ब्रिटेन ने 2016 में किया था Corona से निपटने का अभ्यास, आरटीआई में खुलासा

फोटो सौ. (AFP)

‘द गार्जियन’ ने सूचना के अधिकार कानून (RTI) के तहत मिली जानकारी के आधार पर शुक्रवार को यह खुलासा किया कि ‘एक्सरसाइज एलिस’ को 2016 में बेहद गोपनीय (Secret) तरीके से अंजाम दिया गया था.

  • Share this:
    लंदन. ब्रिटिश सरकार (British Government) ने पांच साल पहले एक अभ्यास किया था, जिसका मकसद मर्स की दस्तक से होने वाले दुष्प्रभावों को आंकना और उससे निपटने के उपाय तलाशना था. मर्स एक श्वास संक्रमण है, जो कोरोना वायरस (Coronavirus) के बेहद घातक स्वरूप ‘मर्स-कोव’ की जद में आने से पनपता है. ‘द गार्जियन’ ने सूचना के अधिकार कानून के तहत मिली जानकारी के आधार पर शुक्रवार को यह खुलासा किया.

    अखबार के मुताबिक ‘एक्सरसाइज एलिस’ को 2016 में बेहद गोपनीय तरीके से अंजाम दिया गया था. यह कोविड-19 की दस्तक से पांच साल पहले तक ब्रिटेन में महामारी प्रबंधन को लेकर किए गए दर्जनभर से अधिक अभ्यासों में से एक था. इसमें पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड (पीएचई) के अलावा स्वास्थ्य एवं सामाजिक कल्याण विभाग (डीएचएससी) के अधिकारी शामिल हुए थे. पीएचई ने पहले राष्ट्रीय सुरक्षा का हवाला देते हुए अभ्यास से जुड़ी जानकारी देने से मना कर दिया था. अब जनता के बीच सभी अभ्यास की जानकारी सार्वजनिक करने की मांग जोर पकड़ रही है.

    ब्रिटेन के एक शीर्ष संक्रामक रोग विशेषज्ञ ने बताया कि ‘एक्सरसाइज एलिस’ कोविड-19 महामारी के मद्देनजर पूरी तरह से प्रासंगिक था. इसका खाका फ्लू की रोकथाम के लिए किए जाने वाले उपायों के आधार पर खींचा गया था. पर प्रमुख सलाहकार समितियों को अभ्यास का ब्योरा नहीं उपलब्ध कराया जाना बेहद आश्चर्यजनक है.

    ये भी पढ़ें: G7 Summit 2021: जी-7 शिखर सम्मेलन में कोरोना के अलावा जलवायु परिवर्तन को लेकर होगी चर्चा

    अक्तूबर 2020 में ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री मैट हैनकॉक ने ऐसे ही एक अभियान ‘एक्सरसाइज सिग्नस’ पर रिपोर्ट प्रकाशित की थी. उन्होंने ब्रिटिश संसद को बताया था कि ‘एक्सरसाइज सिग्नस’ फ्लू महामारी को ध्यान में रखकर तैयार की गई थी. इसका लक्ष्य अन्य संभावित महामारियों का खतरा आंकना और उसके प्रसार को रोकने के लिए उपाय ढूंढना नहीं था.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.