• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • ब्रिटेन में बच्चों में फैल रहा कोरोना, 7 से 11 साल के हर 37 में से एक बच्चा संक्रमित

ब्रिटेन में बच्चों में फैल रहा कोरोना, 7 से 11 साल के हर 37 में से एक बच्चा संक्रमित

स्कूल खुलने के बाद 11 सितंबर तक रेंडम जांच के दौरान 2.74% स्कूली बच्चे संक्रमित मिले (AP)

स्कूल खुलने के बाद 11 सितंबर तक रेंडम जांच के दौरान 2.74% स्कूली बच्चे संक्रमित मिले (AP)

इंग्लैंड में आम लोगों की रेंडम जांच में 80 में से एक व्यक्ति पॉजिटिव पाया गया, सबसे ज्यादा संक्रमण का स्तर हर 45 में से एक स्कॉटलैंड में सामने आया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    लंदन. अमेरिका के बाद ब्रिटेन (Britain) में स्कूल खुलते ही कोरोना वायरस (Coronavirus) के खतरे की घंटी भी बज गई. ब्रिटेन में 7 से 11 साल के हर 37 बच्चों में से एक बच्चा कोरोना संक्रमित मिल रहा है. एक सितंबर को अधिकांश स्कूल खुलने के बाद 11 सितंबर तक रेंडम जांच के दौरान 2.74% स्कूली बच्चे संक्रमित मिले. सांख्यिकी विभाग के अनुसार इंग्लैंड में आम लोगों की रेंडम जांच में 80 में से एक व्यक्ति पॉजिटिव पाया गया, सबसे ज्यादा संक्रमण का स्तर हर 45 में से एक स्कॉटलैंड में सामने आया है.

    स्कॉटलैंड की फर्स्ट मिनिस्टर निकाेला स्टर्जन ने एंबुलेंस व्यवस्था के लिए सेना की मदद का आग्रह किया है. वहीं, इंग्लैंड के स्वास्थ्य मंत्रालय ने स्कूलों को 3 लाख एयर मॉनिटर्स मुहैया कराए हैं. इनके जरिए क्लासरूम में हवा की क्वालिटी की निरंतर जांच की जाती है. प्रो. कैथरीन नोआकीस के अनुसार हवादार क्लासरूम से संक्रमण का खतरा 70% तक कम होता है.

    मास्क नहीं लगाने पर पुलिस ने उतरवा दिए महिला के सारे कपड़े! बदला लेने के लिए पुलिस पर किया केस

    रोनाप्रेव से होगा कोरोना मरीजों का इलाज
    ब्रिटेन के अस्पतालों में कोरोना संक्रमण से जूझ रहे हजारों मरीजों के लिए नए एंटीबडी उपचार को अपनाने का फैसला लिया गया है. अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को कोरोना संक्रमण के दौरान जिस रोनाप्रेव (Ronapreve) नामक एंटीबडी उपचार का इस्तेमाल किया गया था उसका इी इस्तेमाल किया जाना है. बता दें कि ब्रिटेन में शनिवार को कोरोना संक्रमण के 30,144 नए मामले सामने आए और 164 नई मौतें दर्ज की गई.

    उल्लेखनीय है कि दो मोनोक्लोनल एंटीबडी का मिश्रण रोनाप्रेव अस्पतालों में शुरू में उन लोगों को दिया जाएगा, जिनमें कोरोना वायरस के खिलाफ एंटीबडी प्रतिक्रिया नहीं हुई. इस उपचार का इस्तेमाल पिछले वर्ष तब किया गया था, जब डोनाल्ड ट्रंप को कोरोना वायरस संक्रमण हुआ था और उन्हें प्रायोगिक दवाएं दी जा रही थीं.

    PHOTOS: चावल खाने वाले हो जाएं सावधान, अगर ऐसा नहीं किया तो हो सकता है कैंसर

    ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री साजिद जाविद (Sajid jawid) ने कहा, ‘ब्रिटेन के अस्पतालों में हमने उन मरीजों के लिए नए उपचार की शुरुआत की है, जिन्हें बहुत अधिक खतरा है. इस उपचार के जरिए अगले हफ्ते से ही हम संक्रमितों को बचाना शुरू कर देंगे.’ उन्होंने बताया कि यह दवा उन कोरोना मरीजों को दी जाएगी जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर है. जिनमें संक्रमण से पीड़ित होने या कोरोना वैक्सीन लगने के बाद भी कोरोना वायरस के खिलाफ एंटीबडी नहीं बन पाती. (एजेंसी इनपुट के साथ)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज