लाइव टीवी

बगदादी को अमेरिकी कैंप में 'मैराडोना' के नाम से जाना जाता था, जानें क्या थी वजह?

News18Hindi
Updated: October 31, 2019, 10:24 AM IST
बगदादी को अमेरिकी कैंप में 'मैराडोना' के नाम से जाना जाता था, जानें क्या थी वजह?
बगदादी को अमेरिकी कैंप में 'मैराडोना' के नाम से जाना जाता था, जानें क्या थी वजह?

आईएस सरगना अबु बकर अल बगदादी (ISIS chief Abu Bakr al-Baghdadi) की मौत को लेकर अब कई तरह के खुलासे हो रहे हैं. इसी के तहत सीआईए (CIA) ने एक नया खुलासा किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 31, 2019, 10:24 AM IST
  • Share this:
दुनिया के सबसे खतरनाक आतंकवादी (Terrorist) और इस्लामिक स्टेट (Islamic State) के सरगना अबु बकर अल-बगदादी (Abu Bakr al Baghdadi) मारा जा चुका है. अमेरिका (America) सहित पूरी दुनिया भले ही बगदादी के मारे जाने का जश्न मना रहा हो लेकिन एक समय ऐसा भी था जब अमेरिका के दक्षिणी इराक (Southern Iraq) के बक्का कैंप में बगदादी को 'मैराडोना' (Maradona) के नाम से जाना जाता था. ये बात सुनकर भले ही अजीब लगे लेकिन ये सही है कि अमेरिकी कैंप में बंद सभी कैदी और वहां तैनात सभी सुरक्षा कर्मी बगदादी के फुटबॉल (Football) खेलने के तरीके के बहुत बड़े फैन थे.

बता दें कि बगदादी का जन्म मध्य इराक के सामरा जिले के अल जल्लाम में हुआ था. बचपन से ही बगदादी को फुटबॉल से काफी लगाव था. साल 1991 में सामरा हाईस्कूल से पढ़ाई पूरी करने के बाद बगदादी ने अपना पूरा फोकस फुटबॉल खेलने पर ही कर दिया था. बगदादी चाहता था कि वह एक बेहतरीन फुटबॉलर बने. बताते हैं कि बगदादी एक बेहतरीन स्ट्राइकर था और वह गोल मारने के बाद इतना खुश होता था. फुटबॉल के सपने को पूरा करने के लिए वह एक स्थानीय फुटबॉल क्लब के साथ भी जुड़ा था.

इसे भी पढ़ें :- कैसे बगदादी को उतारा गया मौत के घाट, अमेरिका ने जारी किया VIDEO

न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक जब कभी भी वह गोल की ओर बढ़ता और गोल करने में कामयाब नहीं होता था तो वह बेहद निराश हो जाता था. इस दौरान उसके चेहरे पर हताशा साफ देखी जा सकती थी. यूनिवर्सिटी की पढ़ाई करने के लिए बाद भी बगदादी बगदाद आ गया और यहां पर अपना खर्च पूरा करने के लिए एक फुटबॉल टीम को कोचिंग देने लगा.

इसे भी पढ़ें :- बगदादी का पता बताने वाले मुखबिर की खुल सकती है किस्मत, मिलेगा 1.77 अरब रुपए का इनाम

पैसे कमाने की चाहत में उसने कई गलत काम किए, जिसके कारण फरवरी 2004 में अमेरिका ने इराक के फलुजा से बगदादी को गिरफ्तार कर लिया. अमेरिकी सेना ने बगदादी को दक्षिणी इराक में मौजूद बक्का कैंप में चार साल तक कैद कर के रखा था. इस दौरान बगदादी कैंप में बंद कैदियों के साथ फुटबॉल खेला करता था. बगदादी के फुटबॉल खेलने के तरीके का हर कोई फैन था. कैंप में लोग बगदादी को मैराडोना के नाम से बुलाते थे.

इसे भी पढ़ें :- IS सरगना बगदादी रेगिस्‍तान में छिपाकर रखता था करोड़ों डॉलर, चरवाहों से ढूंढवाने पड़े थे 170 करोड़ रुपये

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 31, 2019, 10:24 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...