Home /News /world /

क्वीन एलिजाबेथ के हंसों को हुई ये रहस्यमयी बीमारी, 26 को मारना पड़ा

क्वीन एलिजाबेथ के हंसों को हुई ये रहस्यमयी बीमारी, 26 को मारना पड़ा

ब्रिटेन की क्वीन एलिजाबेथ देश में मिलने वाले हर मूक हंस की मालकिन हैं. ऐसा बहुत ही पहले से चलता आया है.

ब्रिटेन की क्वीन एलिजाबेथ देश में मिलने वाले हर मूक हंस की मालकिन हैं. ऐसा बहुत ही पहले से चलता आया है.

क्वीन एलिजाबेथ द्वितीय (Queen Elizabeth Swans) के हंसों के मार्कर डेविड बार्बर ने उन्हें हंसों के मारे जाने की खबर दे दी है. इस जानकारी को पाकर एलिजाबेथ काफी दुखी हैं और उन्होंने कहा है कि उन्हें हर घटनाक्रम से अपडेट कराया जाता रहे. ब्रिटेन की क्वीन एलिजाबेथ देश में मिलने वाले हर मूक हंस की मालकिन हैं.

अधिक पढ़ें ...

    लंदन. ब्रिटेन (Britain) के शाही परिवार (Royal Family) के विंडसर कैसल (Windsor Castle) में टेम्स नदी (Thames River) के किनारे पर क्वीन एलिजाबेथ द्वितीय (Queen Elizabeth) के हंसों के झुंड में से 26 को मार डाला (Queen Elizabeth Swans) गया है. दरअसल, ऐसा इसलिए किया गया है, क्योंकि बर्ड फ्लू (Bird Flu) के फैलने का खतरा पैदा हो रहा है. छह हंसों को लेकर बताया गया कि उनकी मौत एवियन इंफ्लूएंजा (Avian influenza) से हुई. ऐसे में वायरस के फैलने का डर बना हुआ है. अभी तक कुल मिलाकर 33 पक्षियों की मौत हो चुकी है.

    पर्यावरण, खाद्य और ग्रामीण मामलों के विभाग द्वारा स्वान लाइफलाइन बचाव केंद्र के पशु चिकित्सकों को मानवीय रूप से हंसों को मारने के लिए बुलाया गया. क्वीन एलिजाबेथ सभी मूक हंसों की मालिक है, इन हंसों को ब्रिटेन में खुले पानी में पाया जाता है. द सन ऑनलाइन की रिपोर्ट के मुताबिक, क्वीन के हंसों के मार्कर डेविड बार्बर ने उन्हें हंसों के मारे जाने की खबर दे दी है. इस जानकारी को पाकर एलिजाबेथ काफी दुखी हैं और उन्होंने कहा है कि उन्हें हर घटनाक्रम से अपडेट कराया जाता रहे. ब्रिटेन की क्वीन एलिजाबेथ देश में मिलने वाले हर मूक हंस की मालकिन हैं. ऐसा बहुत ही पहले से चलता आया है.

    लंदन में कोविड लॉकडाउन लगाकर खुद पार्टी कर रहे थे बोरिस जॉनसन, इनविटेशन मेल लीक
    12वीं शताब्दी में राजा ने ठोका सभी हंसों पर दावा
    हर साल गर्मियों में टेम्स नदी पर पारंपरिक रूप से एक कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है, जिसमें हंसों के झुंड और उनकी संख्या का मूल्यांकन कर उनका रिकॉर्ड रखा जाता है. इस कार्यक्रम को Swan Upping (हंस पकड़ने की एक गतिविधि) के रूप में जाना जाता है. ये कार्यक्रम 12वीं शताब्दी से चला आ रहा है, जब ब्रिटेन में खुले पानी में सभी अचिह्नित मूक हंसों के स्वामित्व का दावा शाही तख्त के राजा ने किया था. इसके पीछे का इरादा ये था कि भोजन के लिए हंसों की सप्लाई कभी बाधित न हो. वर्तमान में महारानी इस हंसों पर अपने इस अधिकार का इस्तेमाल केवल टेम्स नदी के कुछ हिस्सों और आसपास की सहायक नदियों में करती हैं.

    Swan Upping में क्या किया जाता है?
    हंसों पर स्वामित्व को ‘वर्शिपफुल कंपनी ऑफ विंटर्स’ और ‘द वर्शिपफुल कंपनी ऑफ डायर्स’ के साथ साझा किया जाता है, जिन्हें 15वीं शताब्दी में राजा द्वारा स्वामित्व के अधिकार दिए गए थे. वहीं, अब Swan Upping के दौरान हंसों और उनके बच्चों का हेल्थ चेकअप किया जाता है. इसके अलावा, उनका वजन लिया जाता है और किसी चोट का मूल्यांकन किया जाता है.

    पाकिस्तानी मूल के नेता लॉर्ड नजीर अहमद बच्चों के साथ दुष्कर्म के दोषी करार

    हालांकि, वर्तमान में ब्रिटेन में जारी कोरोनावायरस महामारी की वजह से हंसों की गिनती का काम बाधित होने वाला है. इस बात का अनुमान लगाया गया है कि विंडसर कैसल के तीन किमी के दायरे में 150 से 200 हंस हैं.

    Tags: Avian Influenza, Bird Flu, Britain, Queen elizabeth II

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर