Berut Blast: प्रदर्शनकारियों ने मंत्रालयों पर बोला धावा, 155 घायल और एक की मौत

Berut Blast: प्रदर्शनकारियों ने मंत्रालयों पर बोला धावा, 155 घायल और एक की मौत
बेरुत धमाके बाद प्रदर्शनकारियों ने मंत्रालयों पर धावा बोल दिया.

प्रदर्शनकारियों ने बेरुत में सरकारी मंत्रालयों (Protesters Attacked Ministries) पर धावा बोल दिया. प्रदर्शनकारियों ने लेबनानी बैंकों के एसोसिएशन के कार्यालयों (Lebanani's Banks Associations Offic Broken) को शनिवार को तोड़ दिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 9, 2020, 3:13 PM IST
  • Share this:
बेरुत. प्रदर्शनकारियों ने बेरुत में सरकारी मंत्रालयों (Protesters Attacked Ministries) पर धावा बोल दिया. प्रदर्शनकारियों ने लेबनानी बैंकों के एसोसिएशन के कार्यालयों (Lebanani's Banks Associations Offic Broken) को शनिवार को तोड़ दिया. इस हफ्ते बेरुत में हुए विनाशकारी विस्फोट (Catastrophic Blast) के बाद लेबनान के निवासियों में गुस्सा लगातार बढ़ रहा है जिसके चलते उग्र प्रदर्शन शुरू हो गए हैं.

प्रदर्शनकारी राजनेताओं से मांग रहे थे इस्तीफा

प्रदर्शनकारियों ने कहा कि उनके राजनेताओं को इस्तीफा दे देना चाहिए और बेरुत में हुए धमाके के पीछे की लापरवाही के लिए दंडित भी किया जाना चाहिए. राजनैतिक और आर्थिक मंडी के चल रहे दौर में बेरुत में हुए इस धमाके में 158 लोग मारे गए हैं और 6 हजार से ज्यादा लोग घायल हो गए हैं.



प्रदर्शन में झड़प में पुलिस अधिकारी की मौत
एक प्रवक्ता ने बताया कि इन झड़पों में एक पुलिस अधिकारी की मौत हो गई है. घटनास्थल पर मौजूद रहे एक पुलिसकर्मी ने बताया कि जब प्रदर्शनकारियों अधिकारी का पीछा कर रहे थे तब अधिकारी पास की एक इमारत की एक लिफ्ट की शाफ्ट में गिर गया जिस कारण उसकी मौत हो गई

प्रदर्शन में 117 लोग घायल, 55 की हालत खराब

रेडक्रॉस ने बताया कि उसने प्रदर्शनों में शामिल 117 लोगों का प्राथमिक उपचार किया और 55 लोगों की स्थिति ज्यादा खराब होने के कारण उन्हें अस्पताल ले जाया गया. प्रदर्शनकारियों के पत्थरों से घायल पुलिसकर्मियों का इलाज एंबुलेंस कर्मियों द्वारा किया गया.

विदेश मंत्रालय में घुसकर की तोड़फोड़

दर्जनों प्रदर्शनकारियों ने विदेश मंत्रालय में घुसकर तोड़-फोड़ की. वहां उन्होंने राष्ट्रपति मिशेल औउन के एक चित्र को जला दिया. मिशेल जिन्होंने दशकों तक लेबनान पर शासन किया था और उनका कहना था कि मौजूदा परिवेश के लिए वही जिम्मेदार हैं. प्रदर्शन में लगभग दस हजार लोग मार्टियर स्कवेयर पर एकत्र हुए जिसमें से कुछ प्रदर्शनकारी पत्थर फेंक रहे थे.

पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर चलाई गोलियां

पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर रबर बुलेट्स दागी और गोली भी चलाई और आंसू गैस का इस्तेमाल भी किया. टीवी फुटेज में प्रदर्शनकारियों को ऊर्जा और अर्थव्यवस्था मंत्रालयों में तोड़ते हुए दिखाया गया. यह प्रदर्शन अक्टूबर में होने वाले प्रदर्शन के बाद सबसे बड़ा प्रदर्शन रहा.

छह साल से पोर्ट पर इकट्ठा किया जा रहा था अमोनियम नाइट्रेट

प्रधान मंत्री और प्रेसीडेंसी ने भी कहा कि 2,750 टन अमोनियम नाइट्रेट जो अत्यधिक विस्फोटक पदार्थ है और जिसका उपयोग खाद और बम बनाने में किया जाता है. यह सबकुछ बंदरगाह गोदाम में सुरक्षा उपायों के बिना छह साल से इकठ्ठा किया जा रहा था. राष्ट्रपति ने शुक्रवार को कहा कि इस विस्फोट की जांच की जाएगी और यह पता लगाया जाएगा कि इस विस्फोट में किसी बाहरी शक्ति का हाथ तो नहीं है. अगर यह धमाका किसी लापरवाही या किसी दुर्घटना के कारण हुआ है तो जिम्मेदार लोगों को बख्शा नहीं जायेगा. इस दुर्घटना के संबंध में अब तक बीस लोगों को हिरासत में लिया गया है.

घटनास्थल पर नहीं पहुंचा कोई नेता, फ्रांस के राष्ट्रपति आए

कई लोगों ने अपने नेताओं की निंदा करते हुए कहा कि उनमें से किसी ने भी उन्हें ढांढस बढ़ाने या क्षति का आकलन करने के लिए विस्फोट स्थल का दौरा नहीं किया जबकि फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रोन पेरिस से उड़ान भरकर सीधे घटनास्थल पर गए और श्रद्धांजलि दी.

ये भी पढ़ें: Berut Blast: महिला पत्रकार ने ली पहली तस्वीर, उसके सिर से रिस रहा था खून

अयोध्या की तर्ज पर नेपाल में भी राम मंदिर बनाने की तैयारी, प्रधानमंत्री ओली का निर्देश

मैक्रॉन ने गुरुवार को बेरुत का दौरा किया और शहर के पुनर्निर्माण के लिए सहायता का वादा भी किया. उनके कार्यालय ने कहा कि मैक्रॉन रविवार को वीडियो लिंक के माध्यम से लेबनान के लिए दान मांगने के लिए एक सम्मेलन की मेजबानी करेंगे. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा कि वह भी इस सम्मलेन में शामिल होंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज