परमाणु परीक्षण प्रतिबंध संधि लागू करना सुरक्षा के लिए महत्वपूर्ण है: संयुक्त राष्ट्र

संयुक्त राष्ट्र (United Nation) महासचिव एंतोनियो गुतारेस (Antonio Guterres) ने कहा है कि परमाणु परीक्षण (Nuclear testing) की विरासत केवल तबाही है.

News18Hindi
Updated: August 30, 2019, 3:15 PM IST
परमाणु परीक्षण प्रतिबंध संधि लागू करना सुरक्षा के लिए महत्वपूर्ण है: संयुक्त राष्ट्र
परमाणु परीक्षण प्रतिबंध संधि लागू करना है महत्वपूर्ण : संयुक्त राष्ट्र
News18Hindi
Updated: August 30, 2019, 3:15 PM IST
संयुक्त राष्ट्र (United Nation) महासचिव एंतोनियो गुतारेस (Antonio Guterres) ने कहा है कि परमाणु परीक्षण (Nuclear testing) की विरासत केवल तबाही है और जब दुनिया में तनाव बढ़ रहा है तब ऐसे में हमारी सामूहिक सुरक्षा इस बात पर निर्भर करती है कि परमाणु विस्फोटों (Nuclear explosions) को प्रतिबंधित करने वाली एक वैश्विक संधि लागू की जाए.

श्री गुटेरेस ने गुरुवार को इंटरनेशनल डे अगेंस्ट न्यूक्लियर टेस्ट के लिए अपने संदेश में कहा कि मैं उन देशों से एक बार फिर गुहार लगाना चाहूंगा (जिन्होंने अभी ऐसा नहीं किया है) कि वे CTBT (व्यापक परमाणु-परीक्षण-प्रतिबंध संधि) पर हस्ताक्षर करके उसकी पुष्टि करें, विशेषकर जिनका ऐसा करना संधि को क्रियान्वित करने के लिए अनिवार्य है. सीटीबीटी परमाणु निरस्त्रीकरण की दिशा में अंतरराष्ट्रीय प्रयासों का केंद्रीय स्तंभ है.

व्यापक स्तर पर समर्थन मिलने के बावजूद दो दशक से यह अभी क्रियान्वित नहीं हो पाई है. 184 देशों ने इस पर हस्ताक्षर किए थे और 168 ने इसकी पुष्टि की है. उन्होंने कहा कि उन पीड़ितों को सम्मानित करने के लिए परमाणु परीक्षण को स्थायी रूप से लाने की आवश्यकता है. महासचिव ने इस बात पर जोर दिया कि परमाणु निरस्त्रीकरण के लिए एक प्रभावी एवं कानूनी रूप से बाध्यकारी निषेध आवश्यक है, जो लंबे समय से अधर में लटका है. परमाणु परीक्षण के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय दिवस 1991 में, पूर्व सोवियत संघ के सबसे बड़े कजाकिस्तान के सेमलिपाल्टिंस्क में परमाणु परीक्षण स्थल के समापन का प्रतीक है. 450 से अधिक परीक्षण वहां हुए, जिसका प्रभाव दशकों बाद भी महसूस किया जा रहा है.

व्यापक परमाणु परीक्षण प्रतिबंध संधि संगठन (CTBTO) एक वियना-आधारित अंतर्राष्ट्रीय संगठन है. संयुक्त राष्ट्र के साझेदार फोरम CTBTO के लिए आयोग 1997 में स्थापित किया गया था और यह संधि और एक अनंतिम तकनीकी सचिवालय के लिए सभी राज्यों के हस्ताक्षर से बना एक पूर्ण निकाय शामिल हैं।

उन्होंने कहा कि कजाखस्तान, CTBTO राज्यों और सिविल सोसाइटी को CTBT के माध्यम से परमाणु परीक्षण को समाप्त करने के लिए सेना में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित करते हैं,

ये भी पढ़ें : हथियारों का आधुनिकीकरण करना नहीं बंद करेंगे: उत्तर कोरिया

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 30, 2019, 3:11 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...