Home /News /world /

कोवैक्सीन ले चुके भारतीय आज से कर सकेंगे UK की यात्रा, क्वारंटाइन का झंझट खत्म

कोवैक्सीन ले चुके भारतीय आज से कर सकेंगे UK की यात्रा, क्वारंटाइन का झंझट खत्म

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) से कोवैक्सीन को हरी झंडी मिलने के बाद ब्रिटेन ने भी यात्रा में राहत देने की घोषणा की थी.

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) से कोवैक्सीन को हरी झंडी मिलने के बाद ब्रिटेन ने भी यात्रा में राहत देने की घोषणा की थी.

UK Covid Travel Update: यूके के यात्रा नियमों ने देशों को तीन अलग-अलग श्रेणियों में विभाजित किया है. ग्रीन, एम्बर और रेड. भारत को एम्बर श्रेणी में रखा गया है. नियमों में नए बदलाव के मुताबिक सिर्फ एक कैटेगरी होगी- रेड और दूसरे देशों से आने वाले ट्रैवल रूल्स. नियम यूके की यात्रा करने वाले व्यक्तियों के टीकाकरण की स्थिति पर निर्भर करेंगे. यूके सरकार की वेबसाइट के मुताबिक, “सोमवार से इंग्लैंड की अंतरराष्ट्रीय यात्रा के नियम रेड, एम्बर, ग्रीन एकल रेड लिस्ट में बदल जाएंगे. ऐसे देश और क्षेत्र जो रेड लिस्ट में नहीं हैं, वहां के यात्रियों के टीकाकरण की स्थिति पर उनकी यात्रा निर्भर करेगी.”

अधिक पढ़ें ...

    लंदन. ब्रिटेन जाने का इंतजार कर रहे भारतीयों के लिए खुशखबरी है. भारत बायोटेक (Bharat Biotech) की वैक्सीन कोवैक्सीन (Covaxin) ले चुके लोग 22 नवंबर से यूके की यात्रा कर पाएंगे. ब्रिटेन ने भारत की कोवैक्सीन को अपनी स्वीकृत टीकों की लिस्ट यानी अप्रूवल लिस्ट में शामिल कर लिया है. लिहाजा आज यानी 22 नवंबर से भारत बायोटेक-निर्मित टीका लगवाने वाले यात्रियों को अब यूके में क्वारंटाइन (Coronavirus Quarantine) नहीं होना पड़ेगा. यूके सरकार ने कोवैक्सीन के साथ-साथ चीन की सिनोवैक और सिनोफार्म वैक्सीन को भी अप्रूव्ड वैक्सीन की लिस्ट में शामिल किया है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) से कोवैक्सीन को हरी झंडी मिलने के बाद ब्रिटेन ने भी यात्रा में राहत देने की घोषणा की थी.

    यूके सरकार का यह कदम विश्व स्वास्थ्य संगठन की इमरजेंजी यूज की लिस्ट को फॉलो करता है. कोवैक्सीन भारत में इस्तेममाल की जाने वाली दूसरी सबसे बड़ी वैक्सीन है. पहले कोवैक्सीन लगवा चुके इंटरनेशनल यात्रियों को यूके जाने के बाद क्वारंटाइन में रहना पड़ता था, लेकिन आज सुबह चार बजे से नियम लागू हो गए और अब ऐसा नहीं होगा.

    मां के गर्भ में पल रहे बच्चे का वजन कम कर सकता है धुआं, पढ़ें ये स्टडी

    77.8 प्रतिशत प्रभावी है वैक्सीन
    कोवैक्सीन ने लक्षण वाले कोरोना मरीजों पर 77.8 प्रतिशत प्रभाव दिखाया है. वायरस के नए डेल्टा वेरिएंट के खिलाफ यह 65.2 प्रतिशत कारगर है. भारत बायोटेक कंपनी ने जून में कहा था कि उसने तीसरे चरण के परीक्षणों से कोवैक्सीन के प्रभाव का अंतिम विश्लेषण किया है. बता दें कि WHO के कोवैक्सीन को मंजूरी देने से पहले 16 देशों ने भारत से वैक्सीन लगवाने वाले यात्रियों को इजाजत देने के उद्देश्य से इस वैक्सीन को स्वीकार किया था.

    यूके सरकार द्वारा पूरी तरह से टीकाकृत माने जाने वाले व्यक्तियों को यह नहीं करना होगा-
    प्रस्थान पूर्व कोरोना जांच.
    8वें दिन कोरोना जांच.
    इंग्लैंड पहुंचने के बाद 10 दिनों के लिए क्वारंटाइन.

    जिन यात्रियों को यूके यात्रा नियमों के तहत पूरी तरह से टीकाकृत माना गया है, उन्हें यह करना होगा-
    इंग्लैंड पहुंचने के दूसरे दिन कोरोना जांच का भुगतान.
    इंग्लैंड पहुंचने से पहले 48 घंटों में किसी भी समय अपना यात्री लोकेटर फॉर्म भरें.
    इंग्लैंड पहुंचने के बाद दूसरे दिन या उससे पहले कोविड-19 की जांच कराएं.

    हार्ट अटैक और स्ट्रोक से बचना है तो रात 10 से 11 बजे के बीच सो जाइए- स्टडी

    बता दें कि यूके के यात्रा नियमों ने देशों को तीन अलग-अलग श्रेणियों में विभाजित किया है. ग्रीन, एम्बर और रेड. भारत को एम्बर श्रेणी में रखा गया है. नियमों में नए बदलाव के मुताबिक सिर्फ एक कैटेगरी होगी- रेड और दूसरे देशों से आने वाले ट्रैवल रूल्स. नियम यूके की यात्रा करने वाले व्यक्तियों के टीकाकरण की स्थिति पर निर्भर करेंगे. यूके सरकार की वेबसाइट के मुताबिक, “सोमवार से इंग्लैंड की अंतरराष्ट्रीय यात्रा के नियम रेड, एम्बर, ग्रीन एकल रेड लिस्ट में बदल जाएंगे. ऐसे देश और क्षेत्र जो रेड लिस्ट में नहीं हैं, वहां के यात्रियों के टीकाकरण की स्थिति पर उनकी यात्रा निर्भर करेगी.”

    Tags: 10 common symptoms of Coronavirus, Bharat Biotech, Coronavirus, Covaxin Price

    अगली ख़बर