लाइव टीवी

कोरोना वायरस: ऑस्ट्रेलिया के वैज्ञानिकों ने की बड़ी खोज, जल्द मिल सकता है इलाज

News18Hindi
Updated: January 29, 2020, 12:07 PM IST
कोरोना वायरस: ऑस्ट्रेलिया के वैज्ञानिकों ने की बड़ी खोज, जल्द मिल सकता है इलाज
सांस से जुड़ी इस बीमारी से अब तक चीन में 132 लोगों की मौत हो चुकी है.

प्राकृतिक वातावरण के बाहर विकसित किए गए कोरोना वायरस (Coronavirus) के रेप्लिकेंट का इस्तेमाल एंटीबॉडी जांच विकसित करने में किए जाने की संभावना है. इससे उन मरीजों में भी वायरस का पता किया जा सकेगा, जो लक्षण नजर नहीं आने के कारण खुद के संक्रमित होने की बात से अनजान हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 29, 2020, 12:07 PM IST
  • Share this:
सिडनी. ऑस्ट्रेलिया के वैज्ञानिकों ने जानलेवा कोरोना वायरस (Coronavirus) के खिलाफ लड़ाई में बड़ी उपलब्धी मिलने का दावा किया है. ऑस्ट्रेलियाई वैज्ञानिकों ने बताया कि उन्होंने चीन के बाहर एक सैंपल विकसित किया है और इससे जल्द ही कोरोना वायरस का इलाज में ढूंढा जा सकेगा. चीन में कोरोना वायरस का प्रकोप फैला है. सांस से जुड़ी इस बीमारी से अब तक चीन में 132 लोगों की मौत हो चुकी है. करीब 6,000 लोग इससे संक्रमित हैं.

मेलबर्न में द डोहर्टी इंस्टिट्यूट (The Doherty Institute) ने बुधवार को बताया कि एक मरीज के सेल कल्चर (जांच) के दौरान कोरोना वायरस का सैंपल विकसित किया गया है. पहली बार चीन के बाहर विकसित किए गए इस वायरस की डिटेल जल्द ही विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) से शेयर की जाएगी.

प्राकृतिक वातावरण के बाहर जो वायरस विकसित किया गया है, उसका इस्तेमाल एंटीबॉडी जांच विकसित करने में किए जाने की संभावना है. इससे उन मरीजों में भी वायरस का पता किया जा सकेगा, जो लक्षण नजर नहीं आने के कारण खुद के संक्रमित होने की बात से अनजान हैं.


वायरस आइडेंटिफिकेशन लैब के हेड जुलियन ड्रुस ने कहा, ‘चीनी अधिकारियों ने इस नोवेल कोरोना वायरस का जीन समूह जारी किया था, जो इस रोग की पहचान करने में मददगार है. हालांकि, असली वायरस होने का मतलब है कि अब जांच की सभी स्तरों का वेरिफिकेशन करने की क्षमता आ गई है, जो इस रोग के इलाज में काफी महत्वपूर्ण साबित होगा. कोरोना वायरस की पहचान और इलाज के लिए ये एक गेम चेंजर साबित हो सकता है.'



चीन के स्वास्थ्य अधिकारियों ने बुधवार को बताया कि वायरस संक्रमण के 5,974 मामलों की पुष्टि हो गई और वायरस की वजह से होने वाले निमोनिया के 31 नए मामले मंगलवार तक सामने आए थे. सरकारी समाचार एजेंसी ‘शिन्हुआ’ के अनुसार अभी तक कुल 132 लोग इस वायरस के कारण मारे गए हैं. उसने कहा कि मंगलवार तक हुबेई प्रांत में कोरोना वायरस के कारण 125 लोगों की मौत हो गई और 3,554 मामलों की पुष्टि हुई थी.

चीन ने अभी तक दूसरे देश के किसी लैब में वायरस के सैंपल शेयर नहीं किए हैं. हालांकि, ऑस्ट्रेलिया के वैज्ञानिक जल्द ही विश्व स्वास्थ्य संगठन के साथ जानकारियां शेयर करेंगे. (एजेंसी इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें: कोरोना वायरस से अर्थव्यवस्था पर बुरा असर, क्या भारत भी होगा प्रभावित?

कोरोना वायरस : आखिर चीन से ही क्यों फैलती हैं नई-नई महामारियां

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 29, 2020, 11:26 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर