समंदर में डूब रही थी नाव, इटालियन कोस्टगार्ड ने 219 लीबिया प्रवासियों की जान बचाई

समंदर में डूब रही थी नाव, इटालियन कोस्टगार्ड ने 219 लीबिया प्रवासियों की जान बचाई
लीबियाई प्रवासियों से भरी नाव भूमध्यसागर में डूब रही थी

इटालियन कोस्टगार्ड (Italian Coastguard) ने शनिवार को एक नाव को बचाने के लिए मदद भेजी. इस नाव में लीबिया के 219 प्रवासी (Libiyan Migrant) सवार थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 30, 2020, 11:35 AM IST
  • Share this:
रोम. इटालियन कोस्टगार्ड (Italian Coastguard) ने शनिवार को एक नाव को बचाने के लिए मदद भेजी. इस नाव में लीबिया के 219 प्रवासी (Libiyan Migrant) सवार थे. इटालियन कोस्टगार्ड ने शनिवार को ब्रिटिश स्ट्रीट आर्टिस्ट बैंक्सी द्वारा फंडेड नाव (Boat) को बचाने के लिए मदद पहुंचाई. इस नाव में सवार लोगों ने मदद मांगते हुए कहा कि वे भूमध्य सागर में फंसा हुए हैं और इसमें बड़ी संख्या में प्रवासी सवार हैं.

नाव में सवार लोगों में महिलाएं और बच्चे भी थे शामिल

इटालियन कोस्टगार्ड ने बताया कि एक गश्ती नाव इतालवी द्वीप लैम्पेडुसा से रवाना कर दी गई है. इस नाव ने 219 प्रवासियों में से सबसे पहले उन 49 को बचाया है जो सबसे कमजोर और बुरी हालत में थे. इतालवी तट रक्षक ने कहा कि जहाज से जिन 49 लोगों को स्थानांतरित किया गया है, उनमें 32 महिलाएं और 13 बच्चे शामिल हैं।
फ्रासीसी नारीवादी लुई मिशेल के नाम पर रखा गया नाव का नाम
इस नाव को 19 वीं सदी की फ्रांसीसी नारीवादी लुई मिशेल के नाम पर एमवी लुई मिशेल रखा हुआ है जिसने पिछले सप्ताह काम करना शुरू किया था. लुईस मिशेल एक जर्मन नाव है जिसके 10 सदस्यी चालक दल ने रातोंरात ट्वीट्स किये और शनिवार को कहा कि इसकी हालत बिगड़ रही है.



नाव पर एक व्यक्ति की लाश भी रखी हुई थी

इस नाव के चालक दल ने इटली, माल्टा और जर्मनी में अधिकारियों से मदद की अपील की. उन्होंने कहा कि हम आपातकालीन स्थिति में पहुँच रहे हैं. हमें तत्काल मदद की जरूरत है. नाव के चालक दल द्वारा जारी एक ट्वीट में यह भी कहा गया कि नाव पर एक प्रवासी की लाश भी रखी हुई है. एक अन्य ट्वीट में नाव पर बहुत ज्यादा भीड़ होने के कारण नाव के आग न बढ़ पाने की बात कही गई थी.

संयुक्त राष्ट्र की एजेंसियों ने भी मदद की गुहार लगाई

इससे पहले कि इटालियन कोस्टगार्ड हस्तक्षेप करता तब तक इतालवी चैरिटी जहाज मेर जोनिओ ने कहा कि वह मदद करने के लिए ऑगस्टा के सिसिली बंदरगाह से निकल रहा है जो लम्पेदुसा की तुलना में काफी आगे है. संयुक्त राष्ट्र की दो एजेंसियों ने भी लुईस मिशेल और अन्य दो जहाजों की मदद के लिए गुहार लगाईं है. इन सभी में चार सौ से अधिक प्रवासी सवार हैं. दो सौ प्रवासी सी वाच 4 (Sea Watch 4) पर सवार हैं जो एक जर्मन चैरिटी शिप है जबकि 27 प्रवासी कमर्शियल टैंकर मॉर्स्क एटीन (Maersk Etienne) पर सवार थे.

ये भी पढ़ें: जापान में शिंजो आबे के इस्तीफे के बाद सुगा प्रधानमंत्री पद के सबसे प्रमुख दावेदार

बेलारूस में लुकाशेंकों के विरोध में शामिल हुईं हजारों महिलाएं, पत्रकारों की मान्यता की रद्द

'दी इंटरनेशनल आर्गेनाईजेशन फॉर माइग्रेशन' और 'दी यू एन हाई कमिश्नर फॉर रेफ्यूजीस' ने एक संयुक्त बयान में कहा है कि वे केंद्रीय भूमध्य सागर में यूरोपीय संघ के नेतृत्व वाली सर्च और बचाव क्षमता की निरंतर अनुपस्थिति को लेकर काफी चिंतित हैं. फिलहाल इटली हाल के वर्षों में भूमध्य सागर को पार कर आये अधिकांश लीबिया प्रवासियों का गंतव्य स्थल बन गया है. इन प्रवासियों के इतनी बड़ी संख्या में आ जाने के कारण रोम में तनाव फ़ैल गया है और माटेओ साल्विनी की दक्षिणपंथी लीग पार्टी को सफलता मिल रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading