ट्रेलिया नई दिल्ली के साथ एकजुटता से खड़ा है.

अपनी यात्रा के चौथे एवं अंतिम दिन ऑस्ट्रेलिया के उप-प्रधानमंत्री ने पत्रकारों के साथ बातचीत के दौरान चीन और रूस के बीच बढ़ते रक्षा एवं सुरक्षा सहयोग पर चिंता जताई और कहा कि इसका क्षेत्र पर प्रभाव पड़ सकता है. गौरतलब है कि मार्लेस ऑस्ट्रेलिया के रक्षा मंत्री भी हैं.

उन्होंने कहा कि नयी दिल्ली और कैनबरा अपने रक्षा एवं सुरक्षा संबंधों का विस्तार करने के लिए प्रतिबद्ध हैं, क्योंकि वह (आस्ट्रेलिया) दुनिया को लेकर अपने दृष्टिकोण में भारत को पूरी तरह से ‘केंद्र’ में देखता है.

कैसे निकलेगा समाधान यह स्पष्ट नहीं है
ऑस्ट्रेलिया के उप-प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘चीन सिर्फ ऑस्ट्रेलिया ही नहीं, बल्कि भारत के लिए भी उसका सबसे बड़ा कारोबारी सहयोगी है… वह सिर्फ हमारे लिए ही नहीं, बल्कि भारत के लिए भी सबसे बड़ी सुरक्षा चिंता है.’’ उन्होंने कहा कि इन दोनों चीजों का समाधान कैसे निकाला जाए, यह स्पष्ट नहीं है.

मार्लेस ने कहा कि भारत और ऑस्ट्रेलिया न केवल आर्थिक क्षेत्र, बल्कि रक्षा क्षेत्र में भी द्विपक्षीय संबंधों को लेकर करीबी स्तर पर काम कर रहे हैं, ताकि देशों देशों की रक्षा एवं सुरक्षा स्थिति को मजबूत बनाया जा सके.

दो साल पहले पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच हुए संघर्ष के संदर्भ में ऑस्ट्रेलिया के उप-प्रधानमंत्री ने कहा कि उस घटना को लेकर उनका देश भारत के साथ एकजुटता से खड़ा है.

चीन अलग दुनिया बनाने में जुटा है
उन्होंने कहा, ‘‘चीन हमारे आसपास ऐसी दुनिया बनाने की कोशिशों में जुटा है, जैसा कभी पहले नहीं देखा गया. पिछले कुछ वर्षों में हमने खासतौर पर इस संबंध में चीन के अधिक आक्रामक व्यवहार को महसूस किया है.’’

मार्लेस ने कहा, ‘‘यह वास्तव में जरूरी है कि हम ऐसी दुनिया में रहें, जहां कानून आधारित व्यवस्था हो, जहां देशों के बीच विवादों का निर्धारित नियमों के तहत शांतिपूर्ण ढंग से निपटारा हो.’’

इस परिप्रेक्ष में उन्होंने कहा कि आस्ट्रेलिया, भारत के अपने संबंधों को वैश्विक कानून आधरित व्यवस्था की सुरक्षा के लिये काफी महत्वपूर्ण मानता है. उन्होंने कहा, ‘‘हमारी चिंता यह है कि जब हम चीन के व्यवहार को देखते हैं, चाहे वह वास्तविक नियंत्रण रेखा पर हो या दक्षिण चीन सागर में हो, यह आक्रामक व्यवहार है जो कानून आधारित स्थापित व्यवस्था को चुनौती देता है और इस क्षेत्र की समृद्धि के लिये काफी महत्वपूर्ण है.’’

उन्होंने कहा, ‘‘हमने वास्तविक नियंत्रण रेखा के संदर्भ में देखा है. कुछ वर्ष पहले घटी घटनाओं को देखा है जो भारतीय सैनिकों के प्रति व्यवहार से संबंधित है और हम इस घटना को लेकर भारत के साथ एकजुटता के साथ खड़े हैं .’’

मार्लेस ने कहा कि वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चीनी कार्रवाई इस बात को प्रदर्शित करती है कि एक देश विवादों का निपटारा स्थापित नियमों के तहत नहीं बल्कि ताकत एवं बल के जरिये करना चाहता है और यह चिंता की बात है.

आस्ट्रेलिया के उप प्रधानमंत्री ने कहा कि चीन दक्षिण चीन सागर में भी अपनी आक्रामकता बढ़ा रहा है और उनकी कार्रवाई समुद्र को लेकर संयुक्त राष्ट्र संधि के अनुरूप नहीं है.

चीन और रूस के बीच बढ़ते रक्षा एवं सुरक्षा सहयोग का जिक्र करते हुए उन्होंने इसके प्रभावों को लेकर अशांकाएं जताईं और कहा कि दुनिया में शांति बनाए रखना बेहद महत्वपूर्ण है.

यूक्रेन संकट को लेकर ऑस्ट्रेलिया के उप-प्रधानमंत्री ने कहा कि आस्ट्रेलिया यूक्रेन के घटनाक्रम पर नजर बनाए हुए है और इसका वैश्विक खाद्य आपूर्ति पर प्रभाव पड़ रहा है, जो वास्तव में चिंता का विषय है.

भारत, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और जापान की सदस्यता वाले ‘क्वाड’ समूह के बारे में उन्होंने कहा कि यह सुरक्षा गठजोड़ नहीं है, क्योंकि इसके रक्षा से जुड़े आयाम नहीं हैं. वहीं, ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन और अमेरिका की सदस्यता वाले ‘ऑकस’ समूह के बारे में मार्लेस ने कहा कि यह सुरक्षा गठजोड़ नहीं है, क्योंकि इसका मुख्य उद्देश्य प्रौद्योगिकी क्षेत्र में साझेदारी को बढ़ावा देना है.

Tags: Australia, World news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर