Home /News /world /

bilawal bhutto is likely to replace shah mahmood qureshi as foreign minister in new pakistan government

पाकिस्तान की नई सरकार में कौन बनेगा विदेश मंत्री? जोरों पर है इस युवा नेता के नाम की चर्चा

पाकिस्तान में इमरान खान की सरकार गिरने के बाद 11 अप्रैल को संसद नई सरकार चुनेगी. (ANI)

पाकिस्तान में इमरान खान की सरकार गिरने के बाद 11 अप्रैल को संसद नई सरकार चुनेगी. (ANI)

उल्लेखनीय है कि 9 अप्रैल की देर रात देर रात पाकिस्तानी संसद के निचले सदन नेशनल असेंबली में एक अविश्वास प्रस्ताव के जरिये इमरान खान को प्रधानमंत्री पद से हटा दिया गया. अविश्वास प्रस्ताव के जरिए सत्ता से बेदखल किए जाने वाले, वह पाकिस्तान के पहले पीएम हैं.

अधिक पढ़ें ...

    इस्लामाबाद: पाकिस्तान पीपल्स पार्टी (पीपीपी) के प्रमुख बिलावल भुट्टो को नई सरकार में अगला विदेश मंत्री नियुक्त किए जाने की संभावना है. उल्लेखनीय है कि 9 अप्रैल की देर रात देर रात पाकिस्तानी संसद के निचले सदन नेशनल असेंबली में एक अविश्वास प्रस्ताव के जरिये इमरान खान को प्रधानमंत्री पद से हटा दिया गया. जियो न्यूज ने खबर दी है कि प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति के पद अहम हैं, जबकि यह सवाल भी महत्वपूर्ण है कि नई सरकार में विदेश मंत्री कौन होगा? क्योंकि संयुक्त विपक्ष लगातार इमरान खान सरकार को ‘गलत’ विदेश नीतियों के लिए निशाना बना रहा था.

    जियो न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, ‘पीपीपी प्रमुख बिलावल भुट्टो-जरदारी पाकिस्तान के अगले विदेश मंत्री नियुक्त किए जा सकते हैं.’ ब्रिटेन के ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय से पढ़े 33 वर्षीय बिलावल ने ‘द इंडिपेंडेंट उर्दू’ को दिए साक्षात्कार में कहा कि पार्टी नए विदेश मंत्री के रूप में उनकी नियुक्ति पर फैसला करेगी. बिलावल भुट्टो पाकिस्तान की पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो और पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी के बेटे हैं. वह पूर्व राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री जुल्फिकार अली भुट्टो के नवासे हैं.

    इमरान खान के नेतृत्व की आलोचना करते हुए बिलावल ने कहा कि पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) सरकार ने विदेश मंत्रालय और राष्ट्रीय सुरक्षा समिति (एनएससी) को विवादास्पद बना दिया था. नेशनल असेंबली में इमरान खान सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान, बिलावल ने पूर्व विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी पर निशाना साधते हुए सवाल किया था कि वह राष्ट्रीय सुरक्षा समिति की बैठक में क्यों मौजूद नहीं थे? इस बैठक में पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ नीत सरकार को गिराने की तथाकथित ‘विदेशी साजिश’ पर चर्चा की गई थी.

    आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इमरान खान की सरकार गत 9 अप्रैल को गिर गई थी. पाकिस्तान की नेशनल असेंबली में अविश्वास प्रस्ताव पर हुई वोटिंग में इमरान खान सरकार के विरोध में 174 मत पड़े. पाकिस्तान नेशनल असेंबली में 342 सीटें हैं और बहुमत का आंकड़ा 172 है. इस तरह 3 साल, 7 महीने प्रधानमंत्री रहने के बाद इमरान खान को अपना पद छोड़ना पड़ा. अविश्वास प्रस्ताव के जरिए सत्ता से बेदखल किए जाने वाले, वह पाकिस्तान के पहले पीएम हैं.

    Tags: International news, Pakistan

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर