आगे-आगे देखिए, मोदी जी देश के इन हिस्सों में भी चलाएंगे बुलेट ट्रेन!


Updated: September 13, 2017, 9:20 PM IST
आगे-आगे देखिए, मोदी जी देश के इन हिस्सों में भी चलाएंगे बुलेट ट्रेन!
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इस बहुप्रतीक्षित परियोजना में जापान 80 प्रतिशत तक फंडिंग कर रहा है

Updated: September 13, 2017, 9:20 PM IST
भारत के पीएम नरेंद्र मोदी और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे 14 सितंबर को बहुप्रतीक्षित बुलेट ट्रेन परियोजना की आधारशिला रखेंगे. अहमदाबाद और मुंबई के बीच चलने वाली भारत की पहली बुलेट ट्रेन परियोजना जापान के सहयोग से लगभग पांच साल में पूरी होगी. जिसके हिसाब से 2022 तक आम जनता को बुलेट ट्रेन में बैठने का मौका मिलेगा. बता दें कि सरकार देश के अन्य रूट्स पर भी बुलेट ट्रेन चलाने की योजना बना रही है.

जापान 80% तक देगा लोन
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इस बहुप्रतीक्षित परियोजना में जापान 80 प्रतिशत तक फंडिंग कर रहा है जो कि भारत के ऊपर लोन की तरह होगी. परियोजना की कुल लागत 1.08 लाख करोड़ रुपए है. जापान 88 हजार करोड़ रुपए का लोन 0.1% की ब्याज दर, यानी हर महीने 7-8 करोड़ रुपए मात्र पर दे रहा है. बाकी रुपए भारत सरकार खर्च करेगी.

भारत की सबसे तेज ट्रेन से दोगुनी होगी रफ्तार

बुलेट ट्रेन की अधिकतम रफ्तार 350 किलोमीटर प्रति घंटा होगी. अभी भारत की सबसे तेज ट्रेन गतिमान एक्सप्रेस है जिसकी स्पीड 160 किलोमीटर प्रति घंटा है. अभी अहमदाबाद से मुंबई की 508 किमी की रेलयात्रा में फिलहाल 7 से 8 घंटे लगते हैं. बुलेट ट्रेन चालू होने पर 2.07 से 2.58 घंटे लगेंगे.



1 साल कम की डेडलाइन
सरकार ने इससे पहले दिसंबर 2023 डेडलाइन तैयार की थी. हालांकि, नए रेलवे मंत्री पीयूष गोयल ने सोमवार को घोषणा की कि ट्रेन मुंबई से अहमदाबाद की पहली ट्रिप 15 अगस्त 2022 को पूरा करेगी.

सरकार की अन्य रूट्स पर बुलेट ट्रेन चलने की मंशा
अहमदाबाद से मुंबई के बाद सरकार अन्य रूट्स पर लाइन विस्तार करने की योजना बना रही है. जो कि मुंबई से दिल्ली को जोड़ेगी. साथ ही मुंबई-चेन्नई, दिल्ली-कोलकाता, दिल्ली-नागपुर, मुंबई-नागपुर जैसे रूट्स भी डेवलप करेगी. हाल ही में आई मीडिया रिपोर्ट की माने तो सरकार दिल्ली से अमृतसर और अमृतसर से लुधियाना की अलग बुलेट ट्रेन चलने का खाका तैयार कर रही है.

चीन के ऊपर जापान
दुनियाभर में सबसे बड़े हाई-स्पीड ट्रैक वाले नेटवर्क की बात करें तो चीन सबसे आगे है. चीन में दुनिया की सबसे तेज बुलेट ट्रेन भी चलती है, लेकिन इस प्रोजेक्ट में तकनीकी सहयोग के लिए जापान को चुनने के पीछे उसकी तकनीक और सुरक्षात्मक पहलू हैं. जापान की बुलेट ट्रेन ज्यादा सुरक्षित मानी जाती हैं और अब तक कोई भी बड़ी दुर्घटना नहीं हुई है.
First published: September 13, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर