पाकिस्तान में ईशनिंदा के आरोपी की कोर्ट रूम में गोली मारकर हत्या

पाकिस्तान में ईशनिंदा के आरोपी की कोर्ट रूम में गोली मारकर हत्या
पाकिस्तान में ईशनिंदा के आरोपी की हमलावर ने हत्या कर दी. (सांकेतिक तस्वीर)

एक युवा मुस्लिम व्यक्ति ने बुधवार को पकिस्तान उत्तर-पश्चिमी शहर पेशावर के एक कोर्ट रूम में एक मुस्लिम व्यक्ति की गोली (Shot Dead In Court Room) मारकर हत्या (Murdered) कर दी.

  • Share this:
इस्लामाबाद. एक युवा मुस्लिम व्यक्ति ने बुधवार को पाकिस्तान उत्तर-पश्चिमी शहर पेशावर के एक कोर्ट रूम में एक मुस्लिम व्यक्ति की गोली (Shot Dead In Court Room) मारकर हत्या (Murdered) कर दी. मृतक पर ईशनिंदा (blasphemy) के आरोप में मुकदमा चला रहा था. अभी तक यह साफ़ नहीं हो पाया है कि हमलावर खालिद खान कड़ी सुरक्षा के बीच अदालत में कैसे आ गया? घटना के तत्काल बाद हमलावर को अदालत परिसर से गिरफ्तार कर लिया गया.

पाकिस्तान में ईशनिंदा नहीं की जाती बर्दाश्त

पुलिस अधिकारी आज़म खान के अनुसार मृतक ताहिर शमीम अहमद ने खुद को इस्लाम के नबी होने दावा किया था और दो साल पहले उसे ईशनिंदा के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. अस्पताल ले जाने से पहले ही अहमद की मृत्यु हो गई. ईशनिंदा पाकिस्तान में एक अत्यंत विवादास्पद मुद्दा है जिसका दोषी पाए जाने पर लोगों को आजीवन कारावास या मौत की सजा दी जा सकती है. पाकिस्तान में भीड़ और व्यक्ति अक्सर ईशनिंदा के मामले में कानून को अपने हाथ में ले लेते हैं.



ईशनिंदा के लिए मौत की सजा का प्रावधान
अभी तक ईशनिंदा के लिए मौत की सजा का प्रावधान है लेकिन कई बार सिर्फ एक आरोप लगाने मात्र से दंगे भड़क जाते हैं. घरेलू और अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार समूहों का कहना है कि अक्सर ईशनिंदा के आरोपों का इस्तेमाल धार्मिक अल्पसंख्यकों को डराने या व्यक्तिगत लड़ाई में निपटान के लिए किया जाता है.

ये भी पढ़ें: अमेरिकी चुनाव में टिकटॉक बनेगा रोड़ा! सीनेटरों ने समीक्षा कराने की मांग की

अच्छी खबर: रूस का दावा, 10 अगस्त से पहले आएगी दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन

वर्ष 2011 में पंजाब के एक गवर्नर को उसके ही गार्ड ने मार दिया था. उस गवर्नर ने असिया बीबी नाम की एक ईसाई महिला का बचाव किया था जिस पर ईशनिंदा का आरोप लगाया गया था. असिया बीबी को मौत की सजा सुनाई गई थी और उसने 8 साल मौत का इंतजार करते हुए जेल में बिताए और अंतरराष्ट्रीय मीडिया का ध्यान उसके मामले पर आकर्षित होने के बाद ही उसे छोड़ा गया. अपनी रिहाई पर इस्लामिक कटटरपंथियों द्वारा लगातार धमकी दिए जाने के बाद वह पिछले साल अपनी बेटियों के पास कनाडा चली गई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading