लाइव टीवी

भारत में आतंकी साजिश के लिए पाकिस्‍तान के प्‍लान का खुलासा, नेपाल-बांग्‍लोदश तक फैला जाल

नीतीश कुमार | News18Hindi
Updated: October 25, 2019, 12:30 PM IST
भारत में आतंकी साजिश के लिए पाकिस्‍तान के प्‍लान का खुलासा, नेपाल-बांग्‍लोदश तक फैला जाल
पाकिस्‍तान ने भारत में आतंकी साजिश के लिए बनाया है प्‍लान.

खुफिया एजेंसी के सूत्रों के मुताबिक अब पाकिस्‍तान (Pakistan) भारत में आतंकियों (Terrorists) की घुसपैठ कराने के लिए नेपाल (Nepal) और बांग्‍लादेश (Bangladesh) की मदद ले रहा है. साथ ही जम्‍मू और कश्‍मीर (Jammu and kashmir) में टेरर फंडिंग (Terror funding) भी कर रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 25, 2019, 12:30 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. पाकिस्‍तान (Pakistan) अपने नापाक इरादों से बाज नहीं आ रहा है. पाकिस्‍तानी सेना (Pakistan army) और खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI) भारत के खिलाफ लगातार साजिश रच रहे हैं. सीमा पार (LoC) से आतंकियों (Terrorists) की भारत में घुसपैठ कराने को लेकर आईएसआई और पाक सेना नए-नए तरीके अपना रही है. पाकिस्‍तान ने इसके लिए नई साजिश रची है. खुफिया एजेंसी के सूत्रों के मुताबिक अब पाकिस्‍तान भारत में आतंकियों की घुसपैठ कराने के लिए नेपाल (Nepal) और बांग्‍लादेश (Bangladesh) की मदद ले रहा है. साथ ही जम्‍मू और कश्‍मीर (Jammu and kashmir) में टेरर फंडिंग (Terror funding) के लिए नकली चीनी युआन के बदले असली भारतीय मुद्रा हासिल कर रहा है.

बौखलाया हुआ है पाकिस्‍तान
इस साल 5 अगस्त को जम्‍मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद आतंकी और सरहद पार बैठे उनके आका व पाकिस्‍तान की इमरान सरकार बौखलाई हुई है. पाकिस्‍तान इसे लेकर तरह-तरह की साजिश रच रहा है. हालांकि घाटी में भारी संख्या में सुरक्षा बलों की तैनाती, लाइन ऑफ कंट्रोल पर सेना और इंटरनेशनल बॉर्डर पर बीएसफ की मुस्तैदी की वजह से घुसपैठ में भी काफी कमी आई है.

नेपाल के रास्‍ते भारत में आतंकी घुसपैठ कराने की साजिश

खुफिया एजेंसी के सूत्रों के मुताबिक ऐसे में पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI ने आतंकियों को घुसपैठ कराने के लिए भारत-नेपाल सीमा को चुना है. भारत नेपाल सीमा पर वो इलाके जहां से ISI ने आतंकी घुसपैठ करवाने की साजिश रची है उनमें रक्सौल-बीरगंज, कृष्णानगर-बदनी और रुपईडीहा-नेपालगंज शामिल हैं.

सूत्रों के मुताबिक पाकिस्‍तान के प्लान आतंकियों को पाकिस्‍तान से पहले काठमांडू लाया जाना है. फिर काठमांडू से ऊपर बताए गए रास्तों से भारतीय सीमा में घुसपैठ करवाई जानी है. खुफिया एजेंसियों को ये आशंका है कि अब तक इस रास्ते से कई आतंकी भारत की सीमा में दाखिल भी हो चुके हो सकते हैं.

काठमांडू में फैला है आईएसआई का जाल
Loading...

दरअसल बताया जाता है कि काठमांडू में पाकिस्तान दूतावास में ज्यादातर ISI के लोग हैं और ये उनका ऑपरेशनल गढ़ भी है. काठमांडू में ही ठमेल इलाका है, जो कश्मीरियों का गढ़ है. यहां पर कुछ होटल हैं. इन्हीं होटेल्स में ISI के लोगों का जाल फैला हुआ है. ISI कश्मीरी लोगों को पैसा देती है. इसके एवज में ISI के संपर्क में आए कश्मीरी कश्मीर में ISI के बताए हुए लोगों को पैसा ट्रांसफर करते हैं.

नकली युआन का धंधा
ISI काठमांडू में स्‍थानीय मीडिया को भी एन्टी इंडिया प्रोपेगंडा के लिए फंडिंग करती है. ISI कश्मीरी मूल वाले मलेशियन बिजनेसमैन को भी भारत में आतंकी गतिविधियों के मकसद से पैसा पहुंचाने के लिए फंड कर रही है. हाई क्वालिटी फेक इंडियन करेंसी के सर्कुलेशन में कामयाबी के बाद ISI अब काठमांडू को फेक चीनी युआन की सर्कुलेशन का गढ़ बना रही है.

नेपाली मुसलमानों का इस्‍तेमाल कर रही आईएसआई
ISI नकली भारतीय करेंसी के सर्कुलेशन के लिए नेपाली मुस्लमानों का इस्तेमाल कर रही है जो भारतीय बिचौलियों को भारतीय बाजार में इसकी सप्लाई के लिए नकली नोट दे देते हैं. इन्हीं नेपाली मुसलमानों का इस्तेमाल नकली युआन के सर्कुलेशन के लिए भी ISI कर रही है. इंटरनेशनल मार्किट में युआन की वैल्यू रुपये से ज्यादा होने की वजह से नकली युआन के बदले ISI ज्यादा से ज्यादा असली इंडियन करेंसी हासिल कर रही है. इस पैसे को काठमांडू में बसे कश्मीरी बिजनेसमैन के जरिये टेरर फंडिंग के लिए कश्मीर भेजा जा रहा है.

बांग्‍लादेश में भेजे ट्रेनर्स
भारत में घुसपैठ कराने के लिए पाकिस्तान ने बांग्लादेश को भी चुना है. ISI ने इसके लिए बांग्लादेश में अपने ट्रेनर्स भेजे हैं जो म्यांमार से निकाले जाने के बाद बांग्लादेश के कैंपों में रह रहे रोहिंग्या मुसलमानों को ट्रेन कर रहे हैं. आशंका है कि ढाका पहुंचने के बाद आतंकी वहां से कोलकाता पहुंच सकते हैं और फिर कोलकाता से नार्थ ईस्ट या देश के दूसरे हिस्सों में जहां आतंकी मॉड्यूल पहले से मौजूद हैं, वहां का रुख कर सकते हैं.

ड्रग्‍स का कारोबार फैला रहा पाकिस्‍तान
इसके अलावा ISI ने जम्मू-कश्मीर में टेरर फंडिंग के लिए नार्को ट्रेड और नकली नोटों के सर्कुलेशन के जरिये 2000 करोड़ रुपये की कमाई का लक्ष्य रखा है. जम्मू कश्मीर में टेरर फंडिंग के लिए ISI अपने आतंकी नेटवर्क का इस्तेमाल कर साउथ कश्मीर में ओपियम की खेती करवा रही है. भारतीय बाजार में इस ओपियम से तैयार होने वाली हाई क्वालिटी ड्रग्स को अवैध तरीके से भारतीय बाजार में बेचा जा रहा है. इसे बेचने से मिले पैसे का इस्तेमाल टेरर फंडिंग के लिए किया जा रहा है.

यह भी पढ़ें : क्या फाइटर ड्रोन के जरिए आतंक की साजिश रच रहा है पाकिस्तान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नेपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 25, 2019, 12:30 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...