थाईलैंडः छुट्टी रद्द कर बच्चों को बचाने 3 दिन गुफा में रहे डॉक्टर, लौटे तो हो चुकी थी पिता की मौत

हैरिस गुफा में फंसे बच्चों के स्वास्थ्य का आकलन करने पहुंचे और तीन दिन तक उनके साथ रहे


Updated: July 12, 2018, 12:10 AM IST
थाईलैंडः छुट्टी रद्द कर बच्चों को बचाने 3 दिन गुफा में रहे डॉक्टर, लौटे तो हो चुकी थी पिता की मौत
ऑस्ट्रेलियन डॉक्टर रिचर्ड हैरिस

Updated: July 12, 2018, 12:10 AM IST
थाईलैंड की गुफा में फंसे 12 लड़कों और उनके कोच को सफलतापूर्वक बाहर निकालने के लिए चलाए गए रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए दुनिया भर के करीब 20 स्पेशलिस्ट की टीम बनाई गई थी. जिनमें गोताखोर, नेवी गोताखोर और डॉक्टर्स भी शामिल थे. इस टीम में एक ऑस्ट्रेलियन डॉक्टर रिचर्ड हैरिस भी शामिल थे, जो छुट्टियां मनाने जा रहे थे. लेकिन यहां चल रहे रेस्क्यू ऑपरेशन का हिस्सा बन गए.

हैरिस गुफा में फंसे बच्चों के स्वास्थ्य का आंकलन करने पहुंचे और तीन दिन तक उनके साथ रहे. गुफा से सबसे कमजोर बच्चे को उन्ही के नेतृत्व में सफलता पूर्वक बाहर निकाला गया.

ऐसा माना जा रहा है कि डॉक्टर हैरिस रेस्क्यू ऑपरेशन में शामिल टीम के वो शख्स हैं जो गुफा में फंसे सभी लोगों के बाहर निकलने के बाद सबसे अंतिम में बाहर आए. रेस्क्यू ऑपरेशन तो खत्म हो गया और सभी को गुफा से सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया, लेकिन डॉ. हैरिस के चेहरे पर खुशी दिखाई नहीं दी.

हैरिस ने गुफा के अंदर से अपने पिता से बात की थी, लेकिन जब वो गुफा से बाहर आए तो पता चला कि उनके पिता का निधन हो गया है. सफल रेस्क्यू ऑपरेशन का जश्न मना रहे लोगों के बीच यह हैरिस के लिए दुख की घड़ी है.

थाई नेवी सील ने इस दुख की घड़ी में डॉक्टर हैरिस के पिता को श्रंद्धांजलि दी है.

ऑस्ट्रेलिया के एडिलेड के एनेस्थेटिस्ट डॉ. हैरिस छुट्टियां मनाने जा रहे थे. लेकिन उन्हें गुफा में फंसे 12 बच्चे और उनके कोच को बाहर निकालने के लिए बनी रेस्क्यू टीम के लिए बुला लिया गया. उन्हें गुफा में फंसे लोगों के स्वास्थ्य का ध्यान रखने के लिए बुलाया गया था.

ब्रिटिश गोताखोरों के मुताबिक 30 साल के मेडिकल ऑपरेशन का अनुभव रखने वाले डॉ. हैरिस ने गुफा के अंदर जाकर तीन दिन तक वहां फंसे बच्चों और उनके कोच का ध्यान रखा और उनके सुरक्षित बाहर निकलने के कई घंटो बाद हैरिस गुफा से बाहर निकले. इस ऑपरेशन के लिए ब्रिटिश गोताखोरों ने ही उनका नाम सुझाया था. हैरिस बच्चों की जांच कर लगातार ये बता रहे थे कि किस बच्चे को पहले बाहर निकालने की जरूरत है.

इस रेस्क्यू ऑपरेशन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले हैरिस ऑस्ट्रेलियन मेडिकल असिस्टेंस टीम का हिस्सा हैं जो दूसरे देशों में भी इस तरह की घटना होने पर अपना भरपूर सहयोग देते हैं. ऑस्ट्रेलियन मेडिकल असोसियेशन ने कहा कि डॉक्टर हैरिस ने अपनी जान को खतरे में डालकर गुफा में फंसे बच्चों और उनके कोच को सुरक्षित बाहर निकालने में मदद की है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर