होम /न्यूज /दुनिया /भारतीय प्रवासियों के खिलाफ ब्रिटेन की गृह मंत्री ने खोला मोर्चा, इस बात को लेकर जताई चिंता

भारतीय प्रवासियों के खिलाफ ब्रिटेन की गृह मंत्री ने खोला मोर्चा, इस बात को लेकर जताई चिंता

ब्रिटेन की गृह मंत्री सुएला ब्रेवरमैन ने भारतीय प्रवासियों की बढ़ती संख्या पर चिंता जतायी है. (फोटो-REUTERS)

ब्रिटेन की गृह मंत्री सुएला ब्रेवरमैन ने भारतीय प्रवासियों की बढ़ती संख्या पर चिंता जतायी है. (फोटो-REUTERS)

एक इंटरव्यू के दौरान ब्रिटेन की गृह मंत्री ने कहा कि ब्रिटेन में अपने वीजा से अधिक समय बिताने वाले लोगों में भारतीय सबस ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

ब्रिटेन की गृह मंत्री ने भारतीयों के लिए प्रवासी पॉलिसी को लेकर चिंता जाहिर की है.
इंटरव्यू के दौरान उन्होंने कहा कि वीजा खत्म होने के बाद भी अधिकांश भारतीय ब्रिटेन में रह रहे हैं.
ब्रिटेन की गृह मंत्री ने भारत के साथ खुला व्यापार पॉलिसी को लेकर भी चिंता जाहिर की है.

लंदन. ब्रिटेन की गृह मंत्री सुएला ब्रेवरमैन ने भारत और ब्रिटेन के बीच व्यापार सौदे पर टिप्पणी करते हुए कहा कि इससे देश में प्रवासियों की संख्या बढ़ सकती है और ब्रेक्सिट के निर्धारित लक्ष्यों पर प्रभाव पड़ सकता है. गृह मंत्री सुएला ब्रेवरमैन ने यह बात द स्पेक्टेटर पत्रिका के साथ एक इंटरव्यू के दौरान कही. बता दें कि भारतीय मूल की ब्रेवरमैन की यह टिप्पणी ब्रिटेन की पीएम लिज ट्रस की सरकार के वादे के खिलाफ है, जिसने यह स्पष्ट किया था कि ब्रिटेन की नई सरकार भारत के साथ मुक्त व्यापार समझौते को अपनी तय समय-सीमा तक खत्म करने के लिए प्रतिबद्ध है.

द स्पेक्टेटर के अनुसार, ब्रेवरमैन इस फैसले से हैरान थीं कि लिज ट्रस की सरकार भारत के साथ फ्री ट्रेड एग्रीमेंट (FTA) को लेकर आगे बढ़ाने और इसमें इमिग्रेशन को भी शामिल करना चाहती है. गृह सचिव ने कहा, “मैं भारतीयों के लिए ब्रिटेन की सीमा खोलने वाली इस नीति को लेकर काफी चिंतित हूं. क्योंकि मुझे नहीं लगता कि लोगों ने ब्रेग्जिट के लिए वोट दिया था.” साथ ही जब उनसे पूछा गया कि क्या वो ऐसे समझौते का समर्थन करेंगी, जिसमें छात्रों और उद्यमियों के लिए वीजा संबंधित नियमों को लचीला किया जाए, इस पर उन्होंने कहा कि मुझे इस पर कुछ आपत्ति है. अगर हम ब्रिटेन में इमिग्रेशन के हालात को देखें तो यहां वीजा खत्म होने के बाद सभी ज्यादा समय बिताने वाले लोग भारतीय हैं.

ब्रेवरमैन ने इस दौरान ब्रिटेन से यूरोपियन कन्वेशन ऑन ह्यूमन राइट्स को छोड़ने का भी आह्वान किया है, जबकि उनकी सरकार इस सम्मेलन से जुड़ा रहना चाहती है. ब्रेवरमैन पहले भी अपना इरादा साफ कर चुकी हैं कि वो ब्रिटेन में प्रवासियों की लाखों की भीड़ को सीमित करने पर काम करेंगी, जो पिछली कंजर्वेटिव पार्टी सरकारें नहीं कर पायीं. ब्रिटेन के गृह मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक साल 2020 में 20,706 भारतीयों ने यूके में अपने वीजा से अधिक समय बिताया. साल 2020 में 4 लाख 73 हजार 600 भारतीयों ने जिनका वीजा 12 महीने के अंदर खत्म होने वाला था, उनमें 4 लाख 52 हजार 894 लोगों ने तो ब्रिटेन छोड़ दिया था. लेकिन इनमें 4.4 फीसदी लोगों ने ओवरस्टे किया.

Tags: Britain

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें