Home /News /world /

bilawal bhutto visit to china for talks with wang yi

चीन की यात्रा पर गुआंगझोऊ पहुंचे बिलावल, चीनी विदेशमंत्री से आपसी संबंधों पर करेंगे बातचीत

चीन के दौरे पर बिलावल भुट्टो (फाइल फोटो)

चीन के दौरे पर बिलावल भुट्टो (फाइल फोटो)

Bilawal Bhutto in china: दो दिवसीय यात्रा पर चीन पहुंचे पाकिस्तान के विदेशमंत्री बिलावल भुट्टो ने कहा है कि वह पाकिस्तान-चीन संबंधों पर गहन चर्चा के लिए चीनी स्टेट काउंसलर और विदेश मंत्री वांग यी से मिलने के लिए उत्सुक हैं.

बीजिंग. पाकिस्तान के नवनियुक्त विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो जरदारी चीन की यात्रा पर हैं, जहां वह चीन के विदेश मंत्री वांग यी के साथ मुलाकात करेंगे तथा दोनों देशों के बीच संबंधों को और प्रगाढ़ करने पर चर्चा करेंगे. दोनों नेताओं के बीच यह मुलाकात गुआंगझोऊ में होने वाली है क्योंकि देश की राजधानी बीजिंग में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़ने के कारण आंशिक तौर पर लॉकडाउन लागू है.

बिलावल ने ट्वीट किया, ‘ पहली द्विपक्षीय यात्रा के तहत गुआंगझोऊ में उतरा. आज पाकिस्तान और चीन के बीच राजनयिक संबंधों की स्थापना की 71वीं वर्षगांठ है. चीन के स्टेट काउंसलर एवं विदेश मंत्री वांग यी के साथ पाकिस्तान और चीन के बीच गहरे संबंधों पर बातचीत करने को लेकर उत्सुक हूं.’

बिलावल जरदारी इससे पहले न्यूयॉर्क गए थे जहां उन्होंने अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन से मुलाकात की थी और पाकिस्तान तथा अमेरिका के बीच संबंधों को गहरा करने पर चर्चा की थी. दोनों देशों के बीच संबंध पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान के शासनकाल में काफी खराब हो गए थे.  ब्लिंकन से मुलाकात के बाद बिलावल ने मीडिया से बातचीत में उन बातों को खारिज किया था कि अमेरिका के साथ संबंध बढ़ने से पाकिस्तान के चीन के साथ संबंध खराब हो सकते हैं.

पाकिस्तान की सरकारी समाचार एजेंसी एपीपी ने पहले अपनी एक रिपोर्ट में कहा था कि बिलावल के साथ विदेश मामलों की राज्य मंत्री हिना रब्बानी खार और वरिष्ठ अधिकारी भी यात्रा पर हैं.  चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजिआन ने शनिवार को पाकिस्तान और चीन के बीच राजनयिक संबंधों की स्थापना की 71वीं वर्षगांठ पर दोनों देशों को बधाई दी थी उन्होंने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से ट्वीट किया, ‘बधाई, 21 मई को पाकिस्तान और चीन के बीच राजनयिक संबंधों की स्थापना की 71वीं वर्षगांठ है. विदेश मंत्री बिलावल 21 मई को चीन आ रहे हैं.’

पढ़ें-  चीन के इस जहाज को 29 हज़ार फीट से जानबूझकर नीचे गिराया गया, ब्लैक बॉक्स से मिल रहे हैं संकेत: रिपोर्ट

इससे पहले बिलावल ने 12 मई को वांग के साथ वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से बातचीत की थी, जिसके बाद शरीफ और चीनी प्रधानमंत्री ली केकियांग के बीच एक वर्चुअल बैठक हुई थी. इस दौरान कराची विश्वविद्यालय में हाल ही में हुए आत्मघाती बम हमले और चीनी नागरिकों सुरक्षा प्रदान करने पर चर्चा की गई थी. पिछले चार दशकों में व्यापक रूप से भारत का मुकाबला करने के उद्देश्य से स्थापित किए गए पाकिस्तान-चीन के संबंध हमेशा घनिष्ठ रहे हैं, पाकिस्तान में समय-समय पर राजनीतिक संकट के बावजूद दोनों देशों के रिश्ते स्थिर रहे हैं.

पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने शुक्रवार को कहा कि अपनी बातचीत के दौरान बिलावल और वांग द्विपक्षीय संबंधों के सभी पहलुओं की समीक्षा करेंगे. इस दौरान पाकिस्तान और चीन के बीच मजबूत व्यापार और आर्थिक सहयोग पर विशेष ध्यान दिया जाएगा. वहीं, चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने कहा कि बिलावल की यात्रा चीन को उनकी विदेशी यात्राओं के पहले गंतव्य के रूप में ले जाने की उनकी आशा को साकार करेगी.

बता दें कि भारत के लगभग एक साल बाद 21 मई 1951 को पाकिस्तान और चीन ने राजनयिक संबंध स्थापित किए थे, जबकि भारत 1 अप्रैल 1950 को चीन जनवादी गणराज्य के साथ राजनयिक संबंध स्थापित करने वाला एशिया का पहला गैर-कम्युनिस्ट देश बना था.

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर